पहले अलगाववादी माने भारत हमारा है : पासवान

पहले अलगाववादी माने भारत हमारा है : पासवानकेंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान।

जम्मू (भाषा)। कश्मीर में अशांति के लिए आतंकवाद को बुनियादी वजह बताते हुए केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने आज कहा कि स्थिति से निपटने का काम सेना और सरकार पर छोड़ देना चाहिए।

कश्मीर घाटी में अशांति की मुख्य वजह आतंकवाद

उन्होंने कहा कि कश्मीर घाटी में अशांति की मुख्य वजह आतंकवाद है। आतंकवादी युवाओं को सुरक्षा बलों पर पत्थर फेंकने के लिए धमकाते हैं जिसके बाद मासूम युवाओं की मौत हो जाती है, जिसे देखकर हमें दुख होता है।

आतंकवाद के साथ खत्म हो जाएगी घाटी की सभी समस्याएं

पासवान ने कहा, ‘‘जिन लोगों ने कभी कश्मीर छोड़ने की बात नहीं सोची थी वे अन्य स्थानों पर जा रहे हैं क्योंकि वे एक शांतिपूर्ण जिंदगी चाहते हैं। जिस दिन आतंकवाद खत्म होगा उस दिन घाटी की सभी समस्याएं खत्म हो जाएंगी।''

उनसे सवाल किया गया कि क्या पाकिस्तान के साथ बातचीत करनी चाहिए क्योंकि कल विपक्षी पार्टियों की बैठक में नेकां नेता फारुक अब्दुल्लाह ने इसका समर्थन किया था तो मंत्री ने कहा, ‘‘ ऐसे मुद्दों पर सार्वजनिक तौर पर बहस नहीं की जानी चाहिए। राष्ट्रीय हित और राष्ट्रीय सुरक्षा के मुद्दे पर निर्णय करने काम सेना और सरकार पर छोड़ देना चाहिए।''

पहले अलगाववादी माने कि भारत हमारा है

केंद्रीय खाद्य एवं जन आपूर्ति मंत्री ने सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल के साथ रुखा व्यवहार करने के लिए अलगाववादियों पर निशाना साधा जो पिछले महीने कश्मीर में अशांति की स्थिति पर चर्चा करने के लिए उनसे मिलने गया था। उन्होंने कहा, ‘‘बातचीत के लिए आधार की जरुरत है, पहले वे (अलगाववादी) माने कि भारत हमारा है, यह हमारा देश है और सारे मुद्दों का भारत के संविधान के दायरे में हल होगा। जब तक आप पाकिस्तान समर्थक नारे लगाते हैं और उनका झंडा लहराते है, बातचीत करने का कोई मतलब नहीं है।''

अच्छी चीजों का श्रेय देने में विपक्ष को संकोच क्यों

लोजपा नेता पासवान ने कहा कि एक लोकतांत्रिक देश में सब को विरोध का अधिकार है लेकिन उन्हें स्कूल जाने वाले बच्चों की जिंदगी और भविष्य खराब नहीं करना चाहिए। उन्होंने कहा, ‘‘ बच्चे स्कूल जाने और शिक्षा प्राप्त करने में असमर्थ हैं, वह भविष्य में क्या करेंगे?''

सेना द्वारा पीओके पर किए गए लक्षित हमलों के संबंध विपक्ष के नरेंद्र मोदी सरकार पर हमलों पर टिप्पणी करते हुए पासवान ने कहा, ‘‘ उरी हमले के बाद विपक्ष ने प्रधानमंत्री को कोसना शुरू कर दिया और मजाक उड़ाने लगे कि उनका 56 इंच का सीना घटकर 26 इंच का हो गया है, जब वे खराब चीजों के लिए प्रधानमंत्री को दोष देते हैं तो वे अच्छी चीजों का श्रेय उन्हें देने में संकोच क्यों करते हैं?'' केंद्रीय मंत्री ने सशस्त्र बलों को राजनीति से बाहर रखने की अपील की।

पासवान ने कहा, ‘‘ पाकिस्तान के लोग हमारे दुश्मन नहीं है, हमारा दुश्मन आतंकवाद है और हम इससे लड़ रहे हैं, आतंकवाद से कब, कैसे और कहां लड़ना है इसका फैसला सेना पर छोड़ देना चाहिए।


First Published: 2016-10-15 19:06:20.0

Share it
Share it
Share it
Top