पैडी वीडर यंत्र से धान की निरार्इ-गुड़ार्इ आसान

Devanshu Mani TiwariDevanshu Mani Tiwari   2 May 2017 3:09 PM GMT

पैडी वीडर यंत्र से धान की निरार्इ-गुड़ार्इ आसानधान की खेती कर रहे किसानों के लिये पैडी वीडर बेहद लाभदायक कृषि यंत्र है।

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

लखनऊ। किसान को धान की निरार्इ-गुड़ार्इ व खरपतवार हटाने के लिए मजदूरों की ज़रूरत पड़ती है। धान की खेती कर रहे किसानों के लिये पैडी वीडर बेहद लाभदायक कृषि यंत्र है। इसकी मदद से किसान न सिर्फ आसानी से खरपतवार को हटा सकता है, बल्कि खेती में आने वाले लेबर खर्च भी कम कर सकता है।

लखनऊ जिले में पिछले 10 वर्षों से कृषि उपकरण बेच रहे विक्रेता संजय सिन्हा पैडी वीडर को धान किसानों के लिए सफल उपकरण मानते हैं। संजय बताते हैं, ''धान की खेती करने वाले किसानों में सबसे अधिक समय खरपतवार हटाने और निरार्इ-गुड़ार्इ जैसे कार्यों में लगता है। पैडी वीडर उपकरण की मदद से कम समय में खेत की निरार्इ व गुड़ार्इ कर सकते हैं। इसे चलाना भी बेहद आसान होता है।''

खेती किसानी से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

पैडी वीडर का प्रयोग किसान निरार्इ, गुड़ार्इ जैसे कार्यों में करते हैं।इस यंत्र को प्रयोग करने वाले व्यक्ति की कार्यक्षमता में 10 गुना वृद्धि होती है, इस यंत्र से एक दिन में एक व्यक्ति द्वारा आधा एकड़ खेत की निरार्इ-गुड़ार्इ आसानी से की जा सकती है।’’
डॉ. शैलेंद्र कुमार सिंह, प्रमुख कृषि वैज्ञानिक, कृषि विज्ञान केंद्र, रायबरेली

पैडी वीडर उपकरण वजन में काफी हल्का होता है, इसको चलाने में एक व्यक्ति की ज़रूरत पड़ती है। इस उपकरण को खेत में प्रयोग करने के लिए इसे पानी भरे खेत में थोड़ा आगे-पीछे करते हुए धान की दो कतारों के बीच चलाते हैं। इसके चलाने से खरपतवार के छोटे टुकड़े हो जाते हैं और कीचड़ में मिल जाते हैं। इससे धान के पौधों में मिट्टी चढ़ाने जैसी प्रक्रिया हो जाती है, जिससे धान की जड़ के आसपास ज़मीन कुरेदी रहती है। इससे धान की पैदावार में तेजी आ जाती है।

पैडी वीडर विक्रेता संजय सिन्हा ने आगे बताया कि हम अभी तक प्रदेश में लखनऊ, अंबेडकर नगर और उन्नाव जैसे जिलों में पैडी वीडर बेच रहे हैं। एक पैडी वीडर की कीमत 1,500 रुपए होती है। सरकारी तौर पर खरीदने पर पैडी वीडर 1,800 से 2,000 रुपए का मिलता है, इस पर सरकार 50 प्रतिशत सब्सिडी भी देती है। ''

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top