परीक्षा में ज्यादा तनाव लेना हानिकारक

परीक्षा में ज्यादा तनाव लेना हानिकारकपरीक्षा में ज्यादा तनाव लेना हानिकारक।

लखनऊ। परीक्षा होने से पहले अक्सर छात्र खाना पीना और सोना छोड़ देते हैं क्योंकि उनको बहुत घबराहट होती है। तनाव, घबराहट की एक सामान्य प्रक्रिया है। कई बार तनाव अच्छी भूमिका अदा करता है। तनाव अगर एक हद तक हो तो वो हमें काम करने की प्रेरणा देता है और हमें हमारे लक्ष्य को पूरा करने में भी मदद करता है।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

तनाव में मस्तिष्क से क्राटीसोल, जो एक बहुत महत्वपूर्ण हार्मोन है, वो भी निकलता है, जिससे हमारे अंदर दूसरों के भावनाओं को समझने की क्षमता को बढ़ाता है। लेकिन तनाव तब हानिकारक भी हो जाता है, जब हम उन्हें हद से ज्यादा बढ़ा देते हैं। यही चीज अक्सर छात्रों के साथ भी होती है।

16 साल के अनुज का जब रिजल्ट आया तो उसे केवल 40 प्रतिशत अंक ही मिले थे। पूरे दिन वो घर नहीं गया और घर लौटने के बाद उसने अपने आप को कमरे में बंद कर लिया। मां बाप के लाख समझाने पर भी जब उसने दरवाजा नहीं खोला, तो जबरदस्ती दरवाजा तोड़ा गया और सामने उसकी बॉडी थी। सुसाइड नोट में लिखा था कि उसने सबको तकलीफ दी है और वो अब जीना नहीं चाहता। ये घटना कई लोगों के साथ हो चुकी है बल्कि तनाव में अपने लोगों से बात करना जरूरी है।

इन बातों का रखें ध्यान तो नहीं होगी ज्यादा दिक्कत

  • मेहनत सारे साल करनी चाहिए केवल परीक्षा के समय में नहीं।
  • एक दिनचर्या बनाना बहुत जरूरी है, जिसमें हर क्रियाविधि के बारे में लिखा होना चाहिए।
  • इस दिनचर्या में चार चीजों के बारे में ध्यान देना जरूरी है।
  • व्यायाम करना चाहिए। आधे घंटे टहलना या योग करना बहुत जरूरी है।
  • हर दिन अपने आप को साफ रखना भी बहुत जरूरी है जैसे नहाना, ब्रश करना, कपड़े बदलना आदि।
  • एकेडमिक गतिविधियां करना। विषयों को बांटकर पढ़ें।
  • मनोरंजन करना और लोगों से मिलना जुलना जैसे फेसबुक, व्हाट्स एप और घर से बाहर निकलना चाहिए।
  • जो विषय कठिन हों उन्हें उस समय पढ़ें, जब दिमाग बिल्कुल फ्रेश हो और आसान विषय को दूसरे समय पर पढ़ें।
  • हाइलाइर्टस, रंग बिरंगें पेन का इस्तेमाल करके महत्वपूर्ण चीजों को अंडरलाइन कर लेना चाहिए, इससे याद करने में आसानी होती है।
  • इतिहास, भूगोल जैसे विषयों को फ्लो चार्ट के मदद से पढऩा चाहिए। चित्र ज्यादा देर तक दिमाग में याद रहते हैं।
  • खाने और सोने में कोताही न करें। सात से आठ घंटे की नींद जरूरी है दिमाग को फ्रेश और आराम देने के लिए और भूखे पेट पढ़ाई भी नहीं हो सकती।
  • परीक्षा में कोई दिक् कत हो तो अपने घर वालों से बात करें। प्रियजनों को जरूर बताएं।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top