Top

लॉकडाउन में पशुपालक इस तरह रख सकते हैं अपने पशुओं का ध्यान

लॉकडाउन में पशुपालक इस तरह रख सकते हैं अपने पशुओं का ध्यान

इस समय जब लॉकडाउन में सुरक्षित रहने के लिए लोगों को घरों में रहने की सलाह दी जा रही है। लेकिन ऐसे में पशुपालक अपने पशुओं का ध्यान रखना न भूल जाएं।

कृषि विज्ञान केंद्र, सीतापुर के पशु वैज्ञानिक डॉ आनंद सिंह बता रहे हैं, इस समय पशु पालक किन बातों का ध्यान रखें।

दुधारू पशुओं में ज्यादातर जीवाणु और विषाणु जनित रोग होते हैं इसलिए पशुओं को स्वस्थ बनाए रखने के लिए पशुओं के बाड़े की साफ सफाई जरूरी है। ज्यादातर पशुपालक भाई पशुशाला की साफ-सफाई के प्रति सजग नहीं रहते हैं इससे पशुओं में विभिन्न प्रकार की बीमारी फैलने की आशंका रहती है। जिन के इलाज में खर्चा अधिक आता है और पशु के मृत्यु होने पर हमें अधिक नुकसान उठाना पड़ता है, अतः पशुशाला को साफ स्वच्छ रख कर होने वाले नुकसान से बचाव हो सकता है।


1. डेयरी फार्मिंग करने वाले पशुपालक भाई इस बात का ध्यान दें की पशुशाला की सफाई के लिए 50 पशुओं पर एक मजदूर होना चाहिए या 10 पशुओं पर दूध निकालना, चारा डालना और सफाई करने के लिए एक मजदूर होना चाहिए।

2. पशुशाला की सफाई के लिए बेलचा, हाथ झाड़ू, झाड़ू, ब्रश, रसायन जैसे धोने का सोडा क्लोरीन, फिनायल, पोटेशियम परमैग्नेट ,चुना, मिट्टी का तेल इत्यादि होना चाहिए।

3. पशु शाला को दिन में दो बार साफ करना चाहिए तथा 2% फिनाइल का घोल का छिड़काव करना चाहिए।

4. दूध निकालने के लिए उपयोग कमरे में 100 - 200 पीपीएम क्लोरीन का छिड़काव करें ।

5. दुधारू पशुओं के दूध निकालने के यंत्र, बर्तन तथा नाद, पशु आहार देने के बर्तन पशु के खाने के बर्तन इत्यादि की साफ सफाई की व्यवस्था रखनी चाहिए ।

6. पशुशाला में मक्खी मच्छर आदि को मारने व भगाने के लिए कीटनाशकों का प्रयोग पशु चिकित्सक की सलाह पर करें।

7. पशुशाला के सफाई के लिए विभिन्न रसायनों का प्रयोग कर सकते हैं -

सोडियम कार्बोनेट 30% बर्तन व फर्श की धुलाई के लिए

चूना 5% फर्श की सफाई के लिए पोटैशियम परमैग्नेट 1:10000 फर्श, नाद, नाले की सफाई के लिए

(कार्बोलिक एसिड) फिनाइल 3% का प्रयोग धातु के समान, कपड़े के लिए

बोरिक अम्ल 5 से 6% फर्श, दीवार, त्वचा की सफाई के लिए

आयोडीन 2 से 5% घाव की सफाई के लिए

इन रसायनों का प्रयोग आप कर सकते हैं।

अधिक जानकारी के लिए कृषि विज्ञान केंद्र कटिया से संपर्क करें। संपर्क सूत्र 73769 70259

ये भी पढें : आईसीएआर की सलाह : किसान खुद को कोरोना से सुरक्षित रखते हुए कर सकते हैं खेती के जरूरी काम


Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.