इलाहाबाद विश्वविद्यालय: फीस वृद्धि के विरोध में छात्रों का विरोध प्रदर्शन

इलाहाबाद केंद्रीय विश्वविद्यालय में फीस वृद्धि वापस लेने की मांग को लेकर छात्र आंदोलन कर रहे हैं। छात्रों की मांग की है फीस वृद्धि को वापस लिया जाए।

उत्तर प्रदेश के इलाहाबाद विश्वविद्यालय में फीस वृद्धि खिलाफ चल रहे विरोध प्रदर्शन में 19 सितंबर को एक छात्र के आत्मदाह के प्रयास के बाद, आज 20 सितंबर को कई छात्रों ने केरोसिन पी लिया, जबकि एक छात्र विरोध में गैस सिलिंडर लेकर छत पर चढ़ गया।

जब गाँव कनेक्शन ने विश्वविद्यालय में विरोध प्रदर्शन कर रहे छात्रों से मुलाकात की तो केरोसिन पीने वाले तीन छात्रों को अस्पताल ले जाया गया है। जबकि गैस सिलेंडर के साथ छत के ऊपर चढ़ने वाले छात्र को नीचे उतार लिया गया है।

प्रदर्शन कर रहे छात्र नेता राहुल पटेल ने गाँव कनेक्शन को बताया, ""आज 15 दिन से हम बैठे हैं, अपने माँ-बाप के सपनों को लेकर दूर-दूर के जिलों से आए हैं, इनके सपनों को कुचलने की बात करते हैं।"

इस बीच, सैकड़ों प्रदर्शनकारी अभी भी उस आंदोलन में भाग ले रहे हैं जो विश्वविद्यालय की फीस में बढ़ोतरी को वापस लेने की मांग कर हैं। पता चला है कि 'छात्रसंघ संयुक्त संघर्ष समिति' के बैनर तले छात्रों का एक समूह फीस वृद्धि का विरोध कर रहा है।

पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी वाड्रा ने छात्रों की फीस वापस लेने की मांग का समर्थन किया है। पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने ट्वीट पर लिखा है कि युवा विरोधी BJP सरकार: महंगी शिक्षा, भर्तियों में भ्रष्टाचार, खत्म करे रोजगार, इलाहाबाद विवि में पढ़ने वाले छात्र-छात्राओं को 400% ज्यादा फीस चुकानी पड़ेगी, उत्तराखंड में युवा भर्तियों में भ्रष्टाचार के खिलाफ सड़कों पर उतरे हैं, अगस्त महीने में बेरोजगारी दर सबसे ज्यादा।

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.