इन्हें फेंकिएगा नहीं, हम बताएंगे कैसे बढ़ाएं इनसे अपने घर की खूबसूरती

गुरप्रीत सिंह पेशे से इंजीनियर हैं और उनका शौक है बेकार लगने वाली चीजों को खूबसूरत और उपयोगी चीजों में बदलना। अपने कॉलम 'कबाड़ से कलाकारी' में इस बार गुरप्रीत हमें सिखा रहे हैं कि कैसे मिट्टी के टूटे-फूटे बर्तनों को फेंकने की जगह अपनी कलाकारी का इस्तेमाल कर घर को सजाने के काम में लाएं

इन्हें फेंकिएगा नहीं, हम बताएंगे कैसे बढ़ाएं इनसे अपने घर की खूबसूरती

हम भारतीय भले ही फ्रिज का इस्तेमाल करने लगे हों लेकिन हर गर्मियों में एक न एक घड़ा या सुराही जरूर खरीदते हैं। इनका इस्तेमाल है भी अच्छा, ईकोफ्रेंडली हैं ना। लेकिन जल्द ही इनमें से कोई चटक जाता है या कोई कहीं टूट-फूट जाता है। फिर हम या तो उसे आंगन, छत या लॉन में औंधा करके रख देते हैं, बहुत हुआ तो मिट्टी भरकर कोई फूलों वाला पौधा लगा देते हैं। लेकिन अब आप थोड़ा सा समय और थोड़ा प्लास्टर ऑफ पेरिस (पीओपी) खर्च करके इनसे सजीले फूलदान बना सकते हैं। यकीन मानिए जब आप इन्हें सजाएंगे तो देखने वाले जरूर पूछेंगे कहां से खरीदे? और कहीं आपने कह दिया, "हमने बनाए" तो ढेरों फरमाइशें मिल जाएंगी कि 'अबकी समय निकालकर हमारे लिए भी एक बना दीजिए ना!' खैर सपने बाद में देखिएगा पहले इस वीडियो को देखकर गुरप्रीत जी से यह कलाकारी भी सीख लीजिए:

सामग्री: कुछ टूटे-फूटे घड़े, सुराहियां, रेगमाल, आरी, मास्क, प्लास्टर ऑफ पेरिस, बाइंडिंग वायर

सावधानियां: आरी का इस्तेमाल संभाल कर करें, ग्लब्स और चश्मा पहन लें, मास्क का प्रयोग करें








आरी या बिजली के कटर से इन्हें काटें। धूल से बचने के लिए ग्लब्स, मास्क और चश्मा पहन लें


पीओपी की परतें चढ़ाने के बाद ये कुछ इस तरह दिखाई देंगे।


इन पर पेंट करने और रेगमाल से घिसने के बाद इनमें फूल सजाइए।


आधे टूटे बर्तनों में प्लाई लगाकर यूं दीवार पर सजा सकते हैं।


इस गोल सुराही पर रस्सी लपेट कर इसे एकदम नया लुक दिया गया है।


यह भी देखें: इस जन्माष्टमी पर कंकड़-पत्थर जोड़कर कान्हा लीजै बनाय
यह भी देखें: सूखी टहनियों और मुट्ठी भर पत्थरों से घर में आएगी रौनक
यह भी देखें: कबाड़ में मत बेचिए अर्थिंग वाला तार और पुराने बर्तन, इनसे सजेगा घर का कोना








Share it
Top