सेहत की रसोई में आज हम आपको बताएंगे गुलकंद का मिल्कशेक बनाना

सेहत की रसोई में आज हम आपको बताएंगे गुलकंद का मिल्कशेक बनानास्वादिष्ट गुलकंद मिल्कशेक रेसिपी।

सेहत की रसोई यानि बेहतर सेहत आपके बिल्कुल करीब। हमारे बुजुर्गों का हमेशा मानना रहा है कि सेहत दुरुस्ती के सबसे अच्छे उपाय हमारी रसोई में ही होते हैं। इस कॉलम के जरिये हमारा प्रयास है कि आपको आपकी किचन में ही सेहतमंद बने रहने के व्यंजन से रूबरू करवाया जाए। सेहत की रसोई में इस सप्ताह हमारे मास्टरशेफ भैरव सिंह राजपूत इस बार पाठकों के लिए ला रहे हैं एक बेहतरीन रेसिपी। भैरव इस सप्ताह गुलकंद मिल्कशेक तैयार करने की विधि बता रहें हैं और इस रेसिपी के खास गुणों की वकालत करेंगे हमारे अपने हर्बल आचार्य यानि डॉ. दीपक आचार्य-

गुलकंद मिल्कशेक बनाने की आवश्यक सामग्री

  • गुलकंद: 50 ग्राम
  • गुलाब जल: 50 ग्राम
  • पुदिना की पत्तियां: 4-5
  • गुलाब की पंखुड़ियां: 4-5
  • दूध: 400 मिली
  • खोया: 50 ग्राम
  • मिसरी शक्कर: 20 ग्राम
  • बर्फ के टुकड़े/ क्यूब्स: 4 (आवश्यकतानुसार)

विधि

यदि इस रेसिपी का मज़ा दोपहर में लेना हो तो सुबह सबसे पहले दूध की बतायी मात्रा को गर्म करके ठंडा होने दें और 2-3 घंटों के लिए रेफ्रिजरेट कर दें। दोपहर में जिस वक्त इसे तैयार करना हो तब एक मिक्सिंग जार में गुलकंद, गुलाब जल, पुदिना की हरी पत्तियां, रेफ्रिजरेट किया हुआ दूध, खोया, और मिसरी शक्कर डालकर मध्यम गति से मिक्सर में घुमा दें, ऐसा करने से सारा मिश्रण भलिभांति मिक्स हो जाएगा और दूध पर बढ़िया झाग भी दिखायी देगा।

बस, हो गया तैयार गुलकंद मिल्कशेक। फटाफट इसे कांच की गिलास में डाल दें, गुलाब की पंखुड़ियों से इसे गार्निश करें और ऊपर से बर्फ के टुकड़े भी डाले जा सकते हैं। चिलचिलाती गर्मी में इस मिल्क शेक के अपने अलग जलवे होंगे, अब इसके गुणों का जिक्र तो हर्बल आचार्य ही करेंगे।

क्या कहते हैं हर्बल आचार्य

गर्मियां सिर पर हैं और ऐसे में लू के थपेड़ों और तपिश से बचने के लिए कोई भी पारंपरिक रेसिपी को इस्तमाल में लाना बेहद जरूरी है। बुलबुलेयुक्त पेय पदार्थों के बुरे असर से हम सभी परिचित हैं और ऐसे में चाहे नींबू पानी की बात हो या दूध आधारित बने ठंडे पेय पदार्थ, ये सभी हमारी सेहत की बेहतर देखभाल में सहायक होते हैं। इस सप्ताह मास्टरशेफ ने जिस रेसिपी का जिक्र किया है वो इस मौसम के लिए अतिउत्तम है।

ठंडा दूध और पुदीना शरीर के तापमान को नियंत्रित रखने में मदद करते हैं। गुलकंद मस्तिष्क की गर्मी को सम्हालता है और दूध के साथ इसका सेवन शरीर के काफी हितकर भी माना गया है। गर्मियों में शरीर में पानी की कमी को दूर करने, पेट की गर्मी और विकारों को शांत करने के लिए गुलकंद मिल्कशेक काफी मदद करता है।

स्वाद के सेहत का ख्याल भी रखा जाए, इससे बेहतर और क्या हो? चलिए फटाफट तैयारी करें इस स्वादिष्ट रेसिपी को बनाने की। और हां, इन गर्मियों में बाज़ार में बिकने वाले रंग-बिरंगे और काले पेय पदार्थों से तौबा जरूर करें।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top