कैमरे की मदद से बदलाव की कहानियां दिखा रहे हैं मध्य भारत के आदिवासी युवा

भोपाल में आयोजित ग्रीन हब सेंट्रल इंडिया महोत्सव में 16 व 17 जुलाई को छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश, राजस्थान और झारखंड के आदिवासी युवाओं द्वारा बनाई गई डॉक्युमेंट्री प्रदर्शित की गईं। इस कार्यक्रम ने 17 युवा आदिवासियों की डॉक्युमेंट्री को शामिल किया गया, जिन्हें दस महीने की डॉक्यूमेंट्री बनाने के गुर सिखाए गए और अपने आसपास के लोगों की जिंदगी पर फिल्म बनाने के लिए प्रोत्साहित किया गया।

Satish MalviyaSatish Malviya   25 July 2022 5:25 AM GMT

भोपाल, मध्य प्रदेश। किसान मुकेश बैगा जैविक तरीके से खेती हैं जो मध्य प्रदेश के सीधी जिले में संजय-दुबरी राष्ट्रीय उद्यान के बीच में चिंगवाह गाँव में रहते हैं। बैगा आदिवासी समुदाय से ताल्लुक रखने वाले 39 वर्षीय मुकेश को हमेशा से लिखने का शौक था और शब्दों के प्रति उनके प्रेम ने उन्हें कविताओं और निबंध लिखने के लिए प्रेरित किया।

किसान मुकेश ने 2018-19 में चिंगवा गाँव में भारत ग्रामीण आजीविका फाउंडेशन (बीआरएलएफ) द्वारा आयोजित जैविक खेती की ट्रेनिंग ली और उन्होंने जैविक खेती में अपने अनुभवों के बारे में लिखना शुरू किया। बीआरएलएफ ग्रामीण विकास मंत्रालय के तहत एक स्वतंत्र संस्था है।

"लेकिन, मुझे एहसास हुआ कि मेरे कई साथी पढ़ नहीं सकते थे और मैं अपने शब्दों के साथ उन तक नहीं पहुंच सकता था, "मुकेश, जो अब दूसरे किसानों को जैविक खेती तकनीकों में प्रशिक्षित करते हैं ने गाँव कनेक्शन को बताया।


तभी उन्हें ग्रीन हब सेंट्रल इंडिया फेलोशिप के बारे में पता चला। 10 महीने की फैलोशिप, जो ग्रामीण और आदिवासी लोगों के लिए शुरू की गई जिसमें सुदूर आदिवासी क्षेत्रों के समुदायों से वीडियो शूट करना, एडिटिंग और कहानियों को कहने के तकनीकी पहलुओं को सीखना शामिल है।

मुकेश ने सफलतापूर्वक इस फेलोशिप को पूरा किया और खेती की जवाहर तकनीक के बारे में एक फिल्म - बोरी में लगाई, हज़ारों कमाई - बनाई। उनकी फिल्म, 16 अन्य साथियों के साथ, हाल ही में 16-17 जुलाई को भोपाल में आयोजित ग्रीन हब सेंट्रल इंडिया (जीएचसीआई) महोत्सव के दौरान प्रदर्शित की गई थी।

छत्तीसगढ़ के अंबिकापुर की आरती सिंह भी मुकेश की तरह ग्रीन हब सेंट्रल इंडिया फेलो हैं। आदिवासी समुदाय से ताल्लुक रखने वाली 21 साल की आरती ने एक नहीं बल्कि दो फिल्में बनाई हैं और दोनों को जीएचसीआई फेस्टिवल में दिखाया गया था।

आरती की पहली फिल्म किसान हूं निडर हूं राजस्थान के अजमेर जिले में रहने वाली एक महिला किसान सगुनी देवी (बाएं) पर है। फोटो: निधि जम्वाल

आरती की पहली फिल्म किसान हूं निडर हूं राजस्थान के अजमेर जिले में रहने वाली एक महिला किसान सगुनी देवी पर है। उनकी दूसरी फिल्म - पहाड़ी कोरबा - छत्तीसगढ़ के सरगुजा जिले में पहाड़ी कोरबा जनजाति, एक विशेष रूप से कमजोर आदिवासी समूह (पीवीटीजी) की शादी की रस्मों का दस्तावेज है।

