तीन कृषि कानूनों के खिलाफ शीतकालीन सत्र के दौरान 500 किसान रोजाना संसद तक निकालेंगे ट्रैक्टर रैली

तीन कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की सीमाओं पर आंदोलनरत किसानों के विरोध प्रदर्शन का एक साल पूरा हो रहा है। इस दौरान संयुक्त किसान मोर्चा ने बड़ा ऐलान किया है।

तीन कृषि कानूनों के खिलाफ शीतकालीन सत्र के दौरान 500 किसान रोजाना संसद तक निकालेंगे ट्रैक्टर रैली

26 नवंबर 2020 से दिल्ली की सीमाओं पर डटे हैं हजारों किसान। फोटो प्रतीकात्मक

नई दिल्ली। किसान आंदोलन की अगुवाई कर रहे किसान यूनियन के संगठन संयुक्त किसान मोर्चा (SKM) ने सभी किसानों अह्वान किया है कि वो 26 नवंबर दिल्ली में मोर्चों पर पहुंचे। 26 नवंबर को दिल्ली बॉर्डर पर ऐतिहासिक आंदोलन का एक साल पूरा हो रहा है। इसके अलावा एसकेएम ने किसान संगठनों से अपने-अपने राज्यों में विरोध प्रदर्शन की अपील की है।

मंगलवार को सिंघू मोर्चा पर संयुक्त किसान मोर्चा की बैठक में 26 नवंबर को और उसके बाद दिल्ली मोर्चों पर और पूरे देश में, भारत में ऐतिहासिक किसान संघर्ष के एक साल पूरे होने को व्यापक रूप से मनाने का फैसला किया गया। 26 नवंबर संविधान दिवस भी है, जब भारत का संविधान 1949 में संविधान सभा द्वारा अपनाया गया था। 26 नवंबर को पिछले साल मजदूर वर्ग द्वारा आयोजित अखिल भारतीय हड़ताल का एक वर्ष भी है।

26 नवंबर को पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड और राजस्थान से दिल्ली के सभी मोर्चों पर भारी भीड़ जुटेगी। एसकेएम के सभी किसान संगठन इस अवसर पर किसानों को पूरी ताकत से लाम्बंद करेंगे। उस दिन वहां विशाल जनसभाएं होंगी। इस संघर्ष में अब तक 650 से अधिक शहीदों को श्रद्धांजलि दी जाएगी।

एसकेएम ने दिल्ली की सीमाओं पर इस संघर्ष की पहली वर्षगांठ के तहत 26 नवंबर को राज्यों की राजधानियों में बड़े पैमाने पर महापंचायतों का आह्वान किया है। ये 26 नवंबर को भारत के सभी राज्यों की राजधानियों में किसानों, श्रमिकों, कर्मचारियों, खेतिहर मजदूरों, महिलाओं, युवाओं और छात्रों की व्यापक भागीदारी के साथ आयोजित किए जा सकते हैं, सिवाय उन राज्यों को छोड़कर जो दिल्ली की सीमाओं पर लामबंद होंगे।

सिंघु मोर्चा पर बैठक करते किसान नेता। फोटो साभार @Baljit_ITCell

28 नवंबर को मुंबई के आजाद मैदान में किसान मजदूर महापंचायत

28 नवंबर को, मुंबई के आजाद मैदान में एक विशाल किसान-मजदूर महापंचायत का आयोजन किया जाएगा — यह आयोजन संयुक्त शेतकारी कामगार मोर्चा (एसएसकेएम) के बैनर तले 100 से अधिक संगठनों द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित किया जाएगा 28 नवंबर, महान समाज सुधारक महात्मा ज्योतिराव फुले की पुण्यतिथि के रूप में मनाया जाता है।

महापंचायत सभी मोर्चों पर मोदी के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार की खिलाफत करेगी और मेहनतकश लोगों के कई ज्वलंत मुद्दों को उठाएगी, जिसमें कृषि कानूनों और श्रम संहिताओं को निरस्त करना, उचित एमएसपी की गारंटी देने वाला केंद्रीय कानून, डीजल, पेट्रोल और रसोई गैस, की कीमत को आधा करना, और निजीकरण पर रोक और चंद रुपयों के लिए देश की सम्पत्ति को बेचना शामिल है।

सभी लखीमपुर खीरी शहीद कलश यात्राएं, जो 27 अक्टूबर को पुणे से शुरू हुई थीं, और अब पूरे राज्य में विभिन्न किसान संगठनों द्वारा उत्साहजनक स्वागत के बीच ले जायीं जा रहीं हैं, 27 नवंबर को मुंबई में एकत्रित होंगी। उस दिन, शहीद कलश यात्रा शिवाजी पार्क में छत्रपति शिवाजी की प्रतिमा, चैत्य भूमि में डॉ बीआर अंबेडकर के स्मारक, शहीद बाबू जेनू (जिन्हें 1930 में मुंबई में एक ब्रिटिश-चालित ट्रक द्वारा कुचल दिया गया था, जब उन्होंने स्वतंत्रता संग्राम के दौरान ब्रिटिश कपड़े का विरोध किया था) के स्मारक, और मंत्रालय के पास महात्मा गांधी की प्रतिमा, पर श्रद्धांजलि अर्पित करेगी।

