शिव कपूर ने 12 साल बाद जीता दूसरा एशियाई टूर खिताब

Sanjay SrivastavaSanjay Srivastava   30 April 2017 4:36 PM GMT

शिव कपूर ने 12 साल बाद जीता दूसरा एशियाई टूर खिताबभारतीय गोल्फर शिव कपूर।

मियोली (चीनी ताइपै ) (भाषा)। भारतीय गोल्फर शिव कपूर (35 वर्ष) ने अंतिम दौर में आठ अंडर 64 का बेहतरीन स्कोर बनाकर आज यहां पहला यींगडर हैरिटेज गोल्फ टूर्नामेंट जीतकर एशियाई टूर खिताब के लिए पिछले 12 वर्षों से चला आ रहा इंतजार खत्म किया।

शिव कपूर ने पहले नौ होल में तीन अंडर का स्कोर बनाया। उन्होंने अंतिम सात होल में से पांच में स्कोर किया और आखिर में कुल 16 अंडर 272 के स्कोर के साथ शीर्ष पर रहे।

उन्होंने खिताब जीतने के बाद कहा, ‘‘मैं आखिरकार फिर से खिताब जीतने में सफल रहा और यह बहुत अच्छा अहसास है, 2015 में अपना यूरोपियन टूर कार्ड गंवाने और 2016 में यकृत की बीमारी से जूझने के बाद यह बड़ी राहत है।'' गेविन ग्रीन (67) और यिकुएन चांग (68) दोनों 14 अंडर के साथ संयुक्त दूसरे स्थान पर रहे।

शिव कपूर ने कहा, ‘‘यह इंतजार बहुत लंबा खिंच गया था और इससे मेरा आत्मविश्वास काफी बढ‍़ेगा। मैं जानता था कि अंतिम दौर में स्कोर कम होगा। ''

यह इंतजार बहुत लंबा खिंच गया था और इससे मेरा आत्मविश्वास काफी बढ‍़ेगा। मैं जानता था कि अंतिम दौर में स्कोर कम होगा।
शिव कपूर भारतीय गोल्फर

अन्य भारतीयों में सुजान सिंह (67) ने लगातार तीसरे दौर में 70 से कम का स्कोर बनाया। उन्होंने अंतिम पांच होल में से चार में बर्डी बनायी। वह और हिम्मत राय (71) दोनों पांच अंडर के स्कोर के साथ संयुक्त 22वें स्थान पर रहे।

शिव कपूर ने 2005 में वोल्वो मास्टर्स के रूप में अपना पहला एशियाई टूर खिताब जीता था। इसके बाद वह चार अवसरों पर दूसरे और तीन बार तीसरे स्थान पर रहे। इसके अलावा वह अन्य 21 अवसरों पर चौथे और दसवें स्थान के बीच रहे थे।

पहले दौर के बाद दूसरे स्थान पर रहे एस चिक्कारंगप्पा इसके बाद दूसरे और तीसरे दौर में अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाए और संयुक्त 27वें स्थान पर रहे। खालिन जोशी (70) संयुक्त 37वें, राहिल गंगजी (70) संयुक्त 52वें और चिराग कुमार (77) संयुक्त 60वें स्थान पर रहे।

कपूर ने दिन की शुरुआत आठ अंडर पर संयुक्त तीसरे स्थान से की। वह कोरिया यिकुएन चांग से दो शाट पीछे थे। कपूर तीन बर्डी करके 11 अंडर पर और दूसरे स्थान पर पहुंचे।

अब खिताब के लिए दौड़ मुकाबला कड़ा हो गयां चांग और गेविन ग्रीन दोनों एक समय 12 अंडर पर संयुक्त शीर्ष पर थे। कपूर के साथ मिगुएल ताबुएना तथा थाईलैंड के रतानोन वानाश्रीचान और पूम साकसानसिन भी 11 अंडर पर थे।

इसके बाद रतानोन और कपूर भी बर्डी बनाकर 12 अंडर पर आ गए। इसके बाद 13वें होल में शीर्ष पर काबिज चारों गोल्फरों ने बर्डी बनाई। चांग और रतानोन ने 14वें होल में बोगी कर दी और वे पिछड़ गए। चांग ने 15वें होल में बर्डी बनाई लेकिन कपूर भी बर्डी बनाने में सफल रहे और इससे वह अकेले बढ़त पर पहुंच गए।

स्पोर्ट्स से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

कपूर ने 16वें होल में बर्डी बनाकर दबाव बनाये रखा और चांग ने भी उनका पीछा करने में कसर नहीं छोड़ी। कपूर जब 18वें होल में पहुंचे तो उनका कोई भी करीबी प्रतिद्वंद्वी 17वें होल में बर्डी नहीं बना पाया। कपूर ने ऐसे में 17वें होल में बर्डी बनाकर 16 अंडर की बढ़त हासिल कर दी। रतानोन 13 अंडर के साथ चौथे जबकि साकसानसिन और ताबुएना 12 अंडर के साथ संयुक्त पांचवें स्थान पर रहे।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top