"मैं हमेशा से आदिवासियों की संस्कृति, परंपराओं, विशिष्ट समस्याओं आदि को पेश करने के लिए कुछ करना चाहती थी, लेकिन मुझे नहीं पता था कि मैं यह कैसे कर सकती हूं, "आरती ने गाँव कनेक्शन को बताया। उन्हें फेलोशिप के बारे में छत्तीसगढ़ स्थित एक स्वैच्छिक संगठन चौपाल के माध्यम से पता चला, जो आदिवासी समुदायों के साथ काम करता है। उन्होंने कहा, "स्वयं एक आदिवासी होने के नाते, मुझे इस फेलोशिप के लिए चुना गया था और इसने मुझे अपनी कहानी को सबसे प्रभावशाली तरीके से बताने का मौका दिया।"

ग्रीन हब सेंट्रल इंडिया फैलोशिप

डस्टी फुट फाउंडेशन के दिमाग की उपज और बीआरएलएफ द्वारा समर्थित ग्रीन हब सेंट्रल इंडिया फेलोशिप की घोषणा पिछले साल की गई थी और ग्रामीण और आदिवासी क्षेत्रों के 17 साथियों ने इसे पूरा किया था। महाशक्ति सेवा केंद्र, भोपाल स्थित एक अन्य गैर-लाभकारी संस्था, जो महिलाओं की आजीविका में सुधार के लिए कौशल विकास कार्यशालाएं आयोजित करती है, पहल का एक हिस्सा है।

कार्यक्रम के अध्येता उच्च जनजातीय आबादी वाले मध्य भारत के चार राज्यों - मध्य प्रदेश, राजस्थान, झारखंड और छत्तीसगढ़ से हैं। प्रसिद्ध वन्यजीव फिल्म निर्माता और डस्टी फुट की संस्थापक रीता बनर्जी के नेतृत्व में कार्यक्रम ने गोंड, बैगा, भील, बेदिया पारधी और दूसरी कई आदिवासी जनजातियों के युवाओं को डॉक्यूमेंट्री बनाने की ट्रेनिंग दी गई।

भोपाल में प्रदर्शित की गईं डॉक्यूमेंट्री पर्यावरण, कृषि, पारंपरिक ज्ञान, कृषि तकनीक और आदिवासी समुदायों से जुड़े मुद्दों पर आधारित थी।

"मैंने उनके द्वारा बनाई गई फिल्मों को देखकर गर्व महसूस किया, जो जंगलों, जल संसाधनों, भूमि और सामाजिक न्याय के बारे में थीं। जैव-विविधता आदिवासी समुदायों के साथ घनिष्ठ रूप से जुड़ी हुई है, "बनर्जी ने कहा।

भोपाल में प्रदर्शित डॉक्यूमेंट्री पर्यावरण, कृषि, पारंपरिक ज्ञान, कृषि तकनीक और आदिवासी समुदायों से जुड़े मुद्दों पर आधारित थी। यह 17 आदिवासी युवाओं का पहला बैच था जिन्होंने जीएचसीआई पाठ्यक्रम को सफलतापूर्वक पूरा किया। बनर्जी ने बताया कि अगले 2022-23 बैच के लिए 27 आदिवासी और ग्रामीण युवा नामांकित हैं।

डॉक्यूमेंट्री की स्क्रीनिंग में मुख्य अतिथि बीएलआरएफ के सीईओ प्रमथेश अंबस्ता ने कहा कि प्राकृतिक संसाधनों की कमी एक सच्चाई है जिसका आज दुनिया के सामने सामना करना पड़ रहा है।

उन्होंने कहा, "मध्य भारत के आदिवासी युवा विशेष रूप से पारिस्थितिक क्षति का खामियाजा भुगत रहे हैं और उनका जीवन और आजीविका गंभीर इससे प्रभावित हो रही है, "उन्होंने कहा। अंबस्ता ने कहा, "जीएचसीआई ने इन युवाओं को उनके समुदायों के सामने आने वाले मुद्दों पर बातचीत और संवाद शुरू करने के लिए एक मंच उपलब्ध कराया है।"

