गाय या भैंस खरीदते समय इन बातों का रखें ध्यान

गाय या भैंस खरीदते समय इन बातों का रखें ध्यानपशुओं को खरीदते समय इन बातों का रखें ध्यान।

लखनऊ। पशुपालक महंगी कीमत पर पशुओं को खरीद तो लेते हैं लेकिन आगे चलकर दूध उत्पादन का कम हो जाना, पशु को पहले से कोई रोग होना जैसी कई समस्याओं का उन्हें सामना करना पड़ता है। इससे पशुपालक को नुकसान भी काफी होता है। इस समस्या से बचने के लिए पशुपालकों को पशु की शारीरिक बनावट, स्तन प्रणाली, उम्र, सेहत, प्रजनन क्षमता और वंशावली को ध्यान में रखकर ही खरीदना चाहिए।

दूध उत्पादन को देखें

बाजार में दुधारू पशु की कीमत उस पशु के दूध देने के हिसाब से ही तय होती है, इसलिए उसे खरीदने से पहले दो-तीन दिनों तक उसे खुद दुह कर देख लेना चाहिए। दुहते समय दूध की धार सीधी गिरनी चाहिए और दुहने के बाद थनों को सिकुड़ जाना चाहिए।

ये भी पढ़ें : पशु और प्रकृति से प्रेम इन आदिवासियों से सीखिए... पशुओं की प्यास बुझाने के लिए 3 महीने गुजारते हैं नदी के किनारे

पशु के शरीर की बनावट

एक अच्छे दुधारू पशु का शरीर आगे से पतला और पीछे से चौड़ा होता है। उसके नथुने खुले हुए और जबड़े मजबूत होते हैं। उस की आंखें उभरी हुई, पूंछ लंबी और त्वचा चिकनी व पतली होती है। दुधारू पशु की जांघ और गर्दन पतली होती है। उस के चारों थन एक समान लंबे, मोटे और बराबर दूरी पर होते हैं।

ये भी पढ़ें : गर्मी में पशु-पक्षियों के लिए लगाते हैं प्याऊ

उम्र

दूध का कारोबार करने के लिए दो-तीन दांत वाले कम आयु के पशु खरीदना काफी फायदेमंद होता है। पशुओं की उम्र का पता उन के दांतों की बनावट और संख्या को देखकर पता चल जाता है। दो साल की उम्र के पशु में ऊपर-नीचे मिलाकर सामने के आठ स्थायी और आठ अस्थायी दांत होते हैं। पांच साल की उम्र में ऊपर और नीचे मिला कर 16 स्थायी और 16 अस्थायी दांत होते हैं। छह साल से ऊपर की आयु वाले पशु में 32 स्थायी और 20 अस्थायी दांत होते हैं।

ये भी पढ़ें : WorldMalariaDay : इस गाँव में मच्छरदानी में बांधे जाते हैं पशु, लोग रखते हैं ख़ास ख्याल

प्रजनन क्षमता

सही दुधारू गाय या भैंस वही होती है, जो हर साल एक बच्चा देती है इसलिए पशु खरीदते समय उस का प्रजनन रिकॉर्ड जान लेना जरूरी है। प्रजनन रिकॉर्ड ठीक नहीं होने से पशुओं में कमजोरी, गर्भपात होना, स्वस्थ बच्चा नहीं जनना, प्रसव में दिक्कतें जैसी कई परेशानियां सामने आ सकती है।

ये भी पढ़ें : ललितपुर के ऐतिहासिक अंजनी मेले में पशु बिक्री पड़ रही फीकी

ये भी देखें : इस डेयरी में गोबर से सीएनजी और फिर ऐसे बनती है बिजली

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top