बहराइच के किसानों को तोहफा : कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही ने किया कृषि विज्ञान केंद्र का शिलान्यास

प्रदेश में नए कृषि विज्ञान केंद्रों की स्थापना हो रहीं है, इसी क्रम में बहराइच के नानपारा में कृषि विज्ञान केंद्र का शिलान्यास किया गया।

बहराइच के किसानों को तोहफा : कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही ने किया कृषि विज्ञान केंद्र का शिलान्यास

लखनऊ। यूपी के किसानों को खेती-किसानी की नई तकनीकी की जानकारियां उपलब्ध कराने के लिए नए कृषि विज्ञान केन्द्रों की स्थापना हो रही है, इसी क्रम में यूपी कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही ने बहराइच के नानपारा में कृषि विज्ञान केंद्र का भूमि पूजन और शिलान्यास किया।


नरेंद्र देव कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय कुमारगंज फैजाबाद के अंतर्गत नव सृजित कृषि विज्ञान केंद्र नानपारा बहराइच का भूमि पूजन और शिलान्यास के अवसर पर आयोजित क्रायक्रम का शुभारंभ और किसान भाइयों को संबोधित करते हुए कहा, "किसान देश की आर्थिक व्यवस्था की ऋण है, देश के अन्नदाता है इसलिए इनका समृद्ध होना देश के लिए नितांत जरूरी है। मोदी जी ने उत्तर प्रदेश को 20 नए कृषि विज्ञान केंद्र दिए जिनको तैयार करने में योगी जी की सरकार युद्ध स्तर पर कार्य कर रही है।"



देश में अभी 642 कृषि विज्ञान केंद्र काम कर रहे हैं और 109 नए केन्द्रों की स्थापना प्रस्तावित हैं। इसी तरह उत्तर प्रदेश में 68 और उत्तराखण्ड में 13 कृषि विज्ञान केन्द्र मिलाकर कुल 81 कृषि विज्ञान केंद्र काम कर रहे हैं। जबकि प्रदेश में गोंडा, बहराइच, रायबरेली व पश्चिमी यूपी के मुरादाबाद और बरेली मंडल में केवीके शुरू किए जा रहे हैं।


कृषि मंत्री ने आगे कहा, "जो काम प्रदेश में 4 साल पहले हो जाना चाहिए था वो केवल बस इसलिए नहीं हुआ क्योंकि इसका श्रेय देश के प्रधानमंत्री माननीय मोदी जी को चला जाता। जो लोग किसानों के हितैषी बनते है अपने सरकार में उन्हों ने किसानों का दोहन किया। इस कृषि विज्ञान केंद्र से जहाँ किसानों को प्रमाणित बीज उपलब्ध होगा वहीं खेती की नई तकनीक से भी रूबरू होंगे। जिससे काम लागत में अधिक उत्पादन करके किसान अपनी आय दोगुनी कर सकेंगे"

कृषि विज्ञान केन्द्र शुरू होने से किसानों होंगे ये लाभ

इन कृषि विज्ञान केंद्रो वैज्ञानिकों के द्वारा यहां समय-समय पर किसानों की कार्यशाला भी आयोजित की जाएगी। जिसमें विवि से विशेषज्ञ वैज्ञानिक किसानों को तकनीकि ज्ञान के अलावा प्रयोग करके भी दिखाएंगे। कार्यशाला में किसानों को नए उपकरणों और स्वरोजगार योजना के बारे में जानकारी दी जाएगी। 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने के केन्द्र सरकार के प्रोजेक्ट को गति देने के लिए इन केवीके केन्द्रों को खोलने का निर्णय लिया गया है।



Share it
Top