संयुक्त किसान मोर्चा मंगलवार को मनाएगा शहीद किसान दिवस, लखीमपुर में होगी अंतिम अरदास

लखीमपुर हिंसा में मारे गए प्रदर्शकारी किसानों और पत्रकार की अंतिम अरदास वाले दिन को संयुक्त किसान मोर्चा शहीद दिवस के रूप में मनाएगा।

संयुक्त किसान मोर्चा मंगलवार को मनाएगा शहीद किसान दिवस, लखीमपुर में होगी अंतिम अरदास

संयुक्त किसान मोर्चा 12 अक्टूबर को मना रहा है शहीद किसान दिवस: फोटो- अरविंद शुक्ला

लखीमपुर में हिंसा में मारे गए किसानों को श्रद्धाजंलि देते हुए आंदोलनरत किसान संगठन मंगलवार शहीद किसान दिवस के रुप में मना रहे हैं। इस दौरान तिकुनिया में अंतिम अरदास होगी तो पूरे देश में प्रार्थना और श्रद्धांजलि सभाएं आयोजित की जाएंगी।

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर जिले में 3 अक्टूबर को हुई हिंसा के मारे गए 4 किसानों और एक पत्रकार के लिए मंगलवार (12 अक्टूबर) को किसान दिवस के रूप में मनाया जाएगा। लखीमपुर खीरी हत्याकांड के शहीदों की अंतिम अरदास तिकुनिया में साहेबजादा इंटर कॉलेज में होगी। इस प्रार्थना सभा में हजारों किसानों के आने उम्मीद है।

लखीमपुर हिंसा मामले में अब तक केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी के आरोपी बेटे आशीष मिश्रा उर्फ मोनू समेत 3 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है। मोनू को सोमवार को लखीमपुर की सीजेएम कोर्ट ने 3 दिन की पुलिस हिरासत में भेजा है। आशीष उर्फ मोनू को 9 अक्टूबर को 12 घंटे की लंबी पूछताछ के बाद गिरफ्तार किया गया था।

संयुक्त किसान मोर्चा ने अजय मिश्रा टेनी के केंद्रीय मंत्रिपरिषद में बने रहने और उनकी गिरफ्तारी न होने पर निराशा व्यक्त की है। एसकेएम ने अपने बयान में कहा, "लखीमपुर खीरी किसान नरसंहार में उनकी भूमिका स्पष्ट है और पीएम नरेंद्र मोदी द्वारा अब तक की कार्रवाई नहीं किया जाना शर्मनाक है।"

आगे कहा गया, "भाजपा और मोदी सरकार अभी भी अजय मिश्रा टेनी का बचाव कर रही है, हमारे इस रुख की पुष्टि करती है कि किसान आंदोलन को कमजोर करने और नष्ट करने के लिए सांप्रदायिक राजनीति और हिंसा को लाया जा रहा है।"

तिकुनिया में अंतिम अरदास का कार्यक्रम

एसकेएम के आह्वान पर 12 अक्टूबर को पूरे देश में शहीद किसान दिवस के रूप में मनाया जा रहा है। मंगलवार को लखीमपुर खीरी हत्याकांड के शहीदों की अंतिम अरदास तिकुनिया में साहेबजादा इंटर कॉलेज में होगी। इस प्रार्थना सभा में हजारों किसानों के शामिल होने की उम्मीद है और उसी के लिए तैयारी की जा रही है।

एसकेएम देश भर के किसान संगठनों और अन्य प्रगतिशील समूहों से पूरे देश में प्रार्थना और श्रद्धांजलि सभा आयोजित करके शहीद किसान दिवस को यादगार बनाने की अपील करता है; शाम को एसकेएम के आह्वान पर मोमबत्ती मार्च आयोजित किया जाएगा। एसकेएम ने लोगों से कल रात 8 बजे अपने घरों के बाहर 5 मोमबत्तियां जलाने का आग्रह किया है।

