भारत इंग्लैंड चौथा क्रिकेट टेस्ट मैच के चौथे दिन विराट कोहली का दोहरा शतक 

Sanjay SrivastavaSanjay Srivastava   11 Dec 2016 12:57 PM GMT

भारत इंग्लैंड चौथा क्रिकेट टेस्ट मैच के चौथे दिन विराट कोहली का दोहरा शतक दोहरा शतक बनाने के बाद विराट कोहली।

मुंबई (आईएएनएस)| वानखेड़े स्टेडियम में भारत इंग्लैंड चौथा क्रिकेट टेस्ट मैच के चौथे दिन रविवार को कप्तान विराट कोहली ने साल का तीसरा दोहरा शतक जमाया और वह लंच के समय 212 रन पर खेल रहे थे जो उनके करियर का सर्वोच्च स्कोर है।

कप्तान विराट कोहली (नाबाद 212) के दोहरे शतक और जयंत यादव (नाबाद 92) की मंझी हुई पारी की बदौलत भारत ने वानखेड़े स्टेडियम में जारी चौथे टेस्ट मैच के चौथे दिन रविवार को भोजनकाल तक इंग्लैंड पर 179 रनों की बढ़त ले ली है। पहले सत्र की समाप्ति तक भारत ने सात विकेट के नुकसान पर 597 रन बना लिए हैं।

जयंत और कोहली के बीच आठवें विकेट के लिए 215 रनों की साझेदारी हो चुकी है जो कि भारत की तरफ से इस विकेट के लिए नया रिकार्ड है। उन्होंने मोहम्मद अजहरुद्दीन और टीम के वर्तमान कोच अनिल कुंबले का 20 साल पुराना रिकार्ड तोड़ा। अजहर और कुंबले ने 1996 में कोलकाता में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ आठवें विकेट के लिए 161 रन की साझेदारी की थी।

मैच के तीसरे दिन (शनिवार) के अपने स्कोर सात विकेट पर 451 रन से आगे खेलने उतरी भारतीय टीम ने रविवार को पहले सत्र में कोई भी विकेट नहीं गंवाया और अपने खाते में 146 रन जोड़े। भारतीय कप्तान विराट कोहली ने अब तक खेली गई 317 गेंदों पर 24 चौके लगाए हैं।

कोहली ने दोहरा शतक लगा अपने नाम किया एक और रिकॉर्ड

कप्तान विराट कोहली ने एक साल में तीन बार दोहरा शतक लगाने वाले पहले भारतीय क्रिकेट खिलाड़ी बन गए हैं। कोहली ने इस साल अपना पहला दोहरा शतक इस साल जुलाई में वेस्टइंडीज के खिलाफ खेली गई चार टेस्ट मैचों की श्रंखला के पहले टेस्ट मैच में लगाया था। उन्होंने इस मैच में 200 रन बनाए थे।

इसके बाद कोहली ने दूसरा शतक न्यूजीलैंड के खिलाफ अक्टूबर में खेली गई तीन टेस्ट मैचों की श्रृंखला में लगाया था। उन्होंने कीवी टीम के खिलाफ नौ अक्टूबर को खेले गए तीसरे टेस्ट मैच के दूसरे दिन 211 रन बनाए थे।

एक साल में तीन दोहरे शतक लगाकर पहले भारतीय खिलाड़ी बनने के अलावा कोहली ने कई और रिकॉर्ड इस साल अपने नाम किए हैं। वह इस श्रृंखला में 500 से ज्यादा रन बना चुके हैं। वह एक श्रृंखला में 500 से ज्यादा रन बनाने वाले दूसरे भारतीय कप्तान हैं। उनसे पहले सुनील गावस्कर ने ही यह कारनामा दो बार किया।

कोहली ने इस पारी के दौरान टेस्ट करियर में 4000 और एक साल में 1,000 रन भी पूरे किए। वह भारत की तरफ से टेस्ट में एक साल में 1,000 रन बनाने वाले तीसरे कप्तान बन गए हैं। उनसे पहले सचिन तेंदुलकर ने 1997 और राहुल द्रविड़ ने 2006 में यह कारनामा किया था। वह टेस्ट में 4,000 रन बानने वाले भारत के 14वें खिलाड़ी और सबसे तेजी से इस मुकाम तक पहुंचने वाले छठे भारतीय हैं।

जयंत ने 184 गेंदों पर 13 चौके जड़े। भारत के लिए सलामी बल्लेबाज मुरली विजय (124) रन बनाए थे। चेतेश्वर पुजारा ने 47 रनों का योगदान दिया। मेजबान टीम की ओर से शनिवार को आउट होने वाले बल्लेबाज विजय, पुजारा, लोकेश राहुल (24), करुण नायर (13), पार्थिव पटेल (15), रविचंद्रन अश्विन (0) और रवींद्र जडेजा (25) रहे।

इंग्लैंड के लिए अली, राशिद और रूट ने दो-दो विकेट अपने नाम किए। उनके अलावा बॉल को एक विकेट मिला।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top