निदाहास ट्रॉफी-2018: इन्होंने लगाई भारतीय टीम की नैया पार, सीरीज में चमके ये छह खिलाड़ी

Imran KhanImran Khan   19 March 2018 3:45 PM GMT

निदाहास ट्रॉफी-2018: इन्होंने लगाई भारतीय टीम की नैया पार, सीरीज में चमके ये छह खिलाड़ीसीरीज जीतने के बाद ट्राफी के साथ खुशी जताते भारतीय टीम के खिलाड़ी।

भारत ने पांच साल बाद लिमिटेड ओवर की कोई ट्राई सीरीज जीती

श्रीलंका में खेली गई निदाहास टी-20 ट्राई सीरीज में भारत ने बांग्लादेश को हरा दिया। काफी रोमांचक वाले इस फाइनल मैच में दिनेश कार्तिक ने आखिरी गेंद पर छक्का मारकर यह मैच चार विकेट से भारत के नाम कर दिया। मैच के हीरो रहे दिनेश कार्तिक ने ताबड़तोड़ आठ गेंदों पर 29* रन (2 चौके, 3 सिक्स) की शानदार पारी खेली। टीम इंडिया ने 5 साल बाद लिमिटेड ओवर की कोई ट्राई सीरीज जीती है। इससे पहले उसने आखिरी ट्राई सीरीज वेस्ट इंडीज में साल 2013 में श्रीलंका को हराकर जीती थी।

वाशिंगटन सुंदर

भारत की ओर से सबसे सफल गेंदबाज वाशिंगटन सुंदर रहे। जिन्होंने 05 मैचों में आठ विकेट झटके। सीरीज में सुंदर ने बांग्लादेश के खिलाफ एक मैच में 22 रन देकर 3 विकेट लिए थे। सबसे कम उम्र में टी-20 मैच में 3 विकेट लेने वाले भारतीय गेंदबाज भी बन गए सुंदर। इस सीरीज के पांच मैचों में सुंदर ने 20 ओवर गेंदबाजी की, जिनमें सुंदर ने 5.70 की इकोनॉमी से 114 रन दिए। वाशिंगटन सुंदर को उनकी जबरदस्त परफॉर्मेंस की वजह से मैन ऑफ द सीरीज भी चुना गया।

शिखर धवन

भारतीय टीम में गब्बर के नाम से मशहूर शिखर धवन का सीरीज में जलवा बरकरार रहा। धवन ने सीरीज में पांच मैच खेले जिनमें धवन ने 198 रन बनाए। पहले मैच में श्रीलंका के खिलाफ 90 रन की शानदार पारी खेली थी।

युजवेंद्र चहल

सीरीज में युजवेन्द्र चहल की फिरकी में नाची श्रीलंका और बांग्लादेश की टीम। चहल ने सीरीज में 05 मैच खेले जिनमें उन्होंने आठ विकेट झटके। सीरीज में चहल ने बांग्लादेश के खिलाफ फाइनल मैच में 18 रन देकर 3 विकेट लिए थे।

रोहित शर्मा

भारतीय टीम के कप्तान रोहित शर्मा का सीरीज में बल्ला खूब बोला। रोहित शर्मा ने पांच मैचों में 173 रन बनाएं। रोहित शर्मा ने इस सीरीज में बेस्ट 89 रन की पारी खेली। भारत को सीरीज जिताने में कप्तान के रूप में रोहित का पूरा योगदान रहा।

मनीष पाण्डे

भारतीय टीम के युवा और धाकड़ बल्लेबाज मनीष पांडे ने भी सीरीज में खूब रंग दिखाए। कई मैचों में भारत की नैय्या पार लगाई। मनीष ने पांच मैचों में 134 रन बनाए। इस सीरीज में मनीष ने 42 की नाबाद पारी भी खेली। भारतीय पारी की रीड़ बनते जा रहे हैं मनीष पांडे।

जयदेव उनादकट

सीरीज में फिरकी गेंदबाजों का तो जादू चला साथ ही तेज गेंदबाजों ने भी अपना जलवा बिखेरा और विपक्षी टीम के नाक में दम कर दिया। भारत के उभरते हुए तेज गेंदबाज जयदेव उनादकट सीरीज में चार मैच खेले जिनमें से उन्होंने सात विकेट झटके। फाइनल मैच में शब्बीर का अहम विकेट लेकर भारत को राहत दिलायी थी। उनादकट ने सीरीज के एक मैच में 38 रन देकर तीन विकेट झटके।

