राहुल गांधी को नहीं मिली लखीमपुर खीरी जाने की अनुमति; सीतापुर में बंद की गईं इंटरनेट सेवाएं

उत्तर प्रदेश सरकार ने लखनऊ में लागू धारा 144 के कारण राहुल गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस पार्टी के पांच सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल को लखीमपुर खीरी जिले का दौरा करने की अनुमति देने से इनकार कर दिया है। जबकि कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी वाड्रा अभी भी सीतापुर में नजरबंद हैं।

राहुल गांधी को नहीं मिली लखीमपुर खीरी जाने की अनुमति; सीतापुर में बंद की गईं इंटरनेट सेवाएं

राहुल गांधी ने कहा कि हम वहां जाकर देखना चाहते हैं, परिस्थिति को समझना चाहते हैं; परिवार को सपोर्ट देना चाहते हैं, सिर्फ हमें यहाँ रोका जा रहा है और बाकी पार्टियों को जाने दिया जा रहा है; हमने क्या गलती की है? (Photo : INCIndia/twitter

उत्तर प्रदेश सरकार ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी को लखीमपुर खीरी जाने की अनुमति देने से इनकार कर दिया है, जहां तीन अक्टूबर को चार किसानों, दो भाजपा कार्यकर्ताओं, एक ड्राइवर और पत्रकार रमन कश्यप सहित आठ लोगों की हिंसा में मौत हो गई थी।

राहुल गांधी को पार्टी सदस्यों सचिन पायलट, चरणजीत सिंह चन्नी, भूपेश बघेल और केसी वेणुगोपाल के साथ आज 6 अक्टूबर को लखनऊ पहुंचना था और मृतक किसानों के परिवारों से मिलने लखीमपुर खीरी का दौरा करना था।

कल रात, लखनऊ पुलिस ने आगामी त्योहारों, विभिन्न प्रवेश परीक्षाओं और किसानों के विरोध के मद्देनजर कानून और व्यवस्था बनाए रखने और COVID19 नियमों का पालन सुनिश्चित करने के लिए 8 नवंबर तक सीआरपीसी की धारा 144 लागू कर दी।

राहुल गांधी ने आज एक प्रेस कांफ्रेंस के दौरान कहा कि वह छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी के साथ मृतकों के परिवारों से मिलने लखीमपुर खीरी जाने की कोशिश करेंगे। उन्होंने कहा, "कल से हमें कहा गया कि आप उत्तर प्रदेश नहीं जा सकते; छत्तीसगढ. के मुख्यमंत्री वहां जाते हैं और उनको कहा जाता है कि धारा 144 है; लेकिन उन्होंने कहा कि मैं तो अकेला हूँ फिर धारा 144 कैसे लागू होगी? उनके पास कोई जवाब नहीं था"

उन्होंने कहा, 'भारत में अब तानाशाही है। कल से हमें बताया जा रहा है कि हम उत्तर प्रदेश नहीं जा सकते। किसानों को कुचला जा रहा है। केंद्रीय मंत्री, उनके बेटे का नाम सामने आ रहा है लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हो रही है। कुछ समय से सरकार द्वारा किसानों पर हमला किया जा रहा है, "राहुल गांधी ने आज प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा।

प्रधानमंत्री के लखनऊ दौरे पर राहुल गांधी ने कहा कि कल प्रधानमंत्री जी लखनऊ में थे, लेकिन लखीमपुर खीरी नहीं जा पाए; पोस्ट मार्टम ठीक से नहीं किया जा रहा है और व्यवस्थित ढंग से जो कुछ कहे उसे बंद किया जा रहा है

हालांकि, उत्तर प्रदेश सरकार ने कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल को लखीमपुर खीरी जाने की अनुमति देने से इनकार कर दिया है।

"सरकार ने राहुल गांधी को अनुमति देने से इनकार कर दिया है। यदि वह लखनऊ आते हैं, तो हम उनसे हवाई अड्डे पर लखीमपुर खीरी और सीतापुर न जाने का अनुरोध करेंगे। लखीमपुर और सीतापुर के एसपी और डीएम ने हमें कानून और व्यवस्था की स्थिति के मद्देनजर उन्हें आने से रोकने का आग्रह किया, "लखनऊ के पुलिस आयुक्त डीके ठाकुर ने कहा।

लखनऊ के पुलिस आयुक्त ने कहा कि राहुल गांधी को आने की अनुमति नहीं दी जाएगी क्योंकि उनके लखीमपुर दौरे से समस्याएँ पैदा हो सकती हैं।

कल 5 अक्टूबर को, छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को लखनऊ हवाई अड्डे पर पहुंचने पर शहर में जाने से रोक दिया गया था। बाद में शाम को वह वापस दिल्ली चला गए।

प्रियंका गांधी गिरफ्तार

कल 5 अक्टूबर को, अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा को राज्य की राजधानी लखनऊ से लगभग 90 किलोमीटर दूर उत्तर प्रदेश के सीतापुर जिले के पीएसी गेस्ट हाउस में 33 घंटे से अधिक समय तक हिरासत में रखने के बाद आधिकारिक रूप से गिरफ्तार कर लिया गया था।

भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के प्रवक्ता सुरेंद्र राजपूत ने गांव कनेक्शन को बताया, "प्रियंका गांधी को गिरफ्तार कर लिया गया है, जबकि अपराधी खुलेआम घूम रहा है।"

सीतापुर में मोबाइल इंटरनेट सेवाएं भी बंद कर दी गई हैं, जहां प्रियंका गांधी को नजरबंद रखा गया है।

आम आदमी पार्टी के नेता संजय सिंह को भी लखीमपुर खीरी जिले के निघासन से करीब 100 किलोमीटर दूर बिसवां (सीतापुर जिला) के भरत पैलेस में हिरासत में लिया गया है, जहां हिंसा हुई थी। उन्हें 4 अक्टूबर को हिरासत में लिया गया था और अभी भी रिहा नहीं किया गया है।

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.