धर्मशाला टेस्ट : आॅस्ट्रेलिया 137 पर ऑल आउट, भारत को जीत के लिए 106 रनों का लक्ष्य 

धर्मशाला टेस्ट : आॅस्ट्रेलिया 137 पर ऑल आउट, भारत को जीत के लिए 106 रनों का लक्ष्य स्मिथ के आउट के बाद जश्न मनाते भारतीय खिलाड़ी।

धर्मशाला (आईएएनएस)। भारत के खिलाफ हिमाचल प्रदेश क्रिकेट संघ (एचपीसीए) स्टेडियम में चल रहे चौथे टेस्ट के तीसरे दिन सोमवार को आस्ट्रेलियाई टीम की दूसरी पारी केवल 137 रनों पर सिमट गयी। इस तरह से भारत को जीत के लिए 106 रन बनाने हैं। भारतीय गेंदबाजों के आगे लड़खड़ाई आस्ट्रेलियाई टीम की दूसरी पारी की शुरुआत खराब रही है।

आस्ट्रेलियाई टीम ने भोजनकाल तक भारत की पहली पारी 332 रनों पर समाप्त कर दी थी। इसके बाद अपनी दूसरी पारी खेलने उतरी आस्ट्रेलियाई टीम को दिन का पहला झटका डेविड वॉर्नर (6) के रूप में लगा। डेविड ने मैट रेनशॉ (8) के साथ मिलकर टीम के खाते में 10 ही रन जोड़े थे कि उन्हें उमेश यादव ने विकेट के पीछे खड़े रिद्धिमान साहा के हाथों कैच आउट कर पवेलियन भेजा।

स्पोर्ट्स से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

इसके बाद भुवनेश्वर कुमार ने रेनशॉ का साथ देने आए कप्तान स्टीव स्मिथ (17) को 31 के योग पर बोल्ड कर आस्ट्रेलिया को दूसरा बड़ा झटका दिया। इसी स्कोर पर यादव ने एक बार फिर साहा के साथ अपनी अच्छी जुगलबंदी से रेनशॉ को भी आउट कर तीसरा विकेट गिराया।

पीटर हैंड्सकॉम्ब (18) और मैक्सवेल ने चौथे विकेट के लिए 56 रनों की साझेदारी कर टीम को संभालने की कोशिश की, लेकिन रविचंद्रन अश्विन ने हैंड्सकॉम्ब को अजिंक्य रहाणे के हाथों कैच आउट कर इस साझेदारी को तोड़ दिया। इसके बाद मैक्सवेल का साथ देने आए शॉन मार्श (1) को रवींद्र जडेजा ने आउट किया। शॉन 92 के कुलयोग पर चेतेश्वर पुजारा के हाथों लपके गए। इसके साथ ही चायकाल की घोषणा कर दी गई।

इस पारी में भारत के लिए उमेश ने दो विकेट लिए हैं, वहीं भुवनेश्वर, अश्विन और जडेजा को एक-एक सफलता हासिल हुई। इससे पहले, रवींद्र जडेजा (63) और रिद्धिमान साहा (31) की संयम भरी साझेदारी की बदौलत भारतीय क्रिकेट टीम ने सोमवार को अपनी पहली पारी में सभी विकेट खोकर 332 रन बनाए। मेजबान टीम की पहली पारी समाप्त होने के साथ ही भोजनकाल की घोषणा कर दी गई। अपने पिछले दिन (रविवार) के स्कोर छह विकेट पर 248 रनों से आगे खेलने उतरी भारतीय टीम ने सोमवार को पहले सत्र की समाप्ति तक अपने खाते में 84 रन जोड़े।

पहले दिन के नाबाद बल्लेबाज साहा और जडेजा ने सातवें विकेट के लिए 96 रनों की साझेदारी कर टीम का स्कोर 300 के पार पहुंचाया, लेकिन पैट कमिंस ने जडेजा को बोल्ड कर इस साझेदारी को तोड़ा। जडेजा ऐसे तीसरे हरफनमौला खिलाड़ी हैं, जिन्होंने किसी एक सत्र में 500 से अधिक रन बनाए हैं और 50 से अधिक विकेट लिए हैं। उनसे पहले कपिल देव ने 1979-80 और मिशेल जॉनसन ने 2008-09 सत्र में यह कारनामा किया था।

जडेजा ने 95 गेंदों की पारी में चार चौके और चार छक्के लगाए। उनके आउट होने के बाद साहा का साथ देने आए भुवनेश्वर कुमार भी खाता खोले बिना स्टीव ओकीफ की गेंद पर कप्तान स्टीव स्मिथ के हाथों लपके गए। कमिंस ने इसके बाद साहा को भी पिच पर टिकने नहीं दिया। 115वें ओवर की पहली ही गेंद पर साहा ने शॉट मारने की कोशिश की, लेकिन दूसरी साइड खड़े स्मिथ ने शानदार डाइव मारते हुए साहा का कैच लपका। साहा के आउट होने के बाद कुलदीप यादव (7) और उमेश यादव (2) ने टीम के खाते में 14 रन जोड़े ही थे कि नाथन लॉयन की गेंद पर कुलदीप 332 के योग पर कमिंस के हाथों लपके गए। कुलदीप के आउट होने के साथ ही भारत की पहली पारी समाप्त हो गई।

आस्ट्रेलिया के लिए लॉयन ने सबसे अधिक पांच विकेट लिए, वहीं कमिंस को तीन, जोश हाजलेवुड को एक और ओकीफ को एक सफलता हासिल हुई। भारत और आस्ट्रेलिया के बीच चार टेस्ट मैचों की श्रृंखला का स्कोर 1-1 से बराबरी पर है और यह मैच दोनों टीमों के लिए निर्णायक है।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top