हरदोई में खुली पशु रोग निदान प्रयोगशाला, यूपी के सभी जिलों में खोलने की कवायद शुरू

हरदोई में खुली पशु रोग निदान प्रयोगशाला, यूपी के सभी जिलों में खोलने की कवायद शुरूफोटो: गाँव कनेक्शन

लखनऊ। पशुओं के खून और पेशाब की जांच कराने के लिए पशुपालकों को अब इधर-उधर भटकना नहीं पड़ेगा। हरदोई जिले में पशु रोग निदान लैब खुल गई है। इसके अलावा कई जिलों में इस लैब को खोलने की कवायद शुरू हो चुकी है।

वर्तमान समय में उत्तर प्रदेश में कुल 10 पशु रोग निदान लैब बनी हुई है। इन लैब में प्रोटोजुआ जनित बीमारी (सर्रा, बबेसिओसिस, और आन्तरिक परजीवी (पेट के कीड़े जुएं, चिचड़ी) जैसी बीमारियों का पता लगाने के लिए खून और पेशाब की जांच कराई जाती है। खून की जांच के लिए 3 रुपए और पेशाब की जांच के लिए 10 रुपए का खर्चा आता है।

ये भी पढ़ें- इन यंत्रों की मदद से पशुपालक जान सकेंगे पशुओं के मदकाल की स्थिति

हरदोई में पशु रोग निदान प्रयोगशाला के शुभारंभ अवसर पर मौजूद पशु चिकित्सक व अधिकारी।

जिलों में लैब खोलने के लिए 28 करोड़ रुपए का बजट दिया गया है। प्रत्येक प्रयोगशाला पर 41.33 लाख रुपए की लागत आएगी। पशुपालन विभाग, उत्तर प्रदेश के पशु रोग नियंत्रण और प्रक्षेत्र के निदेशक डॉ. एएन सिंह बताते हैं, "प्रदेश के 65 जिलों में लैब बननी है, जिन पर काम चल रहा है। दस मंडलों में पहले से ही चल रही है। हरदोई के अलावा कई जिलों में जल्द ही खुलेंगी। इससे पशुपालकों को काफी आसानी होगी और समय पर पशुओं का सही इलाज मिल सकेगा।"

पशुओं में होने वाली घातक बीमारियों को जानने के लिए उनके खून की और पेशाब की जांच होती है, पर उसकी जांच की रिपोर्ट पाने के लिए पशुपालकों को बहुत समय तक इंतजार करना पड़ता है। ऐसे में और जिलों में पशु रोग निदान लैब खुलने से पशुपालकों को फायदा होगा।

ये भी पढ़ें- दुधारू पशुओं के लिए उत्तम हरा चारा है अजोला, वीडियों में जानें इसको बनाने की पूरी विधि

पशुओं को प्राथमिक चिकित्सा देने के लिए ये हैं पांच उपाय

दुधारू पशुओं में पोषक तत्वों की कमी को दूर करेगा बूस्टरमिन

Tags:    animal husbandry 
Share it
Share it
Share it
Top