उत्तर प्रदेश: गन्ना किसानों को भा रहा ई-गन्ना ऐप, 44 लाख किसानों ने किया डाउनलोड

उत्तर प्रदेश के गन्ना किसानों के लिए ई-गन्ना ऐप काफी मददगार साबित हो रहा है। प्रदेश सरकार के अनुसार इस ऐप से 44.40 लाख किसान मदद ले रहे हैं।

उत्तर प्रदेश: गन्ना किसानों को भा रहा ई-गन्ना ऐप, 44 लाख किसानों ने किया डाउनलोड

13 नवंबर, 2019 को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ई-गन्ना ऐप का लोकार्पण किया था। 

उत्तर प्रदेश के एक बड़े हिस्से में किसान गन्ना की खेती करते हैं, गन्ना किसानों को तकनीक से जोड़ने और समय पर गन्ना किसानों को भुगतान सुनिश्चित करने के लिए ई-गन्ना ऐप विकसित किया गया है।

उत्तर प्रदेश सरकार के अनुसार साल 2020-21 में 66,963 किसानों को गन्ना खेती में आधुनिक और उन्नत तकनीक का प्रयोग करना सिखाया गया। प्रशिक्षण के माध्यम से यूपी में रिकॉर्ड 81.5 टन गन्ना उत्पादन हासिल किया गया है।

यही नहीं प्रदेश के 44.40 लाख किसानों ने ई-गन्ना ऐप डाउनलोड किया है, जहां उन्हें सीधे उत्तर प्रदेश गन्ना विभाग से जुड़े होने का लाभ मिल रहा है। ऐप के माध्यम से किसानों को छुटकारा मिल गया है और ऐप में माध्यम से किसानों को नई जानकारियां भी मिलती रहती हैं।

उत्तर प्रदेश गन्ना विभाग के अपर आयुक्त वाईएस मलिक गांव कनेक्शन से बताते हैं, "सितम्बर 2019 में इस ऐप को लॉन्च किया गया था और 13 नवंबर, 2019 को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस ऐप का लोकार्पण किया था। प्रदेश के 44.4 लाख किसानों ने अभी इसे डाउनलोड कर लिया है, यही नहीं गूगल में इसकी 4.1 रेटिंग है। 36,878 लोगों ने गूगल पर इसको रेट किया है, जिसमें 50% ज्यादा लोगों इस ऐप को 5 स्टार दिए हैं। 815 करोड़ बार किसानों ने इसे हिट किया है।"


वो आगे कहते हैं, "जब से ऐप लॉन्च हुआ है तभी से यह किसानों के बीच काफी लोकप्रिय हो गया है।"

यही नहीं किसानों के लिए स्मार्ट गन्ना किसान वेबसाइट भी शुरू की गई है, वेबसाइट पर अब तक 5.1 करोड़ हिट हो चुके हैं।

गन्ना किसानों की शिकायतों को दूर करने के लिए यूपी सरकार ने मोबाइल ऐप के अलावा वेब पोर्टल (caneup.in) के साथ-साथ इनक्वायरी टर्मिनल भी स्थापित किये गये हैं। गन्ना विभाग द्वारा मुख्यालय पर टोल-फ्री नम्बर 1800-121-3203 की व्यवस्था की गयी है।

ऐप के जरिए गन्ना किसानों को गन्ने की बिक्री और दूसरी जानकारियां बस एक क्लिक पर ऑनलाइन मिल जाती हैं। ऐप और वेब पोर्टल के माध्यम से किसानों को गन्ना बेचने, सर्वे डेटा, गन्ने से जुड़ी सरकारी सूचनाएं (प्री कैलेंडर), बेसिक कोटा और गन्ने की पर्ची से जुड़ी जैसी सभी जानकारियां मिल जाती है।

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.