स्वयं सहायता समूह को दी गई बड़ी जिम्मेदारी

स्वयं सहायता समूह को दी गई बड़ी जिम्मेदारीस्वयं सहायता समूह।

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

गाजियाबाद। स्वयं सहायता समूह के माध्यम से जिले की महिलाओं को लगातार आत्मर्निभर बनाने के लिए राष्ट्रीय आजीविका मिशन के तहत रजापुर ब्लाक के मसूरी गांव स्थित शिफा स्वयं सहायता समूह को सीएचसीडासना में भर्ती गर्भवती महिलाओं के लिए खाने की पूरी व्यवस्था का कार्य सौंपा गया।

रजापुर ब्लाक के डासना स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र का निरीक्षण करते समय जिलाधिकारी मिनिस्ती एस.ने गर्भवती महिला को अपने हाथ से खाना देकर इस कार्य योजना का विधिवत संचालन किया।

इस अवसर पर डीएम ने कहा,“ स्वयं सहायता समूहों के जरिए महिलाएं स्वावलंबी बनें। इसके लिए शासनस्तर से जो भी सहायता की आवश्यकता होगी वो जिले की सभी महिलाओं की दिया जाएगा।”

वहीं स्वतः रोजगार की डिप्टी डारेक्टर प्रियंवदा यादव ने बताया,“ जिले की महिलाएं बहुत कुछ करना चाहती हैं।हमारी जिलाधिकारी भी एक महिला हैं, इससे हमें अपना काम बढ़ाने में बहुत मदत मिल रही है। इसी कापरिणाम है कि जिले के बाद व्लाक के स्वास्थ्य केंद्रो की जिम्मेदारी भी स्वयं सहायता समूह की महिलाओं कोदिया जा रहा है।”

शिफा स्वयं सहायता केंद्र को राष्ट्रीय आजीविका मिशन के तहत स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती सभी गर्भवती महिलाओंको खाना परोसने के लिए नियुक्त किया गया है। केंद्र की इस योजना के अंतर्गत सभी गर्भवती महिलाओं कोखाना परोसा गया ।इसके लिए सौ रुपए प्रतिदिन प्रति गर्भवती महिला के हिसाब से धन का भुगतान किया जाएगा। खाने के मेन्यू में दलिया, खिचड़ी तथा रोटी सब्जी शामिल हैं।

डीएम मिनिस्ती एस. ने बताया,“ महिलाओं को स्वावलंबी बनाने के लिए केंद्र व प्रदेश सरकार की योजना केअंतर्गत विभिन्न योजनाएं ग्रामीण क्षेत्रों में दी जा रही हैं। ग्राम प्रधान की तारीफ करते हुए कहा, बाकी ग्रामप्रधानों को भी शबाना की तरह अपने गांव में स्वंय सहायता समूह की सक्रीयता को बढ़ाना चाहिए, जिससे ज्यादासे ज्यादा महिलाओं को फायदा पहुचाया जा सके।”

गाँव की महिला शबाना (45वर्ष) का कहना है, “गाँव की हमारी महिलाओं को इतनी बड़ी जिम्मेदारी जिलाधिकारीके द्वारा दी गयी है, ये हम सभी गाँव के महिलाओं के लिए गर्व का विषय है।”

Share it
Top