गेंहूं, दालें और तिलहन की बुआई पिछड़ी

गेंहूं, दालें और तिलहन की बुआई पिछड़ीगाँव कनेक्शन

देश के विभिन्न राज्यों से मिली रिपोर्टों के अनुसार, रबी की फसलों में सिर्फ मोटे अनाज की फसलों में ही पिछले वर्ष की अपेक्षा ज्यादा बुवाई दर्ज की गयी है, जबकि गेंहूँ, दालें और तिलहन की बुआई पिछले वर्ष के मुकाबले पिछड़ी है।

ग्यारह दिसंबर 2015 तक देश में सभी रबी फसलों की 442.33 लाख हेक्टेयर में बुवाई हुयी है, जबकि पिछले साल इस वक्त तक देश में 486.69 लाख हेक्टेयर में रबी फसलों की बुआई हो चुकी थी।
गेहूं बुवाई में देश इस साल काफी पीछे रहा। गेहूं की फसल की बुआई पिछले वर्ष के मुकाबले 39.63 लाख हेक्टेयर पिछड़ी हुयी है। पिछले साल गेहूं का बुवाई क्षेत्र 241.91 लाख हेक्टेयर था जबकि इस बार सिर्फ 202.28 लाख हेक्टेयर है।
दाल और तिलहन की बुवाई में ज्यादा अन्तर नहीं है। 2014-15 में दालें 115.34 लाख हेक्टेयर में बोई गयी थी। इस बार 2015-16 में 114.51 लाख हेक्टेयर में बोई गयी हैं। हालांकि की धान की बुआई में मामूली अन्तर जरूर देखा जा रहा है, इस साल धान की बुआई में 1.91 लाख हेक्टेयर की कमी आई है।                                                    

Tags:    India 
Share it
Top