‘देश में फिजियोथेरेपी को लेकर जागरूकता की कमी’

‘देश में फिजियोथेरेपी को लेकर जागरूकता की कमी’वर्ल्ड फीजियोथेरेपी डे ।

नई दिल्ली (आईएएनएस)। दुनिया भर में 8 सितम्बर वर्ल्ड फीजियोथेरेपी डे के रूप में मनाया जा रहा है। फीजियोथेरेपी मेडिकल साइंस की ऐसी प्रणाली है जिसकी सहायता से जटिल रोगों का इलाज संभव होता है। देश में इसके प्रति जागरूकता कम होने से बहुत कम लोग इसका फायदा ले पाते हैं। फीजियोथेरेपी में ऑस्टिओअर्थराइटिसटिस (गठिया) और स्पाइनल इंजरी जैसी जटिल बीमारियों का इलाज है। इसमें किसी तरह का साइड इफ्फेक्ट नहीं होना इसको आकर्षक बनाता है।

वर्ल्ड फीजिओथेरेपी डे के उपलक्ष्य में के. आर. वी. हेल्थकेयर एंड फीजियोथेरेपी की संस्थापक और प्रबंध निदेशक डॉ. रिदवाना सनम का कहना है कि भारत में फीजियोथेरेपी को लेकर लोगों में जागरूकता की कमी है। हमारी जीवन शैली दिन प्रति दिन तेज होती जा रही है, ऐसे में हमें फिजियोथेरेपी को अपना कर खुद को दुरुस्त रखना होगा।

ये भी पढ़ें:आंखों से जुड़ी बीमारियों से रहना है दूर तो विटामिन ए जरूरी

उन्होंने कहा कि हम योग को प्राथमिक चिकित्सा की श्रेणी में ला रहे हैं जब की फीजियोथेरेपी योग का ही शुद्ध रूप है। फीजियोथेरेपी में हम मरीज की मांशपेशियों की गतिविधि समझ उसका इलाज करते हैं। खिलाड़ी, वरिष्ठ नागरिक और चोटों का इलाज इस विधि से आसानी से किया जा सकता है।

वर्ल्ड कॉन्फेडरेशन ऑफ फिजिकल थेरेपी ने 8 सितम्बर को वल्र्ड फिजियोथेरेपी डे घोषित किया है, जिससे लोगो में इसके प्रति जागरूकता बढ़े और वर्तमान समय की जीवन शैली के अनुरूप उन्हें बिना किसी दुष्प्रभाव के इलाज संभव हो सके।

ये भी पढ़ें:स्मार्ट चश्मे का एक ही लैंस करेगा विभिन्न लैंसों का काम

Share it
Share it
Share it
Top