रोहित ने नहीं देखा जीत का छक्का

क्या आपको पता है टीम इंडिया के कप्तान रोहित शर्मा ने जीत का छक्का देखा ही नहीं था। वो उस वक्त मैच देख ही नहीं रहे थे। इस बात का खुलासा उन्हें खुद प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान किया। बता दें, आखिरी गेंद पर टीम इंडिया को 5 रन चाहिए थे। अगर उस वक्त चौका चला जाता तो सुपर ओवर होता। इसलिए वो ड्रेसिंग रूम में सुपर ओवर के लिए तैयार होने गए थे। उन्होंने कहा- ''मैंने आखिरी की गेंद नहीं देखी क्योंकि मैं ड्रेसिंग रूम के अंदर अपने पैड्स पहनने गया था।'' उन्होंने दिनेश कार्तिक की तारीफ करते हुए कहा- ''दिनेश कार्तिक ने जो किया उससे में काफी खुश हूं। वो आखिरी वक्त में टीम को जीत दिलाने का दम रखते हैं। मैंने आखिरी के लिए उनको रखा था। जहां उन्होंने बखूबी अपनी भूमिका निभाई।''

बरसों तक याद किया जाएगा यह छक्का

श्रीलंका में खेली गई निदाहास त्रिकोणीय टी-20 सीरीज में सबकी सांसे उस वक्त थम गईं जब फाइनल मैच में भारत ने बांग्लादेश को 4 विकेट से पराजित कर दिया। जीत के नायक रहे दिनेश कार्तिक जिन्होंने अंतिम गेंद में 6 रन बनाकर इतिहास रच दिया।

मैच का 18वां ओवर रहा निर्णायक

मैच का 18वां ओवर सबसे अहम रहा। मुस्तफिजुर रहमान ने इस ओवर में सिर्फ 1 रन दिया, वो भी लेग बाई। इसी ओवर की आखिरी गेंद पर मनीष पांडे बड़ी हिट लगाने के चक्कर में सब्बीर के हाथों कैच आउट हुए। जब वह आउट हुए तो लग रहा था कि भारत के हाथों से यह मैच निकल जाएगा, लेकिन दिनेश कार्तिक ने आते ही ताबड़तोड़ बल्लेबाजी शुरू कर दी। उन्होंने रुबेल के 19वें ओवर में 2 चौके और 2 छक्के की मदद से 22 रन जुटाकर मैच में रोमांच भर दिया। अब अंतिम ओवरों में भारत को जीत के लिए चाहिए थे 11 रन।

ऐसा रहा फाइनल मैच

भारत ने टॉस जीत कर पहले फील्डिंग करने का फैसला किया। भारतीय गेंदबाजों ने बांग्लादेश को शुरुआती झटके देकर संकट में डाल दिया था। पहले पांच ओवर में बांग्लादेश का स्कोर तीन विकेट पर 33 रन था। बांग्लादेश की ओर से चौथे विकेट के लिए 33 रन और पांचवें विकेट के लिए 36 रन की पार्टनरशिप हुई। बांग्लादेश ने 20 ओवरों में 8 विकेट पर 166 रन बनाए। जिसमें सब्बीर रहमान ने सबसे ज्यादा 77 रन बनाए। 50 बॉल की अपनी पारी में उन्होंने 7 चौके और 4 सिक्स भी लगाए। जवाब में टारगेट का पीछा करने उतरी टीम इंडिया की शुरुआत अच्छी नहीं रही और 32 रन पर दो विकेट गिर गए। तीसरे विकेट के लिए रोहित और राहुल ने मिलकर 51 रन की पार्टनरशिप की। 56 रन बनाकर रोहित शर्मा आउट हो गए। पांचवें विकेट के लिए विजय शंकर ने मनीष पांडे के साथ मिलकर 35 रन जोड़े, छठे विकेट के लिए शंकर और दिनेश के बीच 29 रन की पार्टनरशिप हुई। आखिरी ओवर में टीम इंडिया को जीत के लिए 12 रन बनाने थे, लेकिन शुरुआती 5 बॉल पर 7 रन ही बन सके। सौम्य सरकार के इस ओवर की आखिरी बॉल पर दिनेश कार्तिक ने सिक्स लगाते हुए भारत को जीत दिला दी। टीम इंडिया ने 6 विकेट पर 168 रन बनाए और ये मैच 4 विकेट से जीत लिया।

मैन ऑफ द मैच व सीरीज रहे ये

दिनेश कार्तिक को उनकी शानदार पारी लिए मैन ऑफ द मैच और पूरे टूर्नामेंट में जबरदस्त प्रदर्शन करने वाले वाशिंगटन सुंदर मैन ऑफ द सीरीज बने।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top