जैसा पिता, वैसा पुत्र? राजनीतिक घरानों के कारण 'भाग्यों का उलटाव' क्यों होता है

बच्चों की संख्या के आधार पर बेटा वाले राजनेताओं के लिए एक मात्र बेटी वाले राजनेता की तुलना में घराना बनाने की दोगुनी संभावना होती है जबकि उनकी अधिकांश जनसांख्यिक और राजनीतिक विशेषताएं एक जैसी दिखती हैं

जैसा पिता, वैसा पुत्र? राजनीतिक घरानों के कारण साभार: इंटरनेट

सिद्धार्थ जॉर्ज

अनेक समाजों ने वंशवादी शासन समाप्त करने के लिए लोकतंत्र अपना लिया लेकिन राजनीतिक घराने लोकतांत्रिक देशों में हर जगह मौजूद हैं। इस आलेख में भारत में वंशवादी राजनीति के आर्थिक प्रभावों का अध्ययन किया गया है। इसमें पाया गया कि वंशवादी शासन का कुल मिलाकर नकारात्मक आर्थिक प्रभाव होता है। पैत्रिक मानव पूंजी माता-पिता को अपने काम में अच्छा प्रदर्शन करने के लिए प्रोत्साहित करती है और यह संकेत देती है कि उनका वंशज सक्षम है। लेकिन विरासत में मिली राजनीतिक पूंजी से कमजोर प्रदर्शन करने के बाद भी वंशजों को सत्ता में बने रखने की अनुमति मिल जाती है।

ऍक्विनो, भुट्टो, त्रूदो, युधोयोनो, गांधी, ली, फूजीमोरी – लोकतांत्रिक देशों में राजनीतिक घराने हर कहीं मौजूद हैं। हालांकि वंशवादी शासन खत्म करने के लिए अनेक समाजों ने लोकतंत्र अपना लिया है, लेकिन लगभग 50 प्रतिशत लोकतांत्रिक देशों में एक ही परिवार से देश के अनेक प्रधानमंत्री या राष्ट्रपति चुने गए हैं। लोकतांत्रिक समाजों में राजनीति किसी भी दूसरे पेशे से काफी अधिक वंशवादी है।

व्यक्तियों में अपने पिता के पेशे में जाने की औसतन पांचगुनी अधिक संभावना होती है। लेकिन राजनेता पिता के मामले में उसकी संतानों के राजनीति में जाने की 110-गुनी अधिक संभावना होती है जो चिकित्सा और कानून जैसे अन्य संभ्रांत पेशों मेंवंशवादी पूर्वाग्रह के दोगुनेसे भी अधिक है। उनकी व्यापकता और प्रभाव के बावजूद, राजनीतिक घरानों के आर्थिक प्रभावों के बारे में हमें बहुत कम जानकारी है।

प्रतीकात्मक तस्वीर साभार: इंटरनेट

वंशवादी राजनीति के प्रभाव सैद्धांतिक रूप से अस्पष्ट हैं

वंशवादी राजनीति विकास को कैसे प्रभावित करती है, इसके बारे में अर्थशास्त्रीय सिद्धांत द्वारा अस्पष्ट पूर्वानुमान ही किए गए हैं। एकतरफ, विरासत आगे बढ़ाने की नीयत राजनेताओं की समय सीमाओं को बढ़ा सकती है और उन्हें दीर्घकालिक निवेश करने के लिए प्रोत्साहित कर सकती है। ये संस्थापक प्रभाव आर्थिक विकास के लिए अच्छे हो सकते हैं।

हालांकि अगर कोई राजनीतिक पूंजी पैत्रिक है (जैसे कि कोई प्रमुख नाम या सशक्त नेटवर्क), तो वंशवादी राजनीति अच्छे नेताओं को चुनने और कार्यकाल में उन्हें अनुशासित रखने के लिहाज से चुनावों को कम प्रभावी बना दे सकती है। आशंका है कि येवंशज प्रभाव विकास के लिए बुरेहोतेहैं। वंशवादी राजनीति का समग्रता में अस्पष्ट प्रभाव होता है क्योंकि वह संस्थापक के प्रभावों और वंशज के प्रभावों का संयुक्त परिणाम होता है।

