गेहूं की फसल पर काला साया, पश्चिम बंगाल में व्हीट ब्लास्ट से 500 हेक्टेयर की फसल बर्बाद

गेहूं की फसल पर काला साया, पश्चिम  बंगाल में व्हीट ब्लास्ट से 500 हेक्टेयर की फसल बर्बादपश्चिम बंगाल द्वारा प्रभावित फसलों को नष्ट कराया जा रहा है।

कोलकाता (भाषा)। पश्चिम बंगाल और बांग्लादेश की सीमा से लगा हिस्सा जो नकली नोटों और मवेशियों की तस्करी तथा आईएसआई एजेंटों की घुसपैठ के लिए बदनाम रहा है, वह एक बार फिर अन्य कारण से बदनाम हो रहा है। इस बार एक घातक फंगस देश आया गया है जिससे गेहूं की फसल को खासा नुकसान हुआ है।

पश्चिम बंगाल के दो जिले मुर्शिदाबाद और नदिया में ‘व्हीट ब्लास्ट' ने सैकड़ों हेक्टेयर में लगी गेहूं की फसल को प्रभावित किया है। ‘व्हीट ब्लास्ट' का पता सबसे पहले 1985 में ब्राजील और लातिन अमेरिका के कुछ देशों में चला था जब 30 लाख हेक्टेयर में फैली फसल बर्बाद हो गई थी। राज्य के कृषि मंत्री पूर्णेंदु बसु ने पुष्टि की कि ‘व्हीट ब्लास्ट' रोग से दो जिलों, मुर्शिदाबाद और नदिया के आठ ब्लॉकों में करीब 800 हेक्टेयर प्रभावित हुआ है। विभाग के एक अन्य अधिकारी ने बताया कि करीब एक हजार हेक्टर क्षेत्रफल इस रोग की चपेट में आ गया है।

अपने खेत में खड़ा किसान। फोटो साभार-generationc challenge

पहली बार इसका पता फरवरी के आखिरी हफ्ते में मुर्शिदाबाद जिले के जालंगी खंड में चला। उन्होंने बताया कि जालंगी से यह दोमकल, रैनानगर-एक, नवादा और हरिहरपारा में फैल गया और इसने मुर्शिदाबाद जिले के 509 हेक्टेयर से ज्यादा क्षेत्र में लगी गेहूं की फसल को खराब किया है। उन्होंने बताया कि इसी प्रकार से नदिया जिले में इस रोग ने 500 हेक्टेयर में लगी फसल को नुकसान पहुंचाया है। बसु ने बताया कि राज्य सरकार इस रोग को फैलने से रोकने के लिए खड़ी फसल को जला रही है। भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद का एक दल दोनों जिलों में पहुंच कर राज्य सरकार के प्रतिनिधियों के साथ मिल कर संयुक्त सर्वेक्षण कर रहा है। पिछले वर्ष पहली बार यह फंगस बांग्लादेश के रास्ते एशिया में आया था जहां उसने छह जिले में 15 हजार हेक्टेयर क्षेत्रफल में गेहूं की फसल को बर्बाद किया था।

फसल विज्ञान प्रभाग (फसल विज्ञान) के उप महानिदेशक डॉ जीत सिंह संधू ने कहा कि बांग्लादेश के दक्षिणी जिलों में इसके फैलने के बाद आईसीआरए ने केंद्र को इस मामले को ‘बेहद गंभीर' करार देते हुए इससे निपटने के लिए रणनीति बनाने का सुझाव दिया था।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top