सीतापुर की इस गोशाला में हर रोजाना एक से दो मर रहे गोवंश

Mohit ShuklaMohit Shukla   15 July 2019 12:41 PM GMT

सीतापुर की इस गोशाला में हर रोजाना एक से दो मर रहे गोवंश

मोहित शुक्ला/ अभिषेक मिश्रा

सीतापुर। "गोशाला में गायों को चारा-पानी न मिलने से रोजाना एक से दो गाय मर रही है लेकिन कोई अधिकारी इनकी सुध नहीं लेता है।" ऐसा कहना हैं, सीतापुर जिले के सकरन ब्लॉक में रहने वाले संकेत का।

किसानों को छुट्टा गोवंश से निजात दिलाने के लिए योगी सरकार ने गोवंश आश्रय स्थल बनाने के निर्देश दिए थे। लेकिन इन गोशालाओं में बदइंतजामी के चलते बेजुबान गोवंश मर रहे हैं। सकरन ब्लॉक के बबूल अपने क्षेत्र में बनी गोशालाओं की स्थिति के बारे में बताते हैं, "गौशाला के नाम पर सिर्फ खाना पूर्ति की जा रही है,गौशाला से गायों को रोजाना निकल दिया जाता है, ऐसे में गायें इधर-उधर घुमती फिरती है,लेकिन इनकी देख रेख करने वाला कोई नही है।"

यह भी पढ़ें- गोवंश की सुरक्षा के लिए यूपी के सीएम ने कहा- अधिकारी जरूर करें यह काम

सकरन ब्लॉक की इस गोशाला की अव्यवस्था पर सीतापुर जिले के बिसवां ब्लॉक के उप जिलाधिकारी शिशिर कुमार ने गाँव कनेक्शन को बताया, "मामले की जानकारी मिली में इस प्रकरण की स्वयं जांच करूँगा जो भी दोषी होगा उसके ख़िलाफ़ कार्यवाही की जाएगी।"


सीतापुर जिले की सकरन ब्लॉक में बनी इस गोशाना में लगभग 600 गोवंश थे लेकिन इनके लिए चारा-पानी और इलाज की व्यवस्था न होने से धीरे-धीरे इनकी संख्या कम हो रही है।

सीतापुर जिले के मुख्य पशुचिकित्सा अधिकारी रवींद्र कुमार यादव ने कहा, "गौशाला में बुजुर्ग गायों को लोग छोड़ते है लेकिन इसके बावजूद भी हम लोग बीमार पशुओं का समय से चेकअप कराते है। फिर भी कोई दोषी पाया जाता है तो उसके खिलाफ कार्यवाही की जायेगी।"

यह भी पढ़ें- छुट्टा गोवंश को पालने के लिए किसानों को हर महीने मिलेंगे 900 रुपये

हाल में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बाराबंकी, रायबरेली, हरदोई, प्रयागराज समेत 5 जिलों में गोशालाओं में बदइंतजामी के कारण कई गायों की मौत हो गई थीं। इस मामले को गंभीरता से लेते हुए योगी आदित्यनाथ ने अयोध्या और मिर्जापुर के जिलाअधिकारी को नोटिस जारी किया है साथ ही इन दोनों जिलों के आठ अधिकारियों को निलंबित भी किया है।

इसके साथ ही गोशालाओं में उचित इंतजाम न होने के कारण मुख्यमंत्री गोवंश आश्रय स्थल की पूरी जिम्मेदारी जिलाअधिकारी और सीवीओ को सौंपते हुए कहा कि गोवंश के चारे, टीकाकरण और शेड निर्माण का समुचित प्रबंध किया जाए।

सीतापुर की इस गोशाला में हर रोजाना एक से दो मर रहे गोवंशसीतापुर की इस गोशाला में हर रोजाना एक से दो मर रहे गोवंश

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top