भारत: राजनीति घरानों के अध्ययन के लिए हमारा स्थान

हाल के रिसर्च (जॉर्ज एवं पोनाट्टू 2018) में हमने भारत में वंशवादी राजनीति के आर्थिक प्रभावों का अध्ययन किया है। भारत में स्थानीय आर्थिक विकास में विधायक-सांसद महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं, और घरानों के गुणों का सार्वजनिक रूप से मुकाबला होता है। हमने 1862 – जब भारतीय लोगों को सबसे पहले अंग्रेजी राज की विधान-सभाओं में सेवा देने की स्वीकृति मिली थी – से लेकर अभी तक के भारत की राष्ट्रीय संसद के सभी सांसदों की जीवन से संबंधित विस्तृत जानकारी को संकलित करके राजनेताओं के बीच पारिवारिक संबंधों की पहचान की है।

हम लोगों ने पाया है कि भारत में राजनीतिक घरानों की व्यापक मौजूदगी है: 10 प्रतिशत सांसद पूर्व सांसदों के बच्चे हैं। यह रैंडम आधार पर सांसद बनने के पूर्वानुमान की तुलना में लगभग 2,500-गुना अधिक है। और 35 प्रतिशत गांवों का संसद में कम से कम एक वंशवादी राजनेता द्वारा प्रतिनिधित्व किया गया है।

आर्थिक विकास पर किसी वंशवादी राजनीतिक वातावरण के (1) वंशज प्रभाव, (2) संस्थापक प्रभाव, और (3) समग्र प्रभाव की पहचान के लिए हमने तीन अलग-अलग अनुभवसिद्ध (एंपीरिकल) रणनीतियां अपनाई हैं।

साभार:इंटरनेट

घरानों के वंशज विकास के लिए बुरे हैं

सबसे पहले तो हमने नजदीकी हार-जीत वाले चुनावों में रिग्रेशन डिस्कंटिन्यूइटी (आरडी) डिजाइन का उपयोग करके वंशज प्रभाव की पहचान की। हम ने घरानों के वंशजों (अर्थात पूर्व पदधारियों के प्रत्यक्ष रिश्तेदारों) और गैर-वंशजों के बीच नजदीकी प्रतिस्पर्धा पर फोकस किया और उन स्थानों की तुलना की जहां किसी वंशज की नजदीकी हार हुई थी और जहां किसी वंशज की नजदीकी जीत हुई थी।

इन चुनावों में वंशजों और गैर-वंशजों के लिए जनसांख्यिक और राजनीतिक विशेषताएं एक जैसी थीं, और उन्हें एक जैसे स्थानों पर एक जैसी दर पर जीत हुई थी। इसके बावजूद, हमने पाया कि जिन गांवों का प्रतिनिधित्व किसी चुनावी कार्यकाल में किसी वंशज ने किया था, वे गांव अपेक्षाकृत गरीब थे और वहां अपेक्षाकृत कम सार्वजनिक चीजें मौजूद थीं। उनके ईंट के बने घरों में रहने और उनके पास फ्रिज या मोबाइल जैसी बुनियादी सुविधाएं होने की कम संभावना थी। वंशजों के एक अतिरिक्त मानक विचलन (स्टैंडर्ड डेविएशन) एक्सपोजर से किसी गांव की संपत्ति के रैंक में 12 प्रतिशत अंकों की कमी आ जाती है।

वंशजों के कमजोर प्रदर्शन का कारण: नैतिक जोखिम

वंशजों के कमजोर प्रदर्शन का एक कारण नैतिक जोखिम है। वंशजों को नैतिक जोखिम का सामना करना पड़ता है क्योंकि उन्हें अपने पिता के प्रति निष्ठावान मतदाता विरासत में मिलते हैं, जिससे प्रयत्न करने और अपने कार्यकाल में अच्छा प्रदर्शन करने का उनका प्रोत्साहन कम हो जाता है। राजनीतिक पूंजी का अच्छा-खासा हिस्सा पैत्रिक होने लायक लगता है। माता-पिता और संतान को होने वाले मतदान के हिस्से का सह संबंध (कोरिलेशन) 0.23 है, जो खुद किसी राजनेता को विभिन्न चुनावों में प्राप्त होने वाले मतों के हिस्सों के बीच सह संबंध के लगभग एक-तिहाई से बड़ा है।

