रविवार रात हुई बारिश से जानिए किसको हुआ फायदा और किसको नुकसान

रविवार रात हुई बारिश से जानिए किसको हुआ फायदा और किसको नुकसानफाइल फोटो।

लखनऊ। बीते कुछ दिनों से गर्मी का कहर छाया हुआ था, रविवार को भी पूरा दिन गर्मी की वजह से लोग काफी परेशान हुए, लेकिन रात करीब 11.30 बजे लखनऊ के साथ-साथ कई अन्य जिलों में आई जोरदार आंधी और बारिश की वजह से मौसम सुहाना हो गया है। गर्मी काफी कम हो गई है। इस बारिश से एक तरफ जहां गर्मी से राहत मिली है वहीं इससे कुछ किसानों को फायदा तो कुछ किसानों नुकसान भी हुआ है।

धान की पौध तैयार करने का समय आ गया है, किसान धान की फसल के लिए उसकी पौध की बीजाई करने वाले हैं इस लिए ऐसे समय पर हुई बारिश किसानों के लिए कुछ राहत की सांस लेने वाला है। इस बारिश से खेतों में ठीक-ठाक नमी हो गई है, जिससे किसान को पौध की बुवाई करने के लिए कम पानी की जरूरत पड़ेगी और किसान का खर्चा कम होगा। इसके साथ ही जो किसान दूसरी फसलों की बुवाई करना चाहते हैं उनको भी फायदा हुआ है। इस समय फूलगोभी, खीरा-ककड़ी, लोबिया, करेला, लौकी, तुरई, पेठा, बीन, भिण्‍डी, टमाटर, प्‍याज, चौलाई और शरीफा की बुवाई की जाती है।

रायबरेली जिले के बछरावां ब्लॉक से 10 किलोमीटर दूर पूर्व दिशा में हरदोई ग्राम सभा के अंचल चौधरी (25 वर्ष) ने बताया, ''इस बारिश से किसान को फायदा तो होता, लेकिन बारिश ज्यादा हुई ही नहीं मैं ट्रैक्टर लेकर अपने खेतों में गया था लेकिन खेतों की यह स्थिति तक नहीं है कि उसमें हल चलाया जा सके और मैं वापस लौट आया।''

ये भी पढ़ें : बारिश के मौसम में कैसे करें खीरे की उन्नत खेती

इस बारिश से ज्यातर किसानों को फायदा ही हुआ है, क्योंकि जो किसान नर्सरी की बुआई करना चाहते हैं उनको भी पानी की जरूत थी, गन्ना किसानों को भी पानी का काफी जरूरत थी।
डॉ. दयाशंकर श्रीवास्तव, कृषि वैज्ञानिक, कृषि विज्ञान केंद्र, कटिया, सीतापुर

उन्होंने कहा, ''इस बारिश के बाद उन किसानों को थोड़ा ध्यान रखना होगा जिनकी मेंथा की फसल कटने वाली है, वो अभी मेंथा की कटाई न करें, क्योंकि मेंथा की कटाई करने से पहले करीब दस दिन तक खेत में नमी इकदम नहीं रखनी चाहिए, क्योंकि नमी रहने से तेल कम निकलता है।'' इसके साथ ही उन्होंने कहा कि बारिश से आम की फसल को भी फायदा हुआ है, लेकिन बारिश के साथ आई आंधी से उन किसानों को नुकसान हुआ है, क्योंकि आंधी की बजह से कच्चे आम काफी मात्रा में टूट कर गिर गए हैं।

वहीं हरदोई से 4 किलोमीटर आगे राघोपुर गाँव के गोपाल तिवारी (31 वर्ष) बताते हैं कि इस बरसात से आम के पेड़ों के लिए काफी फायदा होगा और इस बरसात से जामुन के पेड़ों पर भी अच्छा फर्क पड़ेगा।

ये भी पढ़ें :

अधिक मुनाफे के लिए करें फूलगोभी की अगेती खेती

जानिए किसान अच्छी पैदावार के लिए किस महीने में करें किस सब्ज़ी की खेती

किसान अगले तीन महीने में इन औषधीय फसलों की कर सकते हैं बुवाई

जानिए गन्ना किसान जनवरी से दिसम्बर तक किस महीने में क्या करें ?

जानिए कैसे करें पैडी ट्रांसप्लांटर से धान के पौध की रोपाई ?

Share it
Top