जेल से फरार होने की कोशिश में एक कैदी की मौत, जेलर सहित 12 घायल 

जेल से फरार होने की कोशिश में एक कैदी की मौत, जेलर सहित 12 घायल फोटो प्रतीकात्मक

पणजी (भाषा)। गोवा में सदा उप जेल में करीब 49 कैदियों ने पूरी जेल को ‘बंधक’ बनाकर वहां से भागने का प्रयास किया जिसमें एक कैदी की मौत हो गई जबकि जेलर, दो सुरक्षाकर्मी और नौ कैदी घायल हो गए।

पुलिस ने बुधवार को बताया कि मंगलवार रात करीब 11 बजे हाथापाई में जेल में बंद हत्यारोपी विनायक कोरबाटकर की कथित तौर पर चाकू घोंपकर हत्या कर दी गई। उसे गत वर्ष जुलायी में हत्या के एक मामले में उत्तरी गोवा में कोलवाले जेल से दक्षिणी गोवा में वास्को शहर के समीप सदा उप जेल लाया गया था। अतिरिक्त महानिरीक्षक (कारागार) सिद्धिविनायक नाइक ने बुधवार को कहा, “49 कैदियों ने मंगलवार रात मामूली सी बात पर पूरी जेल को बंधक बना लिया और खूब तोड़फोड़ की। उन्होंने जेलर विट्ठल गवास और दो अन्य सुरक्षा कर्मियों पर हमला कर दिया जो अभी अस्पताल में भर्ती हैं।” उन्होंने बताया कि उत्पात मचाने के दौरान कैदियों ने जेलर के कार्यालय के फर्नीचर समेत जेल की संपत्ति को कथित तौर पर नुकसान पहुंचाया। पुलिस ने बताया कि कोरबाटकर घायलावस्था में मिला और उस पर कथित रूप से चाकू से हमला किया गया था। उसे नजदीक के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां डॉक्टरोंं ने उसे मृत लाया गया घोषित कर दिया गया।

सिद्धिविनायक नाइक ने बताया कि कैदियों ने कथित तौर पर जेल के सुरक्षा घेरे को तोड़ा और जेल के मुख्य गेट के पास पहुंच गये लेकिन स्थिति को नियंत्रण में करने के लिए पहुंचे पुलिसकर्मियों ने उन्हें रोक दिया। बाद में कैदियों को उन जेलों में बंद किया गया जिन्हें इस घटना में नुकसान नहीं पहुंचा था। उन्होंने कहा, “पांच कैदियों का गोवा मेडिकल कॉलेज और चार कैदियों का चिकालिम कॉटेज अस्पताल में इलाज चल रहा है।” पुलिस अधीक्षक (दक्षिण) चंदन चौधरी ने बुधवार संवाददाताओं से कहा, “आधी रात के बाद ही हालाब काबू किए जा सके।” परेशानी उसके बाद शुरू हुई जब कोरबाटकर को गोवा से बाहर भेजने के आदेश के मुताबिक उसे महाराष्ट्र में ओरास जेल ले जाया गया जहां कल जेल प्रशासन ने उसे रखने से मना कर दिया।

नाइक ने कहा, “कोरबाटकर को वापस सदा उप जेल लाया गया और ओरास जेल प्रशासन के उसे रखने से इनकार करने के बाद हम अदालत से निर्देश प्राप्त करने के लिए आज उसे अदालत में पेश करना चाहते थे।” सदा उप जेल में मरम्मत का काम शुरू होना था जिसके चलते जेल को आज खाली करना और कैदियों को कोलवले जेल भेजा जाना था। चूंकि गोवा की राज्यपाल मृदुला सिन्हा का बुधवार को कोलवले जेल का दौरा करने का कार्यक्रम था, इसलिए कैदियों को वहां से हटाने के कार्यक्र्रम को स्थगित कर दिया गया था। नाइक ने कहा, “कैदियों को रखने के लिए सदा उप जेल अब सुरक्षित नहीं रही गयी है। हम उन्हें शनिवार को कोलवले जेल भेजेंगे।” उन्होंने बताया कि सदा उप जेल की सभी महिला कैदियों को पहले ही कोलवले जेल भेजा जा चुका है।

Share it
Top