मेरठ में स्वाइन फ्लू का क़हर जारी, जा चुकी है कई जानें

Sundar ChandelSundar Chandel   18 Aug 2017 11:22 AM GMT

मेरठ में स्वाइन फ्लू का क़हर जारी, जा चुकी है कई जानेंप्रतीकात्मक तस्वीर।

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

मेरठ। मेरठ जिले में स्वाइन फ्लू से आठ लोगों की जान जा चुकी है, जबकि 60 मरीजों में और इसकी पुष्टि हो चुकी है। 14 अगस्त की देररात महज एक घंटे में ही मेडिकल कालेज में भर्ती पांच लोगों की जान चली गई थी, जिसके बाद काफी हंगामा भी हुआ था। स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने सीएमओ को फोन कर मामले की पूरी जानकारी मांगी।

14 अगस्त को लाला लाजपतराय मेमोरियल मेडिकल कालेज में स्वाइन फ्लू के नौ मरीज भर्ती थे, जिनमें से रात को 12 बजे के आस-पास पांच ने दम तोड़ दिया, जबकि एक मरीज की मौत प्राइवेट अस्पताल में हुई, जिस पर तीमारदारों ने अस्पताल स्टाफ पर लापरवाही व ऑक्सीजन न लगाने का आरोप लगाते हुए जमकर हंगामा किया था। सिटी मजिस्ट्रेट एमपी सिंह बताते हैं, “पांच मरीजों की मौत की शिकायत की गई है, जिसके लिए मेडिकल कालेज प्रशासन और डॉक्टर्स से पूछताछ की जा रही है।”

ये भी पढ़ें- मरीजों को राहत, एम्स में 500 रुपए तक के सभी टेस्ट होंगे मुफ्त

डॉक्टरों में भी दहशत

मेरठ में अब तक स्वाइन फ्लू से 12 लोगों की मौत हो चुकी है, जिससे आमजन के साथ डॉक्टर्स भी सकते में हैं। गोरखपुर की घटना के बाद लगता था कि अस्पताल की हालत अब बदलेगी, लेकिन मेडिकल कालेज में अभी भी दर्जनों जरूरी दवाओं का टोटा है। साथ ही रात को वार्ड में कोई स्टाफ का सदस्य नहीं दिखता, यदि रात में मरीजों की तबीयत बिगड़ जाए तो कौन जरूरी दवाई देगा।

क्या कहते हैं जिम्मेदार

मेडिकल कालेज के सीएमएस डॉ. अजीत चौधरी बताते हैं, “मरने वाले मरीज स्वाइन फ्लू के गंभीर वायरस से ग्रस्त थे। इलाज में कोई लापरवाही नहीं बरती गई, तीमारदारों के सभी आरोप बेबुनियाद हैं।”

सीएमओ डॉ. राजकुमार चौधरी बताते हैं, “जिला अस्पताल और मेडिकल कालेज में स्वाइन फ्लू के इलाज की पूरी व्यवस्था है, लेकिन फिर भी मौत हो रही है। इसकी जांच की जा रही है आखिर खामियां कहां हैं, मैंने पूरे मामले से स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह को अवगत करा दिया है।”

ये भी पढ़ें- गरीब मरीजों के हक का इलाज मार रही सरकारी डाॅक्टरों की प्राइवेट प्रैक्टिस

क्या है इंतजाम

  • 3800 टेमी फ्लू दवा सीएमओ कार्यालय में उपलब्ध।
  • 800 टेमी फ्लू डोज मेडिकल कालेज में उपलब्ध।
  • 700 टेमी फ्लू डोज जिला अस्पताल में उपलब्ध।
  • मास्क, प्रिवेंटिव किट और बच्चों का टेमी फ्लू सीरप प्रयाप्त मात्रा में उपलब्ध।
  • 42 बेड स्वाइन फ्लू के लिए जिला अस्पताल में आरक्षित।
  • जिला अस्पताल में ऑक्सीजन के 70 से 100 सिलेंडर एडवांस में मौजूद।
  • मेडिकल कालेज में सेंट्रल पाइप लाइन में प्रयाप्त ऑक्सीजन उपलब्ध।
  • इसके अलावा 33 पीएचसी व 12 सीएचसी पर भी दो से छह सिलेंडर मौजूद।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top