ऋषभ सहित युवा खिलाड़ियों के पास कानपुर टी-20 मैच में जलवा दिखाने का मौका  

ऋषभ सहित युवा खिलाड़ियों के पास कानपुर टी-20 मैच में जलवा दिखाने का मौका  अंडर 19 विश्व कप में ऋषभ पंत ने अच्छा प्रदर्शन किया था

कानपुर (भाषा)। टेस्ट और वनडे सीरीज में जीत से आत्मविश्वास से भरी भारतीय क्रिकेट टीम गुरुवार से यहां शुरू होने वाली तीन मैचों की ट्वेंटी20 सीरीज में भी इंग्लैंड पर अपना दबदबा बरकरार रखने के लिए उतरेगी। इसमें कुछ युवा खिलाड़ियों को बड़े मंच पर अपना जलवा दिखाने का मौका मिलेगा।

भारत ने वनडे श्रृंखला की तुलना में टी-20 के लिए अलग टीम का चयन किया है। टी20 टीम में ऋषभ पंत, मनदीप सिंह, यजुवेंद्र चहल, परवेज रसूल, सुरेश रैना और आशीष नेहरा छह ऐसे खिलाड़ी शामिल हैं जो वनडे टीम का हिस्सा नहीं थे। स्टार स्पिनर रविचंद्रन अश्विन और रविंद्र जडेजा को विश्राम दिया गया है जिससे ऑफ स्पिनर रसूल और अनुभवी अमित मिश्रा को मौका मिल सकता है। मिश्रा वनडे टीम का हिस्सा थे लेकिन उन्हें कोई मैच खेलने का मौका नहीं मिला।

लोकेश राहुल के साथ पंत या मनदीप कर सकते हैं ओपनिंग

जिन खिलाड़ियों को अभी टीम में अपनी जगह पक्की करनी है उनमें से सबसे अधिक ध्यान ऋषभ पंत (19 वर्ष) ने खींचा है। उन्होंने घरेलू सत्र में शानदार प्रदर्शन के दम पर पहली बार राष्ट्रीय टीम में जगह बनायी है। दिल्ली के इस विकेटकीपर बल्लेबाज ने पिछले साल अंडर-19 विश्व कप में शानदार प्रदर्शन किया था और उसके बाद से उनके करियर का ग्राफ लगातार ऊपर चढ़ता जा रहा है। टी-20 टीम में शिखर धवन के नहीं होने से लोकेश राहुल के साथ पंत और मनदीप सिंह में से किसी एक को पारी का आगाज करने के लिए चुना जा सकता है।

रैना के लिए होम ग्राउंड में खुद को साबित करने का मौका

पंत की हाल की फार्म को देखते हुए उन्हें नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है। मनदीप इंग्लैंड के खिलाफ पहले अभ्यास मैच में कुछ खास नहीं कर पाए थे जबकि पंत ने दूसरे अभ्यास मैच में 36 गेंदों पर 59 रन की पारी खेली थी। राहुल वनडे श्रृंखला के तीनों मैचों में नाकाम रहने के बाद अब वापसी करने को बेताब होंगे। यह स्थानीय नायक रैना के लिए भी महत्वपूर्ण श्रृंखला है जिनकी सीमित ओवरों की टीम में जगह पक्की नहीं है।


कप्तान विराट कोहली, युवराज सिंह और महेंद्र सिंह धोनी का तीसरे, चौथे और पांचवें नंबर पर बल्लेबाजी करना तय है और ऐसे में रैना को छठे नंबर के लिए मनीष पांडे की कड़ी चुनौती का सामना करना होगा जो वनडे श्रृंखला में भी बाहर ही बैठे रहे थे। रैना पर इसलिए भी दबाव है क्योंकि केदार जाधव जैसे खिलाड़ी लगातार अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं। यह देखना दिलचस्प होगा कि कोहली किस तरह के गेंदबाजी आक्रमण के साथ उतरना चाहेंगे। तेज गेंदबाजी के ऑलराउंडर हार्दिक पंड्या ने वनडे श्रृंखला में अपना प्रभाव छोड़ा था।

तेज गेंदबाजी का जिम्मा जसप्रीत बुमराह, भुवनेश्वर कुमार और उम्रदराज नेहरा पर रहेगा जिन्होंने पिछले साल आईपीएल के बाद प्रतिस्पर्धी क्रिकेट नहीं खेली है। वहीं स्पिनर्स में उनके पास मिश्रा और चहल के रूप में लेग स्पिन के दो अच्छे विकल्प हैं जबकि रसूल टीम में शामिल एकमात्र ऑफ स्पिनर हैं।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top