ग्राम प्रधान से तंग आकर ब्लैक बोर्ड पर सुसाइड नोट लिखकर शिक्षक ने किया आत्मदाह 

ग्राम प्रधान से तंग आकर ब्लैक बोर्ड पर सुसाइड नोट लिखकर शिक्षक ने किया आत्मदाह शिक्षक ने ब्लैक बोर्ड पर लिखा सुसाइड नोट।

महेंद्र सिंह राजपूत

ललितपुर। ग्राम प्रधान और मिड डे मील प्रभारी के भ्रष्ट व्यवहार से तंग आकर एक शिक्षक ने अपनी कक्षा के ब्लैक बोर्ड पर सुसाइड नोट लिखकर आत्मदाह कर लिया।

ललितपुर के तालबेहट तहसील के सेमरखेड़ा गाँव के प्राथमिक विद्यालय ओम प्रकाश पटैरिया शिक्षक के तौर पर कई वर्षों से कार्य कर रहे थे। बीते शनिवार को वह अपने कक्षा में आए और ब्लैक बोर्ड पर ग्राम प्रधान और मिड डे मील प्रभारी समेत अन्य लोगों पर वसूली और धांधली के गंभीर आरोप लगाते हुए सुसाइड नोट लिखा। इसके बाद ओम प्रकाश ने अपने ऊपर मिट्टी के तेल छिड़कर खुद को आग लगा ली।

आग लगाने पर चिल्लाने की आवाज सुनकर आस-पास के लोग विद्यालय पहुंचे और एंबुलेंस को फोन कर बुलाया गया। मगर अस्पताल ले जाने पर डॉक्टर ने शिक्षक ओम प्रकाश को मृत घोषित कर दिया।

ग्राम प्रधान मोहन सिंह।

कक्षा में ब्लैक बोर्ड में लिखे गए सुसाइड नोट में शिक्षक ने मिड डे मील में भ्रष्टाचार का जिक्र करते हुए खुद की मौत के लिए ग्राम प्रधान मोहन सिंह, मिड डे मील प्रभारी कपिल दुबे, एमसीसी अध्यक्ष सोन सिंह, समन्यवयक बन्टी राजा को जिम्मेदार ठहराया।

पुलिस अपनी कार्यवाही कर रही है। प्रधान पर कार्यवाही हो इसके लिए डीपीआरओ को पत्र लिखेगें, क्योंकि प्रधान उन्ही के अंतर्गत आते हैं। और जो एक हमारे कर्मचारी पर आरोप है उस पर मैं कड़ी से कड़ी कार्यवाही करूँगा।
अमरीश यादव, बीएसए, ललितपुर

ग्रामीणों की सूचना पर एसडीएम हरिओम शर्मा और क्षेत्राधिकारी अरुण कुमार पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे। एसडीएम और क्षेत्राधिकारी ने ब्लैक बोर्ड पर लिखे सुसाइड नोट की फोटो कराई। इस बारे में क्षेत्राधिकारी अरुण कुमार ने पत्रकारों को बताया, “पुलिस ब्लैक बोर्ड पर लिखे सुसाइड नोट के आधार इस मामले की जांच कर रही है। जल्द ही दोषियों पर कार्रवाई की जाएगी।“

यह भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश में ग्रामीण बच्चों को जल्द ही मिलेगा खेल मैदान का तोहफा

पर्यावरण की विसंगतियां दूर करेंगे गांव के नौनिहाल

अब किसानों के खाते में जाएगा बिजली का भुगतान

Tags:    Bundelkhand 
Share it
Top