लखनऊ: एप्पल के कर्मचारी को गोली मारने वाले दोनों सिपाही गिरफ्तार

गोमतीनगर इलाके में शुक्रवार रात एक पुलिस कॉन्स्टेबल ने गाड़ी न रोकने पर मल्टीनेशनल कंपनी के एरिया मैनेजर विवेक तिवारी की गोली मारकर हत्या कर दी।

लखनऊ: एप्पल के कर्मचारी को गोली मारने वाले दोनों सिपाही गिरफ्तार

लखनऊ। गोमतीनगर इलाके में शुक्रवार रात एक पुलिस कॉन्स्टेबल ने गाड़ी न रोकने पर मल्टीनेशनल कंपनी के एरिया मैनेजर विवेक तिवारी की गोली मारकर हत्या कर दी। गोली सीधे युवक के सिर में जा लगी, जिससे उसकी जान चली गई। कार में मौजूद युवक के महिला मित्र की तहरीर पर पुलिस ने आरोपी सिपाहियों के खिलाफ केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। इस मामले में सीएम योगी ने कड़ी नाराजगी जताते हुए डीजीपी ओपी सिंह को कड़ी फटकार लगाई है।

घटना देर शुक्रवार रात करीब 1.30 बजे हुई, जब तिवारी अपनी सहकर्मी सना खान के साथ आईफोन एक्स प्लस के लांच के बाद घर जा रहे थे। सना ने बताया कि फायरिंग के बाद तिवारी काफी डर गए और उन्होंने अंडरपास के एक खंभे से कार टकरा दी, जिससे उन्हें और चोटें आईं।

एडीजी लॉ एंड ऑडर आनंद कुमार ने बताया, हत्या का मामला है। विवेक के चरित्र को लेकर कही गई सारी बातों को सिरे से ख़ारिज भी किया। वहीं एसएसपी कलानिधि नैथानी ने बताया- "कांस्टेबल को ऐसा लगा कि गाड़ी में अपराधी बैठे हुए हैं जो गश्त वाली बाइक में टक्कर मारने के बाद भागने की कोशिश कर रहे हैं। यही सोचकर उसने खुद के बचाव में गोली मार दी।



लखनऊ के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) कलानिधि नैथानी ने काह कि सना द्वारा प्राथमिकी दर्ज कराने के बाद कांस्टेबल प्रशांत चौधरी पर हत्या का मामला दर्ज कर लिया गया है।



पुलिस के मुताबिक, जब गोमतीनगर एक्सटेंशन पर जांच के दौरान तिवारी को रूकने का संकेत किया गया, तो उन्होंने वहां से भागने की कोशिश की। अधिकारी ने कहा कि तिवारी भागने लगे और एक बाइक को टक्कर मार दी, जिस पर दो कांस्टेबल सवार थे, जिन्होंने फिर उनका पीछा किया और कांस्टेबल ने खुद को बचाने के लिए तिवारी को गोली मारी।



ये हादसा नहीं ये मर्डर है

मृतक विवेक की पत्नी कल्पना ने बताया, मेरी कल रात 1:30 बजे विवेक से आखिरी बार बात हुई थी। उन्होंने बताया कि वो सना को घर पर ड्रॉप करके घर आ रहे हैं। जब वो घर नहीं आए तो रात 2 बजे से मैं लगातार दोनों को कॉल कर रही थी, लेकिन किसी ने फोन नहीं उठाया। फिर 3 बजे किसी ने फोन उठाया, उसने बोला की सर और मैम का एक्सीडेंट हो गया है और उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है। फिर में भाग कर अस्पताल पहुंची जहां डॉक्टरों ने बताया कि उनकी मौत हो चुकी है। मैं फिर पुलिस वालों के साथ घटनास्थल पर गई जहां मैने देखी की गाड़ी के शीशे में गोली के निशान थे। ये हादसा नहीं ये मर्डर है।"


एप्पल के एरिया मैनेजर विवेक तिवारी की हत्या के मामले को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है, जरूरत पड़ी तो पूरे मामले की सीबीआई से जांच कराई जाएगी। हालांकि, मृतक के परिजनों ने भी इस पूरे मामले की सीबीआई जांच की मांग की है। गोरखपुर में पत्रकारों से बातचीत में योगी ने कहा, "लखनऊ में कोई एनकाउंटर नहीं हुआ है। पूरे मामले को लेकर डीजीपी को निर्देश दिया गया है। दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।"

इस बीच उप्र के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) ओम प्रकाश सिंह ने विवेक हत्याकांड को लेकर स्वीकार किया कि पुलिसकर्मियों ने कानून हाथ में लिया है। उन्होंने कहा, "दोनों पुलिसकर्मियों ने गलती की है। इसीलिए उनके खिलाफ धारा 302 के तहत एफआईआर दर्ज कराई गई है। इसके बाद ही उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया है। उन्हें जेल भेजा जाएगा।"



Share it
Top