दस लाख पशुधन किसानों के मकान और फार्म को जियोटैग करेगी केरल सरकार

दस लाख पशुधन किसानों के मकान और फार्म को जियोटैग करेगी केरल सरकारपशुधन और कुक्कुट पालन करने वाले 10 लाख किसानों के मकान और फार्म को जियोटैग करने की तैयारी। फोटो: अभिषेक वर्मा

तिरूवनंतपुरम (भाषा)। केरल सरकार अपने एक बड़े डिजिटलीकरण अभियान के तहत राज्य में पशुधन और कुक्कुट पालन करने वाले 10 लाख किसानों के मकान और फार्म को जियोटैग करने की तैयारी कर रही है।

आधिकारिक सूत्रों ने कहा कि उद्देश्य राज्य में पशुपालन और डेयरी के बारे में एक व्यापक डिजिटल डाटाबेस तैयार करना और डाटा को जियोग्राफिकल इंफार्मेशन सस्टिम (जीआईएस) का इस्तेमाल करते हुए समाहित करना है। राज्य के पशुपालन विभाग के पास आठ लाख से अधिक किसानों का डाटाबेस है और महत्वाकांक्षी पहल के तहत उनमें से 60 हजार के मकान और फार्म का पहले ही जियोटैग कर दिया गया है।

यह भी पढ़ें- 80 पैसे प्रतिदिन के हिसाब से 50 हजार तक की गाय-भैंस का एक साल के लिए करा सकते हैं बीमा

आधिकारिक सूत्रों ने कहा कि उसकी योजना डिजिटलीकरण अभियान के तहत विभाग का कामकाज अगले छह सात महीने में कागजरहित करने की है। इसके लिए 23 मोबाइल एप्लीकेशन विकसित किये जाएंगे।

यह भी पढ़ें- बजट 2018 : पशुपालन और मछली पालन के लिए भी मिलेगा किसान क्रेडिट कार्ड

Tags:    animal husbandry 
Share it
Top