डॉक्यूमेंट्री के माध्यम से गढ़ी जा रही कहानियां

नरेंद्र पारधी गैर-अधिसूचित पारधी जनजाति से हैं, ग्रीन हब सेंट्रल इंडिया फेलो भी हैं। उन्होंने दो फिल्में बनाईं - गज ढूंढ रहे गलियारा और उमरिया, इकोटूरिज्म साइट (साथी विजय रामटेके के साथ)।

23 वर्षीय नरेंद्र ने गाँव कनेक्शन को बताया, "हम में से प्रत्येक को डस्टी फुट फाउंडेशन द्वारा भुगतान किए जाने वाले पांच हजार रुपये प्रति माह का वजीफा मिला।" "यह फेलोशिप मेरे लिए एक जीवन बदलने वाला अनुभव रहा है, क्योंकि मेरे पारधी समुदाय को एक 'अपराधी' जनजाति के रूप में देखा जाता है और संदेह की दृष्टि से देखा जाता है। फिल्म निर्माण सीखना मेरे लिए मुक्तिदायक अनुभव रहा है।"

यह 17 आदिवासी युवाओं का पहला बैच था जिन्होंने जीएचसीआई पाठ्यक्रम को पूरा किया। फोटो: निधि जम्वाल

कुछ ऐसा ही अनुभव मुकेश बैगा का भी रहा है। "अपनी फिल्म के माध्यम से, मैं अब गांवों में जैविक खेती के बारे में अधिक जागरूकता बढ़ा सकता हूं," उन्होंने कहा। "मेरी डॉक्यूमेंट्री - बोरी में लगी हज़ारों कमाई - दिखाती है कि इस तकनीक का उपयोग करके, फसलों को उगाए जाने वाले बोरियों में कैसे उगाया जा सकता है। यह खेती का एक कम खर्चीला तरीका है, कम पानी का उपयोग करता है और किसी भी रासायनिक इनपुट की आवश्यकता नहीं होती है, "उन्होंने समझाया।

आरती के अनुसार, फेलोशिप ने उन्हें 10 महीने के कार्यक्रम के दौरान फिल्म निर्देशन, निर्माण, कहानी और लेखन के बारे में सब कुछ सिखाया।

"मुझे लगता है कि फिल्में संचार का सबसे प्रभावशाली माध्यम हैं जो लोगों तक पहुंच, सूचना और शिक्षित कर सकती हैं और उन्हें बातचीत और चर्चा में शामिल कर सकती हैं, "उन्होंने जारी रखा।


आरती ने कहा कि आदिवासी युवा पर्यावरण और अपने स्वयं के समुदायों की भलाई के संरक्षक हैं, जिनकी रक्षा और पोषण दोनों की जरूरत है। "ग्रीन हब पर्यावरण की सुरक्षा के लिए काम करता है और आदिवासी जल, जंगल ज़मीन के करीब रहते हैं। पर्यावरण और आदिवासी एक सहजीवी संबंध साझा करते हैं और प्राकृतिक पर्यावरण के साथ-साथ, आदिवासियों की पहचान भी विलुप्त होने के खतरे का सामना कर रही है, "उन्होंने कहा।

भोपाल में जीएचसीआई महोत्सव में पद्मश्री जीएन देवी ने भी भाग लिया, जो भारतीय जनभाषा सर्वेक्षण और उनके द्वारा बनाई गई आदिवासी अकादमी के लिए जाने जाते हैं। उन्होंने अपने उद्घाटन भाषण के दौरान कहा, "दुनिया आदिवासियों द्वारा बताई जा रही आदिवासी समुदायों की कहानियों को सुनना चाहती है और ग्रीन हब ने छात्रों द्वारा बनाई गई फिल्मों के माध्यम से इसे शक्तिशाली तरीके से साकार किया है।"

अंग्रेजी में पढ़ें

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.