कश्मीर में सभी पक्षों से वार्ता करने की केंद्र की घोषणा महज प्रचार : कांग्रेस

Sanjay SrivastavaSanjay Srivastava   24 Oct 2017 6:31 PM GMT

कश्मीर में सभी पक्षों से वार्ता करने की केंद्र की घोषणा महज   प्रचार  : कांग्रेसकांग्रेस के यूपी प्रभारी गुलाम नबी आजाद। 

नई दिल्ली (भाषा)। कांग्रेस ने आज कहा कि केंद्र ने कश्मीर में सभी पक्षों से बातचीत करने के लिए वार्ताकार नियुक्त करने की जो घोषणा की है, वह महज प्रचार के लिए की गई है तथा उसे सरकार की नीयत पर शक है, बहरहाल, पार्टी ने यह भी स्पष्ट किया कि वह सभी पक्षों के साथ बातचीत के पूरी तरह से पक्ष में है।

राज्यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद ने आज संवाददाताओं से कहा, भाजपा सरकार पिछले साढ़े तीन साल से जम्मू-कश्मीर में आतंकवादियों का पीछा करने की नीति पर चल रही है। अब उसने सभी पक्षों से बातचीत के लिए वार्ताकार नियुक्त करने का कदम उठाया है। उन्होंने कहा, हम वार्ता के विरोध नहीं है, किन्तु हमें सरकार की नीयत पर शक है, उन्होंने कहा कि सरकार की यह घोषणा महज प्रचार के लिए है।

जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि विपक्षी नेता संसद के भीतर और बाहर यह कहते आ रहे हैं कि कश्मीर एक राजनीतिक मुद्दा है और उसका समाधान सभी पक्षों से बातचीत करके ही निकाला जा सकता है, उन्होंने कहा कि सरकार ने इस मामले में अपने पूरे साढ़े तीन साल बर्बाद कर दिए।

गुलाम नबी आजाद ने कहा कि सरकार ने यदि सभी पक्षों से बातचीत करने का फैसला पहले कर लिया होता तो कई सैनिकों और नागरिकों की बेशकीमती जान नहीं जाती। साथ ही कई मासूम बच्चों को पैलेट गन के कारण अपनी आंखें नहीं गंवानी पड़ती।

उन्होंने कश्मीर के बारे में सरकार की ताजा घोषणा के बारे में पूछे गये एक प्रश्न के जवाब में संवाददाताओं को यह दो शेर सुनाए... तमन्नाओं में उलझाया गया हूं, खिलौनों देकर बहलाया गया हूं तथा सब कुछ लुटाकर होश में आए तो क्या किया, दिन में अगर चिराग जलाए तो क्या किया। उन्होंने कहा कि कश्मीर मुद्दे पर सरकार की नीति इन शेरों में बखूबी बयां हो रही है.

केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कल कहा था था कि कश्मीर मुद्दे का समाधान निकालने के लिए सरकार द्वारा सतत वार्ता शुरू की जाएगी। उन्होंने कहा कि खुफिया ब्यूरो (आईबी) के पूर्व प्रमुख दिनेश्वर शर्मा जम्मू कश्मीर में सभी पक्षों से बातचीत शुरू करने के लिए केंद्र सरकार के प्रतिनिधि होंगे।

राजनीति से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

शर्मा भारतीय पुलिस सेवा के 1979 बैच के (सेवानिवृत्त) अधिकारी हैं और वह दिसंबर 2014 एवं 2016 के बीच आईबी के निदेशक रहे थे। सिंह से यह पूछे जाने पर कि क्या शर्मा हुर्यित कांफ्रेंस से भी बातचीत करेंगे, उन्होंने कहा कि शर्मा ही यह तय करेंगे कि किसके साथ बातचीत की जाए।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top