रामदाना की खेती करें किसान, कम पानी और मेहनत में कमाएं अच्छा मुनाफा

रामदाना की खेती करें किसान, कम पानी और मेहनत में कमाएं अच्छा मुनाफारामदाना की खेती से किसान निर्मला देवी को मिला अच्छा मुनाफा।

रामसनेहीघाट (बाराबंकी)। गुणों से भरपूर रामदाना सभी प्रकार की जलवायु में आसानी से उगने वाला है। इसका प्रयोग भोजन के रूप में भारत और दक्षिणी अमेरिका में हजारों वर्षों से होता आया है। उत्तर प्रदेश में भी इसकी खेती का प्रचलन काफी तेजी से बढ़ रहा है।

रामदाने की खेती कम मेहनत और कम पानी के द्वारा की जा सकती है। इसकी अपेक्षा चावल की खेती में पानी भरपूर और मेहनत भी कमरतोड़ लगती है। रामदाना में गेहूं, चावल की अपेक्षा प्रोटीन की मात्रा अधिक पायी जाती है। बाराबंकी जिले में कई किसान रामदाना की सफल खेती करके हजारों में मुनाफा कमा रहे हैं।

आलू और गेहूं की खेती में नहीं मिला उतना फायदा

बाराबंकी जिला मुख्यालय से 45 किलोमीटर दूर रामसनेहीघाट तहसील के देवीगंज पुरेअवधूतपुर गाँव में रामदाना की खेती पर जोर दिया जा रहा है। देवीगंज ग्राम पुरेअवधूतपुर में निर्मला देवी रामदाना की बेहतर खेती कर तीन महीने में हजारों रुपए का लाभ ले रही है। निर्मला देवी बताती हैं, "हम पहले गेहूं, धान और आलू आदि की खेती करते थे। उसमें ज्यादा कुछ फायदा नहीं हो पाता था। उसके बाद हमने रामदाना की खेती करने का इरादा बनाया। रामदाना की खेती हमने पांच साल पहले शुरू किया और अब हमें अच्छा फायदा हो रहा है

एक बीघे में मात्र 100 ग्राम बीज की जरूरत

रामदाना की खेती अगस्त के महीने में बोई जाती है। इसकी खेती की समय सीमा 75 से 80 दिन की होती है। एक बीघे में मात्र 100 ग्राम बीज ही पड़ता है, जिसकी कीमत 35 रुपये से 40 रुपये होती है।" निर्मला देवी आगे बताते हैं, "एक बीघे में एक क्विंटल से डेढ़ कुंतल राम दाना निकल आता है। हम इसकी बिक्री असन्द्र बाजार में करते हैं। हमारे गाँव से बाजार की दूरी आठ किलोमीटर है। 75 रुपये से 80 रुपये प्रति किलो की दर से रामदाना बिक जाता है।" गिरिजा शंकर बताते हैं, "रामदाना की खेती छोटी जोत वाले किसानों के लिए फायदेमंद है। कम समय में और कम लागत में रामदाना की खेती बहुत अच्छी है।" गिरिजा आगे बताते हैं, "रामदाना की खेती के साथ-साथ हम उरद की खेती भी कर लेते हैं] जिससे उसमें भी अच्छा फायदा हो जाता है।"

गेहूं, चावल व रामदाना का पोषक मान (प्रति 100 ग्राम दाना)

पोषक तत्व गेहूं चावल रामदाना

प्रोटीन (ग्राम) 11.8 6.8 15.6

वसा (ग्रा.) 1.5 0.5 6.3

खनिज लवण (ग्रा.) 1.5 0.7 2.9

कैल्शियम (मि.ग्रा.) 41 10 222

लोहा (मि.ग्रा.) 3.5 1.8 13.9

ऊर्जा (कि.ग्रा.कैलच्री) 346 345 410

ये भी पढ़ें- हरी धनिया की खेती से किसान कमा रहे हैं अच्छा मुनाफ़ा

जूट और सनई की खेती से आत्मनिर्भर बन सकते हैं किसान, दुनियाभर में बढ़ रही मांग

मशरूम की खेती बनी आमदनी का जरिया

Share it
Top