ये भी पढ़ें- लखीमपुर हिंसा केस में तीन दिन की पुलिस रिमांड में आशीष मिश्रा, बचाव पक्ष के वकीलोें ने दिए थे ये तर्क


अजय मिश्रा की बर्खास्तगी की मांग

संयुक्त किसान मोर्चा ने अजय मिश्रा टेनी को बर्खास्त करने और गिरफ्तार करने का 11 तारीख का अल्टीमेटम पहले ही जारी कर दिया था। मंगलवार को लखीमपुर खीरी में नरसंहार के शहीदों के लिए आयोजित प्रार्थना सभाओं में एसकेएम अपनी घोषित कार्ययोजना को आगे बढ़ायेगा। एसकेएम दोहराता है कि भाजपा-आरएसएस के सांप्रदायिक कार्ड खेलने से किसान आंदोलन को न तो खत्म किया जा सकता है और न ही कमजोर किया जा सकता है, और देश के किसान संघर्ष में एकजुट हैं।

जहां पंजाब भाजपा के एक नेता ने हिंदू त्योहारों के दिन एसकेएम के विरोध कार्यों पर सवाल उठाया है, एसकेएम भाजपा को याद दिलाना चाहता है कि दशहरा बुराई पर सच्चाई और अच्छाई की जीत का त्योहार है। एसकेएम द्वारा दिया गया आह्वान दशहरे की इसी भावना को प्रतिबिंबित करेगा, और एसकेएम का दिन के अन्य उत्सवों के रास्ते में आने का कोई इरादा नहीं है। किसान आंदोलन ने वास्तव में सभी धर्मों के मूल्यों को अपनाया है और सभी धर्मों के किसानों के बीच एकता और बंधन को बढाया है। एसकेएम की कार्रवाई सरकार और भाजपा के खिलाफ है। आंदोलन में किसान दशहरा मनाएंगे और 15 अक्टूबर को भाजपा नेताओं के पुतले दहन में भी शामिल होंगे। एसकेएम ने पहले ही घोषणा कर दी है कि 12 अक्टूबर के बाद की कार्रवाई अजय मिश्रा टेनी को गिरफ्तार और बर्खास्त नहीं करने की स्थिति में है, और अब यह सुनिश्चित करना भाजपा सरकारों की जिम्मेदारी है कि न्याय सुनिश्चित हो।

यूपी पहुंची लोकनीति सत्याग्रह पदयात्रा

गांधी जयंती पर चंपारण में शुरू हुई लोकनीति सत्याग्रह पदयात्रा उत्तर प्रदेश में प्रवेश कर गई है। सैकड़ों प्रदर्शनकारियों का पैदल मार्च 20 अक्टूबर को पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी पहुंचेगा। कल यात्रा सीताब दियारा (लोकनायक जयप्रकाश नारायण के पैतृक गांव) पहुंची और दुबे छपरा में रात बिताई।

इंदिरा गांधी द्वारा लगाए गए आपातकाल के संदर्भ में संपूर्ण क्रांति का आह्वान करने वाले स्वतंत्रता सेनानी, समाजवादी और राजनेता, भारत रत्न लोकनायक जयप्रकाश नारायण की आज 119वीं जयंती है। संयुक्त किसान मोर्चा इस अवसर पर लोकनायक को सम्मान के साथ याद करता है।

बुधवार को हरियाणा के सीएम का विरोध

हरियाणा के गोहाना में किसानों ने राज्य के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर को 13 अक्टूबर को गोहाना में एक कार्यक्रम में भाग लेने के खिलाफ चेतावनी दी है, और कहा है कि अगर सीएम कार्यक्रम में शामिल होते हैं तो वे काले झंडे से विरोध करेंगे।

ये भी पढ़ें- लखीमपुर खीरी में 8 मौतों के बाद किसानों और सरकार का संघर्ष उबाल पर; बयान से शुरू हुई कहानी खूनी दंगल में बदली



Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.