आलू बोने के लिए महिंद्रा ने तैयार की खास मशीन, किसानों को मिलेगी ज्यादा पैदावार

महिंद्रा एंड महिंद्रा कंपनी ने आलू उत्पादक किसानों के लिए प्लांटिंगमास्टर पोटैटो नाम से एक नई मशीन लांच की है। इस मशीन के इस्तेमाल से आलू की बुवाई सटीक हो सकेगी, साथ ही किसानों को ज्यादा पैदावार भी मिल सकेगी।

आलू बोने के लिए महिंद्रा ने तैयार की खास मशीन, किसानों को मिलेगी ज्यादा पैदावारमहिंद्रा एंड महिंद्रा कंपनी की आलू बोने की इस मशीन का नाम है प्लांटिंगमास्टर पोटैटो।

आलू बोने के लिए महिंद्रा एंड महिंद्रा कंपनी ने किसानों के लिए नई मशीन लांच की है। प्लांटिंगमास्टर पोटैटो नाम के इस उपकरण के इस्तेमाल से किसानों को पारंपरिक पैदावार के मुकाबले 20 से 25 फीसदी ज्यादा पैदावार मिली।

महिंद्रा एंड महिंद्रा कंपनी ने इस मशीन को फिलहाल कुछ राज्यों में ही पेश किया है। कंपनी ने अपने एक बयान में कहा, प्लांटिंगमास्टर पोटैटो नाम की इस मशीन को कंपनी ने यूरोप में अपने पार्टनर डेवुल्फ के साथ मिलकर तैयार किया है। ये मशीन भारत में खेती के लिए अनुकूल है और किसानों को उन्नत गुणवत्ता के साथ आलू की ज्यादा पैदावार भी देगी।

पिछले साल कंपनी ने पंजाब में प्रगतिशील किसानों के साथ इस मशीन के साथ सटीक आलू बोने की तकनीक का इस्तेमाल किया था। इस मशीन का इस्तेमाल करने के बाद किसानों को पारंपरिक खेती की बजाए आलू की ज्यादा पैदावार मिल सकी।

ये भी पढ़ें- आलू की नई किस्म 'कुफरी नीलकंठ' की खेती से मिलेगा ज्यादा उत्पादन


ये भी पढ़ें- अब हवा में आलू उगाने की तैयारी, किसानों को मिल सकेगी सात गुना अधिक पैदावार

महिंद्रा कंपनी के एफईएस (कृषि उपकरण केंद्र) के अध्यक्ष हेमंत सिक्का ने कहा, "भारत दुनिया में दूसरा सबसे बड़ा आलू उत्पादक देश है, मगर पैदावार और उच्च गुणवत्ता के मामले में पीछे है। अपने देश में प्रति एकड़ उपज 8.5 टन है, जबकि नीदरलैंड्स में 17 टन प्रति एकड़ है, इसलिए हम यह मशीन पैदवार बढ़ाने और गुणवत्ता में सुधार के लिए ला रहे हैं।"

हेमंत सिक्का ने अपने बयान में कहा, फसल की पैदावार को बढ़ाने में कई तत्वों की भूमिका होती है, मगर पैदावार बढ़ाने में इस कृषि उपकरण का उपयोग सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण है।

फिलहाल यह मशीन किसानों के लिए अभी कुछ राज्यों में ही उपलब्ध है। इसे पंजाब में बिक्री के लिए रखा गया है, इसके अलावा उत्तर प्रदेश में बिक्री के साथ किराये पर भी यह मशीन किसानों को मिल सकेगी। साथ ही महिंद्रा के किराये उद्यमी नेटवर्क के जरिए गुजरात के किसानों के लिए भी यह मशीन किराये पर उपलब्ध होगी।

यह भी पढ़ें : छोटे किसानों का मददगार बनेगा नया सोलर स्प्रेयर

कहीं आपकी धान की फसल को भी तो बर्बाद नहीं कर रहा है निमेटोड

ये भी पढ़ें- इजराइल के किसान रेगिस्तान में पालते हैं मछलियां और गर्मी में उगाते हैं आलू


Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.