Top

धान, मक्का, अरहर और सोयाबीन समेत 22 फसलों की एमएसपी घोषित, किसानों को मिलेगा ये रेट

केंद्र सरकार ने जिन 22 फसलों की एमएसपी घोषित उनमें सबसे ज्यादा प्रति क्विंटल बढ़ोतरी तिल में हुई है जबकि सबसे कम मक्का में, कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि नई एमएसपी वादे के मुताबिक लागत की डेढ़ गुना है।

धान, मक्का, अरहर और सोयाबीन समेत 22 फसलों की एमएसपी घोषित, किसानों को मिलेगा ये रेट

केंद्र सरकार ने 9 जून को 22 फसलों के लिए घोषित की नई एमएसपी। ग्राफ- फराज

नई दिल्ली। केंद्र सरकार ने धान, मक्का, सोयाबीन समेत खरीफ की 22 फसलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य घोषित कर दिया है। सामान्य धान का रेट 1940 रुपए क्विंटल जबकि ए ग्रेड धान का भाव 1960 रुपए प्रति क्विंटल तय किया गया है। सबसे ज्यादा बढ़ोतरी 452 रुपए क्विंटल तिल में की गई है जबकि सबसे कम मक्के का भाव (20 रुपए) का बढ़ा है।

केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि, "देश के किसानों की आय दोगुनी करने के लिए नरेंद्र मोदी सरकार प्रतिबद्ध है। खरीफ विपणन मौसम 2021-22 के लिए सभी खरीफ फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य को आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडल समिति ने मंजूरी दी है। देश के करोड़ों किसानों को इसका लाभ मिलेगा।"

धान में 72, अरहर में 300 तो तिल में 452 रुपए की बढ़ोतरी

केंद्र सरकार द्वारा घोषित एमएसपी की नई दरों के मुताबिक सामान्य धान का मूल्य 1940 रुपए प्रति क्विंटल होगा, साल 2020-21 में सामान्य धान का रेट 1868 रुपए प्रति क्विंटल था, इस बार 72 रुपए की बढ़ोतरी हुई है। इसी तरह ए ग्रेड धान के लिए 1960 रुपए का भाव मिलेगा। मक्के की एमएसपी 1870 रुपए तय की गई है जबकि अरहर और उदड़ के लिए 6300 रुपए का भाव तय किया गया है।

इसी तरह ज्वार (हाईब्रिड) 2738 और ज्वार (मालदंडी) 2380 रुपए क्विंटल में सरकारी खरीद केंद्रों पर खरीदी जाएगी। पीली सोयाबीन के लिए सरकार ने 3950 प्रति क्विंटल का रेट तय किया है पिछले साल की अपेक्षा इसमें 70 रुपए की बढ़ोतरी की गई है। इसी तरह 7307 रुपए का भाव तिल के लिए तया किया गया है तिल की कीमतों में सबसे ज्यादा 452 रुपए की बढ़ोतरी है।

एमएसपी रहेगी, एमएसपी बढ़ रही है एमएसपी पर खरीद भी बढ़ रही- कृषि मंत्री

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई केंद्रीय कैबिनेट की बैठक में एमएसपी की नई दरों पर मुहर लगाई गई। कैबिनेट बैठक के बाद मीडिया से बात करते हुए केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री ने कहा कि एमएसपी है, और आगे भी रहेगी। लगातार रबी और खरीफ की एमएसपी MSP घोषित भी की जा रही है। बढ़ रही है और एमएसपी पर खरीद भी बढ़ रही है।"

उन्होंने आगे कहा कि रबी विपणन सीजन में अब तक लगभग 416.95 लाख मीट्रिक टन से अधिक गेहूं की खरीद हुई है। जबकि खरीफ विपणन सीजन (KMS 2020-21 में अब 813.11 एलएमटी की खरीद हुई है जो पिछले साल के 736.36 LMT की तुलना में कहीं अधिक है। 6 जून 2021 तक में धान की खरीद के लिए किसानों को सीधे DBT के माध्यम से 1,53,515.20 करोड़ रूपए ट्रांसफर किए गए हैं।"

खबर अपडेट हो रही है

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.