वनडे में कोहली की जगह धोनी करेंगे कप्तानी, भारत का क्लीनस्वीप का इरादा

वनडे में कोहली की जगह धोनी करेंगे कप्तानी, भारत का क्लीनस्वीप का इरादाधर्मशाला के एचपीसीए स्टेडियम में अभ्यास करते टीम इंडिया के सदस्य।

धर्मशाला (भाषा)। टेस्ट श्रृंखला में क्लीनस्वीप के बाद आत्मविश्वास से भरा भारत रविवार को यहां न्यूजीलैंड के खिलाफ शुरू हो रही पांच मैचों की एकदिवसीय क्रिकेट श्रृंखला के पहले मैच से दबादबा जारी रखने के इरादे से उतरेगा।

धोनी के हाथों में होगा टीम की कमान

विराट कोहली की अगुआई में भारत ने टेस्ट श्रृंखला में 3-0 की जीत के साथ आईसीसी रैंकिंग के शीर्ष स्थान हासिल किया है लेकिन अब सबका ध्यान एकदिवसीय क्रिकेट पर होगा। करिश्माई महेंद्र सिंह धोनी सीमित ओवरों की श्रृंखला में कोहली की जगह कप्तानी करते नजर आएंगे।

आईसीसी वनडे रैंकिंग में तीसरा स्थान दोबारा पाने का भारत पर दबाव

टेस्ट श्रृंखला में कोहली की अगुआई में टीम के शानदार प्रदर्शन के बाद अब धोनी पर दबाव है क्योंकि आईसीसी वनडे रैंकिंग में तीसरा स्थान दोबारा हासिल करने के लिए भारत को श्रृंखला 4-1 या इससे बेहतर अंतर से जीतनी होगी। न्यूजीलैंड फिलहाल 113 अंक के साथ तीसरे स्थान पर है जबकि भारत 110 अंक से चौथे पायदान पर है। भारत हालांकि श्रृंखला की शुरुआत प्रबल दावेदार के रुप में करेगा। न्यूजीलैंड ने भारत में कभी द्विपक्षीय श्रृंखला नहीं जीती है और पिछले चारों मौकों पर उसे हार का सामना करना पड़ा है।

वनडे मैच में न्यूजीलैंड पर भारत का पलड़ा भारी

कई टीमों की प्रतियोगिता में हालांकि न्यूजीलैंड ने भारत में 18 मैच जीते हैं जबकि 11 मैचों में उसे शिकस्त का सामना करना पड़ा है लेकिन टीम कभी द्विपक्षीय एकदिवसीय श्रृंखला नहीं जीत पाई। न्यूजीलैंड को दोनों टीमों के बीच 1988, 1995, 1999 और 2010 में हुई पिछली द्विपक्षीय वनडे श्रृंखलाओं में शिकस्त झेलनी पड़ी है।

वर्ष 2010 में हुई पिछली श्रृंखला में कई नियमित खिलाड़ियों की गौरमौजूदगी में गौतम गंभीर की अगुआई में भारतीय टीम ने न्यूजीलैंड को 5-0 से हराया था। दोनों टीमों के बीच अब तक 93 मैच खेले गए हैं जिसमें भारत ने 46 जबकि न्यूजीलैंड ने 41 जीत दर्ज की हैं। पांच मैचों का कोई नतीजा नहीं निकला जबकि एक मैच टाई रहा। हालांकि न्यूजीलैंड ने दोनों टीमों के बीच खेले गए पिछले पांच वनडे मैचों में से चार जीते हैं जबकि एक टाई रहा।

अश्विन की कमी खलेगी, कुछ को करना होगा साबित

प्रेरणादायी कप्तान धोनी की मौजूदगी के बावजूद टीम इंडिया को रविचंद्रन अश्विन, रविंद्र जडेजा और मोहम्मद शमी जैसे तीन मुख्य खिलाड़ियों की कमी खलेगी। आगामी व्यस्त कार्यक्रम को ध्यान में रखते हुए इन तीनों को आराम दिया गया है। धोनी को सबसे ज्यादा कमी अश्विन की खलेगी जो पिछले कुछ समय से गेंद और बल्ले दोनों से अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं। अश्विन ने टेस्ट श्रृंखला में 27 विकेट चटकाए और अब उनके नाम पर 220 विकेट दर्ज हैं जो 39 टेस्ट के बाद किसी गेंदबाज के सर्वाधिक विकेट हैं।

