Top

Corona PM Modi Speech: पूरे देश में लागू हुआ 21 दिन का लॉकडाउन

पीएम मोदी ने कहा कि अगर हमने 21 दिन तक इस लॉकडाउन का पालन कड़ाई से नहीं किया तो हम 21 साल पीछे हो जाएंगे।

Daya SagarDaya Sagar   24 March 2020 2:43 PM GMT

पीएम नरेंद्र मोदी ने 21 दिन के लिए पूरे देश को लॉकडाउन की घोषणा की है। यह लॉकडाउन आज रात 12 बजे से 14 अप्रैल तक लागू होगा। राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में उन्होंने यह घोषणा की।

राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में उन्होंने कहा कि कोरोना का एकमात्र विकल्प है सोशल डिस्टेंसिंग। सोशल डिस्टेंसिंग को बहुत ही गंभीरता से लेने की जरूरत है। यह परिवार से लेकर प्रधानमंत्री सबके लिए है। कुछ लोगों की लापरवाही की बड़ी कीमत सबको चुकानी पड़ सकती है। इसलिए पूरे देश को 21 दिनों के लिए लॉकडाउन किया जा रहा है। आप सिर्फ और सिर्फ अपने घर में रहें।

कोरोना वायरस इतनी तेजी से फैल रहा कि सभी देशों की तैयारियां बहुत कम पड़ जा रही हैं। कोरोना वायरस से लड़ने के लिए कई देशों में पूरी तरह से लॉकडाउन की घोषणा की गई थी। कई जगहों पर यह अभी भी लागू है। इन देशों के नागरिकों ने इसे पूरी तरीके से पालन किया है। अब भारत की बारी है।

उन्होंने कहा, "निश्चित तौर पर इस लॉकडाउन की एक आर्थिक कीमत देश को उठानी पड़ेगी, लेकिन एक-एक भारतीय के जीवन को बचाना इस समय मेरी, भारत सरकार की, देश की हर राज्य सरकार की, हर स्थानीय निकाय की सबसे बड़ी प्राथमिकता है।" प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि इस दौरान देश की जनता को खाने-पीने की चीजों की कमी नहीं होगी। जीवन जीने के लिए हमें हर सावधनी बरतनी पड़ेगी।

स्वास्थ्य सेवाओं के लिए 15 हजार करोड़

कोरोना से लड़ने के लिए सरकार ने 15 हजार करोड़ रुपए का प्रावधान किया है। इसके तहत आइसोलेशन वार्ड और अन्य स्वास्थ्य सुविधाओं को बढ़ाने पर काम किया जायेगा। इसके लिए राज्य सरकारों को भी कहा गया है कि वे इस समय केवल और केवल स्वास्थ्य सुविधाओं पर ध्यान दें।

क्‍या होता है लॉकडाउन?

लॉकडाउन का मतलब है कि इस दौरान आपातकालीन/आवश्‍यक सेवाओं को छोड़कर सभी सेवाओं पर रोक लगा दी जाती है। लॉकडाउन की स्थिति में किसी भी शख्स को जीवन जीने के लिए बुनियादी और आवश्यक चीजों को लेने के लिए ही बाहर निकलने की इजाजत होती है। जैसे अगर किसी को राशन, दवा, सब्जी की जरूरत है तो वह बाहर जा सकता है। साथ ही एटीएम और अस्‍पताल भी खुले रहते हैं। लॉकडाउन का मतलब कर्फ्यू नहीं होता है। कर्फ्यू के वक्‍त राशन और दूध जैसी आवश्‍यक दुकानें भी बंद रहती हैं।

इससे पहले पीएम मोदी ने देश की जनता को 22 मार्च के जनता कर्फ्यू को सफल कराने के लिए धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा, "देश ने दिखा दिया कि जब मानवता पर संकट आती है, तो हम सब एकजुट हो जाते हैं। सभी देशवासियों को धन्यवाद।"

(स्टोरी अपडेट हो रही है)

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.