कोई जरुरी नहीं दूसरे दलों से आये नेता पा जाएं BJP का टिकट: केशव मौर्य 

कोई जरुरी नहीं दूसरे दलों से आये नेता पा जाएं BJP का टिकट: केशव मौर्य भारतीय जनता पार्टी के उत्तर प्रदेश अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य।

लखनऊ (भाषा)। भारतीय जनता पार्टी के उत्तर प्रदेश अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य ने मंगलवार को स्पष्ट किया कि SP और BSP जैसे दूसरे दलों को छोड़कर BJP में शामिल हुए नेताओं को अगले विधानसभा चुनाव में टिकट देने का आश्वासन देकर कतई नहीं लाया गया है।

मौर्य ने कहा, ‘‘दूसरे दलों से जो आये हैं, उन्हें टिकट देने का आश्वासन देकर नहीं लाया गया है। वे BJP के सिद्धांतों और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के कार्यो' से प्रभावित होकर आये हैं।'' उन्होंने कहा, ‘‘जो जीतने लायक होंगे, उनके नाम पर जरुर विचार किया जाएगा, लेकिन जो आये हैं, उन्हें टिकट मिल जाएगा, ऐसी बात नहीं है।''

उल्लेखनीय है कि SP, BSP और कांग्रेस नेताओं के BJP में शामिल होने का सिलसिला जारी है। विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष रहे BSP के स्वामी प्रसाद मौर्य और पूर्व सांसद ब्रजेश पाठक, कांग्रेस की पूर्व प्रदेश अध्यक्ष रीता बहुगुणा जोशी सहित कई प्रमुख नेता भाजपा में बीते दिनों शामिल हुए हैं।

BJP का कमजोर पक्ष क्या है, इस सवाल पर मौर्य ने कहा, ‘‘वीक प्वाइंट (कमजोर पक्ष) हम ये मानते हैं कि BJP कार्यकर्तावादी पार्टी है। कार्यकर्ताओं को बहुत अपेक्षाएं हैं। चूंकि हमारे यहां सच्चा लोकतंत्र है इसलिए यहां विधायक का बेटा विधायक या सांसद का बेटा सांसद बनने की नहीं सोच सकता। भाजपा का कोई भी कार्यकर्ता किसी भी पद पर पहुंचने की अपेक्षा करता है।''

उन्होंने कहा कि विधानसभा चुनाव के मद्देनजर बड़ी संख्या में आवेदन हैं। लेकिन मैं यह मानता हूं कि BJP का अनुशासित कार्यकर्ता, जिस दिन निर्णय हो जाएगा, उस निर्णय का समर्थन करेगा। मौर्य ने कहा कि इस समय अन्य दलों से काफी भगदड़ भी है। बड़ी संख्या में नये लोग आये हैं। ‘‘लेकिन ये हमारी कमजोरी नहीं बल्कि ताकत है। मैं कार्यकर्ताओं से कहना चाहता हूं कि BJP अपने मूल कार्यकर्ता के सम्मान की रक्षा हर कीमत पर करेगी।''

नोटबंदी के सवाल पर मौर्य ने कहा कि देश के 98 प्रतिशत लोग इस फैसले से खुश हैं। जिन्होंने गरीबों, किसानों, देश और प्रदेश के नौजवानों के भविष्य, बीमार बुजुर्गों की दवा को लूटा है, केवल वही दुखी हैं।

उन्होंने कहा, ‘‘चाहे नेता हों, अफसर हों, ठेकेदार या उद्योगपति हों, वे जरुर नोटबंदी के फैसले से नाखुश हैं। लेकिन हमें देश के बहुसंख्यक समाज की खुशी की चिन्ता है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का फैसला देशहित में है। यह फैसला भ्रष्टाचार के खिलाफ है और यह फैसला देश के दुश्मन पाकिस्तान के खिलाफ है।''

मौर्य का मानना है कि नोटबंदी के फैसले से वो लोग विशेष तौर पर परेशान हैं जो धन बल पर चुनाव जीतने का सपना देख रहे थे। उन्होंने कहा, ''जो नोट के बदले वोट का सपना देख रहे थे, उनका खेल अब खत्म हो चुका है।'' उनसे सवाल किया गया कि जब प्रदेश BJP अध्यक्ष पद की कमान उन्होंने संभाली थी तो प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए 265 सीटों का लक्ष्य रखा था, जो अब 300 से अधिक हो गया है। इस पर मौर्य ने कहा, ‘‘जब मैंने 265 कहा था तो उसका अर्थ ये नहीं था कि 265 सीटें ही जीतनी हैं। मेरा आशय था कि 265 से कम सीटें नहीं होनी चाहिए। हम उस लक्ष्य को लेकर काम कर रहे थे। फिर सारे निष्कर्ष निकालने के बाद लगा कि हम 300 से कम नहीं जीतेंगे। अब यही एक स्लोगन (नारे) के रुप में उत्तर प्रदेश में चल रहा है।''

उन्होंने कहा कि इसी विश्वास के साथ BJP लगातार जनता के बीच में है और समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी का जनता के बीच कोई अता पता नहीं है। BJP ही एकमात्र ऐसी पार्टी है जो जनता के लिए लड रही है। हम 2017 में उत्तर प्रदेश में सरकार बनाने और 2019 में 2014 के प्रदर्शन को दोहराने के लक्ष्य के साथ काम कर रहे हैं।

Share it
Top