हमने संसदीय क्षेत्र की सीमा में परिवर्तन ('रिडिस्ट्रिक्टिंग') जो पूर्वज के पूर्ववर्ती चुनाव क्षेत्र और वंशज के चुनाव क्षेत्र के बीच ओवर लैप को प्रभावित करता है ,का उपयोग कर प्रदर्शन पर नैतिक जोखिम के प्रभावों को अलग कर दिया है। रिडिस्ट्रिक्टिंग से वंशज को हर चुनाव में विरासत में मिले मतों को झटका लगता है। जब रिडिस्ट्रिक्टिंग से किसी प्रत्याशी के चुनाव क्षेत्र और उसके पिता के पूर्ववर्ती चुनाव क्षेत्र के बीच स्थानिक ओवरलैप 10 प्रतिशत बढ़ जाता है, तो उस प्रत्याशी को 1.2 प्रतिशत अंक अधिक मत प्राप्त होते हैं और उसके द्वारा 2.8 प्रतिशत अंककम परियोजनाएं पूरी की जाती हैं। कुल मिलाकर नैतिक जोखिम से वंशजों और गैर-वंशजों के बीच प्रदर्शन में होने वाले फासले की लगभग 40 प्रतिशत व्याख्या हो जाती है।

आकृति1.नैतिक जोखिम की जांच के लिए प्रयुक्त 'रिडिस्ट्रिक्टिंग'परिवर्तन

वसीयत की नीयत विकास के लिए अच्छी होती है

दूसरे, हमने दर्शाया कि वसीयत की नीयत राजनेताओं को अपने काम में बेहतर प्रदर्शन करने के लिए प्रोत्साहित करती है। इसकी जांच के लिए कि वसीयत की नीयत कार्यगत व्यवहार को प्रभावित करता है या नहीं, हमने राजनेताओं की समय सीमाओं पर हुए शॉक की पहचान की है। भारत में राजनीति में प्रवेश के लिए महिलाओं को काफी बाधाओं का सामना करना पड़ता है।

बच्चों की संख्या के आधार पर बेटा वाले राजनेताओं के लिए एक मात्र बेटी वाले राजनेता की तुलना में घराना बनाने की दोगुनी संभावना होती है जबकि उनकी अधिकांश जनसांख्यिक और राजनीतिक विशेषताएं एक जैसी दिखती हैं। अपने कार्यकाल में बेटा वाले राजनेता अधिक मेहनत करते हैं। एक ही क्रियान्वयन एजेंसी होने पर भी उनके द्वारा स्थानीय विकास परियोजनाएं पूरी कराने की संभावना दो प्रतिशत अंक अधिक होती है। निर्वाचन क्षेत्र में विकास कार्य का जायजा लेने के लिए उनके द्वारा स्थानीय प्रशासकों के साथ तय त्रैमासिक बैठकें करने की संभावना छः प्रतिशत अंक अधिक होती है। और मतदाताओं द्वारा उनके प्रदर्शन का बेहतर मूल्यांकन भी किया जाता है।

साभार: इंटरनेट

आकृति2.प्रदर्शन के मामले में बेटा वाले राजनेताओं की सिर्फ बेटियों वाले राजनेताओं के साथ तुलना

वंशवादी राजनीति का समग्र प्रभाव:'भाग्यकेउलटाव'वाला विकास पैटर्न

तीसरे, हमने वंशवादी राजनीति के वातावरण के समग्र प्रभाव का आकलन किया है जो संस्थापक के प्रभावों और वंशज के प्रभावों का संयुक्त परिणाम होता है। हमारी अनुभवसिद्ध रणनीति में ऐसी दुनिया से शुरू करके जिसमें घराने संभव नहीं हों, घरानों की मौजूदगी वालीदुनिया तकजाने के लिए आदर्श प्रयोग को सिमुलेट करने का प्रयास किया गया है। चूंकि बेटों वाले राजनेताओं द्वारा अपना घराना स्थापित करने की अधिक संभावना होती है और बेटे आम तौर पर माता-पिता के निर्वाचन क्षेत्रों से ही लड़ते हैं इसलिए जिन स्थानों के पूर्व पदधारियों का कोई बेटा होता है, वे संस्थापकों और वंशजों, दोनों से अवगत रहते हैं।