इन तीनों शीर्ष क्रिकेटरों को आराम दिए जाने से आफ स्पिनर जयंत यादव, बाएं हाथ के स्पिनर अक्षर पटेल और तेज गेंदबाज धवल कुलकर्णी को राष्ट्रीय चयनकर्ताओं के सामने खुद को साबित करने का मौका मिलेगा। जिंबाब्वे और अमेरिका के दौरे से बाहर किए गए हार्दिक पंड्या की भी राष्ट्रीय टीम में वापसी हुई है। पीठ में खिंचाव से उबर रहे तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार और अनुभवी इशांत शर्मा भी टीम का हिस्सा नहीं हैं। चिकनगुनिया के कारण इशांत टेस्ट श्रृंखला में भी हिस्सा नहीं ले पाए थे।

कोहली का बढ़ा हुआ है आत्मविश्वास

न्यूजीलैंड के खिलाफ इंदौर में अंतिम टेस्ट में करियर की सर्वश्रेष्ठ 211 रन की पारी खेलने के बाद कोहली का आत्मविश्वास बढ़ा हुआ होगा। धोनी ने एकदिवसीय क्रिकेट में पिछली महत्वपूर्ण पारी अक्तूबर 2015 में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खेली थी जब उन्होंने नाबाद 92 रन बनाए थे और वह भी बेहतर प्रदर्शन के साथ आलोचकों को शांत करना चाहेंगे। वायरल के कारण अनुभवी सुरेश रैना और अंगूठे के फ्रेक्चर के कारण सलामी बल्लेबाज शिखर धवन के बाहर होने से हालांकि भारतीय बल्लेबाजी कुछ कमजोर हुई है।

कप्तान केन विलियमसन के सामने टीम का मनोबल बढ़ाने की चुनौती

दूसरी तरफ न्यूजीलैंड के कप्तान केन विलियमसन के सामने टेस्ट श्रृंखला में क्लीनस्वीप के बाद अपनी टीम का मनोबल उठाने की चुनौती होगी। टीम को हालांकि अपने सबसे सफल तेज गेंदबाद टिम साउथी और सबसे आक्रामक बल्लेबाज कोरी एंडरसन की वापसी से फायदा मिलेगा। वनडे में 135 विकेट चटकाने वाले साउथी टखने में चोट के कारण टेस्ट श्रृंखला में नहीं खेल पाए थे। उन्होंने इस साल कोई एकदिवसीय मैच नहीं खेला है, एकदिवसीय क्रिकेट के इतिहास में न्यूजीलैंड की ओर से सर्वाधिक स्ट्राइक रेट रखने वाले एंडरसन की टखने की चोट के बाद वापसी हुई है जिससे टीम की बल्लेबाजी मजबूत होगी। दोनों टीमों के शीर्ष रैंकिंग वाले गेंदबाज ट्रेंट बोल्ट के साथ मिलकर साउथी किसी भी बल्लेबाजी क्रम को परेशान कर सकते हैं।

न्यूजीलैंड को मार्टिन गुप्टिल और रोस टेलर से भी अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद होगी जो टेस्ट श्रृंखला में भारतीय स्पिनरों के सामने काफी परेशान हुए थे। न्यूजीलैंड को हालांकि धर्मशाला के सर्द हालात में स्वदेश जैसा अहसास मिल सकता है। टास मैच के नतीजे में अहम भूमिका निभा सकता है क्योंकि रात होने पर काफी ओस गिर सकती है।

टीमें इस प्रकार हैं:-

भारत:- महेंद्र सिंह धोनी (कप्तान), विराट कोहली, अजिंक्य रहाणे, रोहित शर्मा, मनीष पांडे, जयंत यादव, अक्षर पटेल, जसप्रीत बुमराज, केदार जाधव, मनदीप सिंह, अमित मिश्रा, धवल कुलकर्णी, उमेश यादव और कार्दिक पंड्या।

न्यूजीलैंड:- केन विलियमसन (कप्तान), कोरी एंडरसन, ट्रेंट बोल्ट, डग ब्रेसवेल, एंटन डेवसिच, मार्टिन गुप्टिल, टाम लैथम, मैट हेनरी, जेम्स नीशाम, ल्यूक रोंची, मिशेल सेंटनर, ईश सोढी, रोस टेलर, बीजे वाटलिंग और टिम साउथी।

समय:- मैच भारतीय समयानुसार साढ़े 12 बजे शुरू होगा।


First Published: 2016-10-15 16:00:23.0

Share it
Share it
Share it
Top