लखीमपुर खीरी में दलित बहनों की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट: बलात्कार, गला दबाकर हत्या, फिर दुपट्टे से बांधकर लटाकाया

लखीमपुर खीरी में 15 और 17 साल की नाबालिग दलित लड़कियों की पोस्टमार्टम रिपोर्ट में बलात्कार और उसके बाद हत्या की पुष्टि हो गई है।

लखीमपुर खीरी जिले में दो नाबालिग दलित बहनों के शव पेड़ से लटके मिलने के मामले में पोस्टमार्टम रिपोर्ट आ गई है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में बड़ा खुलासा हुआ है।

पोस्टमार्टम रिपोर्ट में बलात्कार की पुष्टि हुई है, साथ ही गला दबाकर हत्या करने की पुष्टि हुई है। पहले गला दबाकर दोनों बहनों की हत्या की गई, फिर फंदे पर शव लटकाया। करीब तीन घंटे तक डॉ राजेन्द्र कुमार, डॉ अर्चना और डॉ शोएब अख्तर ने पोस्टमार्टम किया है। इस दौरान पोस्टमार्टम की वीडियोग्राफी भी कराई गई।

वहीं मृतका के परिजनों को एससी-एसटी एक्ट 9-9 लाख रुपए मुआवजा और रानीलक्ष्मीबाई योजना से 10-10 लाख रुपए का मुआवजा भी मिलेगा।

लखीमपुर में बुधवार शाम करीब 6 बजे दो नाबालिग लड़कियों के शव पेड़ से लटके मिले। एक 7वीं और दूसरी 10वीं की छात्रा थी। मां ने आरोप लगाया कि कुछ लड़के बाइक से बेटियों को अगवा कर ले गए, फिर रेप के बाद मर्डर कर दिया।

लखीमपुर खीरी के पुलिस अधीक्षक संजीव सुमन प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि दोपहर के समय तीन लड़के मोटर साइकिल से आए थे और दोनों लड़कियों को बहलाकर ले गए। वहां लड़कियों की मर्जी के बिना शारीरिक संबंध बनाए। लड़कियों ने जब शादी की बात की और शादी करने की जिद पर अड़ गईं कि हमें शादी करनी हैं। इसपर लड़कों ने उनकी चुन्नी से गला दबाकर हत्या कर दी। इसके बाद दो और लड़कों को इन लोगों ने फोन कर के बुलाया। ये लड़के लालपुर के हैं। कुल पांच लोगों ने सबूत मिटाने के लिए लड़कियों को फंदे से लटका दिया।

सभी छह आरोपी गिरफ्तार कर लिए गए हैं। आरोपियों की पहचान छोटू, सुहेल, जुनैद, हफीजुल्लाह, करीमुद्दीन, आरिफ के रूप में हुई है। पुलिस ने एक अभियुक्त जुनैद को झंडी चौकी क्षेत्र में मुठभेड़ के बाद गिरफ्तार किया है, जुनैद के पैर में गोली लगी है।


Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.