इस वैरिएशन का उपयोग करके हम पाते हैं कि वंशवादी शासन के कुल मिलाकर नकारात्मक आर्थिक प्रभाव होते हैं और उसके चलते स्पष्ट रूप से 'भाग्य के उलटाव' वाला विकास पैटर्न स्थापित होता है। बेटे वाले सांसदों के एक्सपोजर का आरंभ में विकास पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है जब राजनेताओं की पहली पीढ़ी सत्ता में होती है और वह वसीयत संबंधी चिंता से प्रेरित होती है। लेकिन जब राजनेताओं की दूसरी पीढ़ी राजनीति में आती है और अपने माता-पिता के निर्वाचन क्षेत्र की विरासत को अपनाती है, तो बेटे वाले सांसदों के अधिक आरंभिक एक्सपोजर वाले ये स्थान पिछड़ जाते हैं और हमारी सेंपल अवधि के अंत तक वे अधिक गरीब हो जाते हैं और उनके पास कम सार्वजनिक चीजें होती हैं।

समय में बदलाव वाले ये पैटर्न किसी घराने के जीवनचक्र के साथ संगतिपूर्ण होते हैं, लेकिन सर्वाधिक स्पष्ट रूप से भ्रामक व्याख्याओं के साथ (जैसे कि बेटे की पसंद) संगतिपूर्ण नहीं होते हैं। साथ ही, आरंभिक सकारात्मक प्रभाव और बाद में होने वाला नकारात्मक प्रभाव, दोनो ही कम्युनिस्ट पार्टी जैसे घरानों के विरोधी मानकों वाले दलों के मजबूत प्रभाव वाले क्षेत्रों में अनुपस्थित होते हैं। कुल मिलाकर किसी वंशवादी शासन के एक्सपोजर में एक मानक विचलन वृद्धि होने से किसी गांव के धन शतमक(परसेंटाइल)दर्जेमें 7 प्रतिशत अंकों की कमी आती है।

आकृति3.वंशवादी शासन के कारण 'भाग्य के उलटाव' वाला विकास पैटर्न

वंशवादी राजनीति का सरल सिद्धांत

ये अनुभव सिद्ध तथ्य वंशवादी राजनीति के सरल सिद्धांत के साथ संगतिपूर्ण हैं जिसका मुख्य तत्व यह है कि मानव पूंजी (अर्थात शासन की क्षमता) और राजनीतिक पूंजी (अर्थात नाम की पहचान, नेटवर्क), दोनों ही चीजें पैतृक हैं। पैतृक मानव पूंजी से माता-पिता को अपने कार्यकाल में अच्छा प्रदर्शन करने के लिए संकेत संबंधी प्रोत्साहन मिलते हैं और संकेत मिलता है कि उनका वंशज सक्षम है। वहीं पैतृक राजनीतिक पूंजी से वंशजों के लिए कमजोर प्रदर्शन करने के बावजूद सत्ता में बने रहने की गुंजाइश बनती है।

नीति निहितार्थ

हमारे परिणाम संकेत देते हैं कि पैतृक राजनीतिक पूंजी से प्रखर नेताओं को चुनने और कार्यकाल के दौरान उन्हें अनुशासित रखने की चुनावों की क्षमता कमजोर हो जाती है। हमारे शोध परिणाम यह भी दर्शाते हैं कि विरासत में मिले राजनीतिक लाभों का बड़ा हिस्सा स्थानीय लगता है। अपने माता-पिता के पूर्व निर्वाचन क्षेत्र से चुनाव लड़ने की बच्चों की क्षमता को सीमित करने वाले राजनीतिक साधन (जैसे कि अभी फिलिपींस के सीनेट द्वारा जिन पर विचार किया जा रहा है) घरानों को अनुशासित करने में और संभवतः भले के लिए वंशवादी प्रोत्साहनों को उपयोग में लाने में भी मददगार हो सकते हैं।

लेखक हार्वर्ड यूनिवर्सिटी में पीएचडी स्टूडेंट हैं।

यह लेख आइडियाज फॉर इंडिया की अनुमति से पुन र्मुद्रित किया गया है।

Share it
Top