स्पोर्ट्स

भारतीयों के दिमाग में बैठा है मिशेल स्टार्क : मिशेल मार्श 

बेंगलुरु (भाषा)। आस्ट्रेलिया के आलराउंडर मिशेल मार्श को खुशी है कि तेज गेंदबाज मिशेल स्टार्क (25 वर्ष) ने भारतीय बल्लेबाजों को चिंतित कर रखा है। स्टार्क ने पहले टेस्ट मैच में अच्छी फार्म में चल रहे बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा और कप्तान विराट कोहली को सस्ते में आउट करके अहम भूमिका निभाई थी।

मार्श ने दूसरे टेस्ट मैच से पूर्व संवाददाताओं से कहा, ‘‘यह बहुत अच्छा है कि अगर वह (स्टार्क ) भारतीयों में दिमाग में घुसा हुआ है, उम्मीद है कि वह हमारे लिए आगे भी कुछ महत्वपूर्ण विकेट हासिल करेगा।'' उन्होंने स्टार्क को भारतीय परिस्थितियों में शानदार गेंदबाज करार दिया जो रिवर्स स्विंग भी हासिल कर सकता है।

स्पोर्ट्स से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

मार्श ने कहा, ‘‘यदि वह दुनिया का सर्वश्रेष्ठ गेंदबाज नहीं है तो सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजों में से एक है, मेरा मानना है कि इन परिस्थितियों में जबकि स्पिनरों को लेकर बातें चल रही है तब भी हमारा मुख्य अस्त्र है।'' उन्होंने कहा कि स्टार्क और हेजलवुड दोनों की पुरानी गेंद से विकेट लेने की क्षमता से आस्ट्रेलियाई टीम का विश्वास बढ़ा है कि वह भारतीय बल्लेबाजों को परेशानी में डाल सकती है।

मार्श ने कहा, ‘‘पुणे में विकेट ने ही हमारे पक्ष में काफी काम किया और जरूरी नहीं कि यहां भी ऐसा हो। रिवर्स स्विंग हमारे लिए बेहद अहम होगी। हम इसका सही उपयोग कर सकते हैं, हमारे पास दो ऐसे गेंदबाज हैं जो रिवर्स स्विंग कराने में माहिर हैं, वे अब भी हमारे लिए मारक हथियार हैं।''

मार्श भाईयों में छोटे भाई मिशेल ने पूरी तरह से टर्न ले रही पुणे की पिच पर 76 गेंदें खेली और ऐसा हल्के हाथों से खेलने से वह ऐसा कर पाए। उन्होंने कहा, ‘‘यह हल्के हाथों से खेलने की सीख से जुड़ा है, इससे करीबी क्षेत्ररक्षकों से अधिक से अधिक बचा जा सकता है, यहां अच्छा प्रदर्शन करना काफी महत्वपूर्ण है और इस पर हमारे सभी बल्लेबाज काम कर रहे हैं।''

इस आलराउंडर मिशेल स्टार्क ने कहा, ‘‘इन परिस्थितियों में आपको आक्रमण का अधिकार हासिल करना होता है और ऐसा ठोस रक्षण से ही संभव है] मैं इसी पर काम कर रहा हूं।''

मैच रेफरी क्रिस ब्राड की रिपोर्ट के बाद अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद ने भी पुणे के विकेट को खराब करार दिया लेकिन मार्श पिच पर टिप्पणी नहीं करना चाहते हैं। उन्होंने कहा, ‘‘मैं इस पर टिप्पणी नहीं करुंगा। हम 22 गज की पिच पर खेलते हैं और वह दोनों टीमों के लिए एक जैसी होती है, पिच तैयार की गई थी और हम उस पर खेले। मैं अपने 20 टेस्ट मैचों के करियर में जिन मैचों में खेला उनमें पुणे की जीत सर्वश्रेष्ठ में से एक थी। यह शानदार जीत थी।''