जाट आंदोलन: केंद्र ने अर्धसैनिक बलों की 247 कंपनियों की तैनाती की, कई जगह बवाल में दो पुलिसकर्मी घायल

जाट आंदोलन: केंद्र ने अर्धसैनिक बलों की 247 कंपनियों की तैनाती की, कई जगह बवाल में दो पुलिसकर्मी घायलघायल पुलिसकर्मी। 

नई दिल्ली (भाषा)। केंद्र ने जाट आंदोलन के मद्देनजर हरियाणा, दिल्ली और उत्तर प्रदेश में अर्धसैनिक बलों के 24,700 कर्मियों को तैनात किया है। इन बलों की तैनाती का काम देखने वाले अधिकारियों ने बताया कि इन बलों की 247 कंपनियों पर राष्ट्रीय राजधानी एवं उसके आसपास के क्षेत्रों, हरियाणा एवं उत्तर प्रदेश के हिस्सों में सुरक्षा का जिम्मा डाला गया है। वहीं खबर मिली है कि कयी जगहों पर प्रदर्शनकारियों ने बवाल किया है।

एक अर्धसैनिक कंपनी में औसत 100 कर्मी होते हैं। उन्होंने बताया कि इन कर्मियों को उत्तर भारत में विभिन्न अर्धसैनिक बल के केंद्रों से लाया गया तथा उनकी तैनाती में रातभर बड़े ट्रक एवं वाहन लगे रहे। इन टुकड़ियों को सीआरपीएफ, उससे संबद्ध त्वरित कार्यबल, आईटीबीपी और एसएसबी से लाया गया है। सीआरपीएफ ने अपनी कुल 270 में से सर्वाधिक 130 कंपनियां तैनात की हैं। अधिकारियों ने बताया कि हरियाणा में 124 कपंनियां, दिल्ली और उसके आसपास 114 और उत्तर प्रदेश में नौ कंपनियां तैनात की गयी हैं।

केंद्र ने शनिवार को ही दिल्ली और उसके आसपास के राज्यों के पुलिस बलों को आंदोलनकारियों को राजधानी की सीमा पर पहुंचने से पहले ही रोक देने को कहा था। गृहमंत्रालय ने दिल्ली पुलिस और हरियाणा, उत्तर प्रदेश एवं राजस्थान की सरकारों को जाट प्रदर्शनकारियों को राष्ट्रीय राजधानी पहुंचने से रोकने के लिए धारा 144 लगाने को कहा था।

जाटों ने नौकरियों एवं शिक्षा में आरक्षण की मांग को लेकर दिल्ली में प्रदर्शन की धमकी दी है। मंत्रालय ने परामर्श जारी कर प्रदर्शनकारियों को दिल्ली में दाखिल होने से काफी पहले गिरफ्तार कर लेने या पकड लेने, राजमार्गों पर प्रदर्शनकारियों को लेकर जा रही बसों को आगे नहीं बढने देने को कहा है। अखिल भारतीय जाट आरक्षण संघर्ष समिति ने अपनी मंागों पर दबाव बनाने के लिए 20 मार्च से संसद का घेराव करने की धमकी दी है।

Share it
Share it
Share it
Top