पंचायत चुनाव: जानिए आपके जिले में जिला पंचायत अध्यक्ष पद पर किस वर्ग का प्रत्याशी होगा काबिज

उत्तर प्रदेश में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के तहत आरक्षण सूची जारी हो गयी है। पहले चरण में प्रदेश के सभी 75 जिला पंचायत अध्यक्ष पदों का आरक्षण भी जारी कर दिया गया है। जानिए आपके जिले में जिपं अध्यक्ष पद पर किस वर्ग का प्रत्याशी होगा काबिज ...

Ajay MishraAjay Mishra   13 Feb 2021 6:10 AM GMT

पंचायत चुनाव: जानिए आपके जिले में जिला पंचायत अध्यक्ष पद पर किस वर्ग का प्रत्याशी होगा काबिजकोर्ट ने सरकार से 10 दिनों में जवाब मांगा है। फोटो : गाँव कनेक्शन

लखनऊ। शासन ने त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के तहत सभी 75 जिला पंचायत अध्यक्ष पदों का आरक्षण जारी कर दिया है। इसमें छह जिलों के पद अनुसूचित जाति महिला, 10 जिलों में अनुसूचित जाति, सात जिलों में अन्य पिछड़ा वर्ग महिला, 13 जिलों में अन्य पिछड़ा वर्ग के अध्यक्ष बनेंगे। 12 जिलों में महिलाएं और 27 जिलों के पद अनारक्षित रखे गए हैं। दूसरी ओर अब ब्लॉक प्रमुख पदों के आरक्षण का दावेदारों को बेसब्री से इंतजार है।

उत्तर प्रदेश के अपर मुख्य सचिव पंचायती राज मनोज कुमार सिंह ने जारी किए जिला पंचायत अध्यक्ष पद के आरक्षण में प्रदेश की राजधानी लखनऊ की सीट अनुसूचित जाति महिला के लिए आरक्षित की है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी से पिछड़ा वर्ग की महिला तो सीएम योगी आदित्यनाथ का क्षेत्र कहे जाने वाले गोरखपुर की सीट अनारक्षित है।

इन जिलों में कोई भी लड़ सकता है जिपं अध्यक्ष पद का चुनाव

अलीगढ़, हाथरस, आगरा, मथुरा, प्रयागराज, फतेहपुर, कानपुर देहात, गोरखपुर, देवरिया, देवरिया, महराजगंज, गोण्डा, बलरामपुर, श्रावस्ती, अयोध्या, सुल्तानपुर, शाहजहांपुर, सिद्धार्थनगर, मुरादाबाद, बिजनौर, रामपुर, अमरोहा, मेरठ, बुलंदशहर, गाजियाबाद, गौतमबुद्धनगर, उन्नाव व भदोही। इन जिलों में जिला पंचायत अध्यक्ष की सीट अनारक्षित हैं, यहां कोई भी महिला या पुरुष चुनाव लड़ सकेंगे।


प्रदेश के इन जनपदों से कोई भी महिला लड़ सकती है चुनाव

कासगंज, फिरोजाबाद, मैनपुरी, मऊ, प्रतापगढ़, कन्नौज, हमीरपुर, बहराइच, अमेठी, गाजीपुर, जौनपुर व सोनभद्र जिलों में पंचायत अध्यक्ष पद पर महिलाएं ही चुनाव लड़ेंगी, वह किसी भी जाति की हो सकती हैं।

अनुसूचित जाति महिला के लिए ये जिले

अनुसूचित जाति महिला के लिए शामली, बागपत, लखनऊ, कौशाम्बी, सीतापुर व हरदोई जिले आरक्षित किए गए हैं।

यह भी पढ़ें : पंचायत चुनाव के लिए यूपी में जारी हुई आरक्षण नीति, जिलों में दो-तीन मार्च से शुरुआत

अनूसूचित जाति के लिए कानपुर समेत 10 जनपद

अनुसूचित जाति के लिए 10 जनपद भी घोषित हो गए हैं। इसमें कानपुर नगर, औरैया, चित्रकूट, महोबा, झांसी, जालौन, बाराबंकी, लखीमपुर खीरी, रायबरेली व मिर्जापुर शामिल हैं।

बनारस समेत सात जिलों में ओबीसी महिला कुर्सी पर बैठेंगी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी समेत संभल, हापुड़, एटा, बरेली, कुशीनगर व बदायूं में अन्य पिछड़ा वर्ग महिला के लिए जिला पंचायत अध्यक्ष पद आरक्षित हुआ है।

13 जिलों में पिछड़ा वर्ग की होगी सरकार

अन्य पिछड़ा वर्ग के लिए 13 जिले आरक्षित हुए हैं। इसमें आजमगढ़, बलिया, इटावा, फर्रुखाबाद, बांदा, ललितपुर, अम्बेडकरनगर, पीलीभीत, बस्ती, संतकबीरनगर, चंदौली, सहारनपुर व मुजफ्फरनगर जनपद को रखा गया है।

25 महिला जिला पंचायत अध्यक्ष, 27 अनारक्षित

प्रदेश में 75 जिला पंचायत अध्यक्ष पद पर चुनाव होंगे। इसमें 27 अनारक्षित हैं। अनुसूचित जाति के लिए 16 पद हैं, इसमें छह महिलाएं चुनाव लड़ सकेंगी। पिछड़ी जाति के 20 पद हैं, इनमें सात महिलाओं के लिए हैं। केवल महिलाओं के लिए 12 पद रखे गए हैं। कुल 25 पद पर महिला अध्यक्ष चुनी जाएंगी।

यह भी पढ़ें :

यूपी में पंचायत चुनाव लड़ने वाले इससे अधिक नहीं कर पाएंगे खर्च

अब अपने मोबाइल से निकाल सकेंगे वोटर आईडी कार्ड


Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.