‘विकीपीडिया की तर्ज पर वीडियोपीडिया बनाने की आवश्यकता’

‘विकीपीडिया की तर्ज पर वीडियोपीडिया बनाने की आवश्यकता’वीडियोपीडिया हो सकता है विकिपीडिया से बेहतर।

नई दिल्ली। सोशल मीडिया का दायरा बहुत व्यापक है और आज इसने हर आदमी को पत्रकार बना दिया है। इसे और विस्तारित करने के क्रम में विकीपीडिया की तर्ज पर अब वीडियोपीडिया बनाए जाने की भी आवश्यकता है जिसकी अधिक प्रमाणिकता होगी।

ये विचार यहां ‘दैनिक जीवन में सोशल मीडिया का प्रभाव’ विषय पर आयोजित एक सेमिनार में व्यक्त किए गए। क्रिएटिव वर्ल्ड मीडिया एकेडमी एवं द्वारका परिचय समूह द्वारा आयोजित इस सेमिनार में विभिन्न क्षेत्रों से जुड़े लोगों ने भाग लिया। एकेडमी के संस्थापक एस.एस डोगरा ने कहा कि सोशल मीडिया का दायरा बहुत व्यापक हो चला है जिसके नकारात्मक और सकारात्मक दोनों तरह के प्रभाव हैं। उन्होंने विकीपीडिया की तर्ज पर वीडियोपीडिया बनाए जाने की आवश्यकता जताई और कहा कि इसकी अधिक प्रमाणिकता होगी।

इस अवसर पर हंसराज कॉलेज की एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. कावेरी तथा दिल्ली इंटरनेशनल स्कूल की प्रधानाचार्य रश्मि मलिक ने छात्रों से सोशल मीडिया के नकारात्मक प्रभाव से बचने तथा इसका इस्तेमाल सकारात्मक चीजों के लिए करने को कहा। सेमिनार में कई वक्ताओं ने कहा कि आज सोशल मीडिया के जरिए हर आदमी पत्रकार बन गया है। इस मौके पर ‘एजुकेशन हब’ नाम की किताब का भी विमोचन किया गया। कार्यक्रम में शिक्षा, मीडिया और फिल्म क्षेत्र से जुड़ी कई हस्तियां शामिल हुईं।

Share it
Top