युवावस्था में किडनी की बीमारी से बचने के लिए कम करें नमक का सेवन  

युवावस्था में किडनी की बीमारी से बचने के लिए कम करें नमक का सेवन  खाने में नमक की मात्रा कम करके बचे बीमारियों से 

मुंबई (भाषा) स्वास्थ्य विशेषज्ञों का मानना है कि खाने में नमक कम रखा जाये तो युवावस्था में किडनी की बीमारियों से बचा जा सकता है। देश में मौत के शीर्ष पांच कारणों में किडनी की बीमारी भी शमिल है।

ये भी पढ़ें- पुरुषों का साइकिल चलाना यौन सेहत के लिए हानिकारक नहीं

विशेषज्ञों का मानना है कि हमारे देश में महिलाएं किडनी की बीमारी से निपटने में काफी महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकती हैं। उनका कहना है कि ज्यादातर घरों में रसोई की जिम्मेदारी महिलाओं की होती है, इसलिए वे आसानी से भोजन में नमक की मात्रा नियंत्रित कर सकती हैं। मुंबई के सैफी अस्पताल के नेफ्रोलॉजिस्ट डॉक्टर अरूण पीँ. दोशी का कहना है कि डायलिसिस में 25 से 30 वर्ष आयु वर्ग के मरीजों की संख्या पिछले पांच-छह वर्ष में बहुत ज्यादा बढ़ गयी है।

ये भी पढ़ें- गर्मियों में हरी सब्ज़ियों के साथ फ़लों का अधिक करें सेवन

डॉक्टर दोशी का कहना है कि गुर्दा/किडनी के कामकाज में दिक्कत सबसे ज्यादा उच्च रक्तचाप के कारण आती है और भोजन में नमक की मात्रा सीधे तौर पर रक्तचाप से जुड़ी हुई है।

डॉक्टर का कहना है, "ज्यादा मात्रा में नमक के सेवन से उच्च रक्त चाप हो सकता है, लेकिन आप रक्तचाप को नियंत्रित कर सकते हैं। ऐसे में आप आसानी से नमक की मात्रा कम करके किडनी फेल होने से भी रोक सकते हैं।"

ये भी पढ़ें- मछली खाने के हैं शौकीन, तो खाने से पहले करें टेस्ट

Share it
Share it
Share it
Top