इस बार टमाटर की खेती ने रुलाया किसान को जानिए क्यों?

Lokesh Mandal shuklaLokesh Mandal shukla   30 May 2017 4:41 PM GMT

इस बार टमाटर की खेती ने रुलाया किसान को जानिए क्यों?इस बार टमाटर के भाव में 30 फीसदी तक की गिरावट आई है।

कम्युनिटी जनर्लिस्ट

रायबरेली। “पिछले साल की अपेक्षा इस बार टमाटर के भाव में 30 फीसदी तक की गिरावट आई है।” ये कहना है 65 वर्षीय किसान रतिपाल का। रतिपाल बताते हैं, सोचा था कि इस साल फसल अच्छी हुई है और मुनाफा भी अच्छा होगा तो बिटिया के ब्याह की कुछ तैयारी हो जाएगी लेकिन यहां तो सब सत्यानाश हो गया।

कोल्ड स्टोरेज न होने से बर्बाद होती हैं 40 प्रतिशत सब्जियां

पिछले साल टमाटर की फसल का भाव बाजार में काफी अच्छा था, जिसको देखकर जिन किसानों ने टमाटर की खेती बंद कर दी थी उन किसानों ने भी बड़ी उम्मीद के साथ इस साल टमाटर की खेती की थी । लेकिन बाजार में अच्छा भाव ना मिलने के कारण किसान को भारी मात्रा में नुकसान का सामना करना पड़ रहा है।

ये भी पढ़ें- बरेली के किसानों ने बड़े पैमाने पर शुरू की टमाटर की खेती

इलाहाबाद लखनऊ राज मार्ग पर स्थित बछरावां ब्लॉक से महज 6 किलोमीटर दूर रानीखेड़ा गाँव में टमाटर के सीजन में लगभग आधे से ज्यादा गाँवों के किसान टमाटर की खेती करते हैं और जिन किसानों के पास खेती नहीं है वह किसान उसी गाँव में दूसरे किसानों के यहां मजदूरी करते हैं। लेकिन इस बार ऐसा हुआ कि टमाटर की पैदावार तो खूब हुई लेकिन बाजार में उस का भाव इतना गिर गया कि उसे तुड़वाने तक का पैसा नहीं निकल पा रहा है।

मजदूरों को करना पड़ रहा है तंगहाली का सामना

टमाटर के खेत में मजदूरी करने वाले मजदूर किसान प्यारे (35वर्ष) बताते हैं, “इस बार किसान तुड़ाई नहीं करवा रहे हैं ऐसे में हम मजदूरों को सीजन में भी काफी तंगी का समना करना पड़ रहा है जब भाव अच्छा था तो हमें एक दिन का 200 से 250 तक मिलता था और कभी-कभी 100- 50 रुपए अलग से भी मिल जाता था।”

ये भी पढ़ें- नया नहीं है बैलों की मदद से बिजली बनाने का आइडिया, यहां सालों से बैलों की मदद से पैदा की जा रही बिजली

पिछले 10 से 12 साल से टमाटर का व्यापार कर रहे रामहर्ष वर्मा बताते हैं कि पिछले साल टमाटर 400 से 500 रुपए प्रति कैरेट तक बिका था लेकिन इस साल तो लगता है कि टमाटर का भाव अब बढ़ेगा ही नहीं। इस समय टमाटर 40 से 50 रुपए कैरट में बिक रहा है और हम अगर हम चाहें कि कहीं बाहर की मंडी में इसे बेचें तो भाड़ा किराया मिलाकर लगभग उतना ही अनुपात आता है।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top