गाँव में खुले में शौच जाना, यानी बीमारी घर लाना

गाँव में खुले में शौच जाना, यानी बीमारी घर लानाट्रिगरिंग के समय लोगों ने खुले में शौच न जाने का लिया वचन

स्वयं कम्युनिटी जर्नलिस्ट

सहायल/औरैया। ओडीएफ की टीम ने विकास खंड सहार के गाँव निरंजनापुर में प्रधान के साथ ट्रिगरिंग की। ट्रिगरिंग के समय गाँव के लोगों को खुले में शौच जाने से रोकागया। बुजुर्गों ने भी स्वच्छता के लिए खुले में शौच न जाने का संकल्प लिया।

विकास खंड सहार के गांव निरंजनापुर में ओडीएफ टीम सूरज पाल और प्रधान राधा देवी द्वारा सुबह पहले पूरे गाँव में घूम-घूम कर लोगों को खुले में शौच जाने से रोकागया। इसके बाद गाँव में एक चैपाल लगाई गई। खुले में शौच जाने से होने वाली बीमारियों के बारे में बताया गया।

ये भी पढ़ें- औरैया में कृषि वैज्ञानिकों ने गृहणियों को सब्जी उगाने का दिया प्रशिक्षण

गाँव की प्रधान ने सभी लोगों से कहा,“ अब से कोई भी खुले में शौच नहीं जाएगा। अगर जाता है तो वह अपने साथ खुरपी लेकर जाएगा। शौच करने के बाद उस पर मिटटीडालकर आएगा। जिससे मक्खी न बैठे और बीमारी से सभी लोग दूर रहे।’’

गाँव के बुजुर्गों ने भी खुले में शौच न जाने का संकल्प लिया और कहा स्वच्छ गाँव बनाएंगे, शौचालय प्रयोग में लाएंगे। चैपाल में गांव के लगभग तीन दर्जन लोग मौजूद रहे।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top