धानुका एग्रीटेक का तीसरी तिमाही का शुद्ध मुनाफा 6.36 प्रतिशत बढ़ा

धानुका एग्रीटेक का तीसरी तिमाही का शुद्ध मुनाफा 6.36 प्रतिशत बढ़ाकृषि क्षेत्र की कंपनी है धानुका।

नयी दिल्ली (भाषा)। कृषि क्षेत्र की बड़ी कंपनी धानुका एग्रीटेक का एकीकृत शुद्ध मुनाफा वत्तिवर्ष 2017-18 की तीसरी तिमाही में 6.36 प्रतिशत बढ़कर 28.5 करोड़ रुपये हो गया। धानुका ने पिछले दिनों में अपनी प्रसार नीति में बड़ा बदलाव करते हुए कई प्रोग्राम शुरु किए हैं।

धानुका ने एक नियामकीय सूचना में कहा कि वर्ष भर पूर्व की समान अवधि में कंपनी का शुद्ध मुनाफा 26.87 करोड़ रुपये था। कंपनी की शुद्ध आय पिछले वर्ष के 242.75 करोड़ रुपये से घटकर 226.13 करोड़ रुपये रह गया। हालांकि कंपनी का खर्च कम यानी 190.08 करोड़ रुपये रह गया जो पहले 205.12 करोड़ रुपये था। कंपनी के प्रबंध निदेशक एम के धानुका ने कहा कि यह वृद्धि उम्मीद के अनुरूप नहीं है तथा प्रबंधन को भवष्यि में और वृद्धि दर हासिल करने के लिए नियमित प्रयास करना चाहिये। कंपनी के निदेशक मंडल ने दो रुपये प्रति शेयर के हिसाब से अंतरिम लाभांश की घोषणा की है जिसे घोषणा के 30 दिनों के भीतर भुगतान कर दिया जायेगा।

चीनी कीमतों को स्थिरता के लिए सरकार से हस्तक्षेप की अपील

नयी दिल्ली ( भाषा)। चीनी उद्योग के एक धड़े ने चीनी मिल पर कीमत को उचित स्तर पर बरकरार रखने के लिए सरकार के हस्तक्षेप की मांग की है ताकि यह गन्ना खरीद कीमतों से कम न हो जाये और गन्ना उत्पादकों के भारी बकाये की स्थिति से बचा जा सके।

उन्होंने उत्पादन में कमी होने की स्थिति में कीमतों में स्थिरता लाने के लिए बफर स्टॉक बनाने की भी मांग की है तथा पांच लाख क्विंटल प्रतिवर्ष से कम उत्पादन करने वाली मिलों को इसमें से आवंटन करने को कहा है। भारतीय चीनी मिल संघ (इस्मा) के पूर्व अध्यक्ष ओ पी धानुका ने कहा कि चीनी की एक्स.फैक्टरी कीमत को 3,900 रुपये प्रति क्वन्टिल के स्तर पर बनाये रखने की आवश्यकता है।

उन्होंने कहा कि सितंबर, 2017 के 3,835 रुपये प्रति क्वन्टिल की कीमत की जगह फरवरी, 2018 में चीनी कीमतें निरंतर गिरावट के साथ 3,150 रुपये प्रति क्वन्टिल रह गई हैं जिसका कारण बड़ी मिलों या कारखानों द्वारा अपनी पूरी आपूर्ति को बाजार में ले आना है।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top