29 नवंबर को शीतकालीन सत्र के दौरान संसद तक जाएंगे 500 किसान

29 नवंबर से दिल्ली में संसद का शीतकालीन सत्र शुरू होगा। एसकेएम ने निर्णय लिया कि 29 नवंबर से संसद के इस सत्र के अंत तक 500 चयनित किसान, राष्ट्रीय राजधानी में विरोध करने के अपने अधिकारों स्थापित करने के लिए, ट्रैक्टर ट्रॉलियों में हर दिन शांतिपूर्ण और पूरे अनुशासन के साथ संसद जाएंगे, ताकि इस अड़ियल, असंवेदनशील, लोक-विरोधी, और कारपोरेट-समर्थक भाजपा केंद्र सरकार पर दबाव बढ़ाया जा सके, और उसे उन मांगों को मानने के लिए मजबूर करने के लिए, जिसके लिए देश भर के किसानों ने एक साल से ऐतिहासिक संघर्ष किया है।

संयुक्त किसान मोर्चा ने अपने बयान में कहा कि लखीमपुर खीरी हत्याकांड की फोरेंसिक जांच से पता चला है कि घटना में आशीष मिश्रा टेनी और उनके सहयोगी की बंदूक से गोली चलाई गई थी। जो स्पष्ट रूप से राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे के दोष को साबित करता है।

लखीमपुर खीरी हत्याकांड की एक फोरेंसिक जांच से पता चला है कि घटना में आशीष मिश्रा टेनी और उनके सहयोगी की बंदूक से गोली चलाई गई थी। यह संयुक्त किसान मोर्चा के रुख की पुष्टि करता है कि किसानों पर गोली चलाई गई थी, और स्पष्ट रूप से राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे के दोष का साबित करता है। कल, सुप्रीम कोर्ट ने मामले पर अपनी सुनवाई में, मामले में "एक व्यक्ति की रक्षा" करने के लिए यूपी सरकार के प्रयासों की ओर भी इशारा भी किया था। मामले के तथ्य अब पूरी तरह से स्थापित हो गए हैं। फिर भी मोदी और योगी सरकार, बेशर्मी से मंत्री और उनके बेटे को बचा रही है। एसकेएम फिर से अजय मिश्रा टेनी की बर्खास्तगी और गिरफ्तारी, और सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में जांच की अपनी मांग दोहराता है।

हरियाणा के नारनौद में धरना जारी

नारनौंद में, हांसी के एसपी कार्यालय के बाहर अनिश्चितकालीन धरना दूसरे दिन भी जारी है और प्रशासन दो किसानों के खिलाफ काले झंडे दिखाने के लिए मामले को वापस लेने और भाजपा सांसद राम चंदर जांगड़ा के खिलाफ मारपीट का मामला दर्ज करने को तैयार नहीं है। मामले में न्याय की मांग को लेकर हजारों किसान और किसान नेता धरने में शामिल हुए। भाजपा सांसद रामचंद्र जांगड़ा के खिलाफ मामला दर्ज करने से प्रशासन के इंकार के बाद कल किसान नेताओं और प्रशासन के बीच वार्ता टूट गई थी। इस बीच, घटना में गंभीर रूप से घायल हुए किसान कुलदीप सिंह राणा अपने जीवन के लिए संघर्ष कर रहे हैं।

28 नवंबर को मुंबई के आजाद मैदान में एक विशाल किसान-मजदूर महापंचायत का आयोजन किया जाएगा। यह आयोजन संयुक्त शेतकारी कामगार मोर्चा (एसएसकेएम) के बैनर तले महाराष्ट्र के 100 से अधिक संगठनों द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित किया जाएगा।

किसान आंदोलन के दौरान जान गंवाने वाले ज्यादातर किसान औसत रकबे वाले

पंजाबी विश्वविद्यालय में अर्थशास्त्र के पूर्व प्रोफेसर लखविंदर सिंह और पंजाबी विश्वविद्यालय के गुरु काशी परिसर, बठिंडा में सामाजिक विज्ञान के सहायक प्रोफेसर बलदेव सिंह शेरगिल द्वारा लिखे गए एक अध्ययन से पता चला है कि कृषि आंदोलन में मरने वाले अधिकांश किसान छोटे और सीमांत किसान थे। अपनी जान गंवाने वालों के स्वामित्व वाले खेत का औसत रकबा 2.26 एकड़ है। यह अध्ययन इस बार-बार होने वाले दावे को खारिज करता है कि कृषि आंदोलन के पीछे अमीर किसान हैं।

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.