आम तोड़ने से लेकर पकाने का सही तरीका जान लीजिए, बाजार में मिलेगा अच्छा दाम

सभी आम उत्पादक किसान को पता होना चाहिए कि आम को पेड़ से कब और किस तकनीक से तोड़ना है। चाहे आपके पास एक ही पेड़ हो, या एक पूरा बाग हो, आम की तुड़ाई की जानकारी बेहद ज़रूरी है।

Dr SK SinghDr SK Singh   14 May 2024 12:51 PM GMT

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • koo
आम तोड़ने से लेकर पकाने का सही तरीका जान लीजिए, बाजार में मिलेगा अच्छा दाम

आम तोड़ने, पकाने का समय मई के अंतिम सप्ताह से लेकर अगस्त तक होता है। उसे पेड़ से हमेशा 8 से 10 सेंटीमीटर लंबी डंठल के साथ तोड़ें; ऐसा करने से आम बर्बाद होने से बच जाते हैं और पकने के बाद भी उनमें ताजगी रहती है।

आम को कब तोड़ना है कैसे पहचानें?

एक परिपक्व आम के फल की तुड़ाई करने में फलों के सेट होने से लेकर तुड़ाई के बीस लगभग 120 से 140 दिन लगते हैं। यह प्रजाति के अनुसार अलग अलग होते हैं। परिपक्व होने पर आम के फल के कंधे ऊपर उठ जाते हैं, और आंशिक रूप से डंठल से जहाँ जुड़े होते हैं, धंस जाते हैं। गहरे हरे फल परिपक्वता के समय हल्के पीले रंग में बदलने लगते हैं। कुछ आम की किस्मों में, फल की त्वचा पर एक सफेद परत परिपक्वता पर बनती है। बाग में जब आम के फल अपने आप पक कर गिराने लगते हैं, तब भी बागवान समझ जाता है की अब आम की तुड़ाई की जा सकती हैं।

आम की तुड़ाई के समय ध्यान देने योग्य बातें

फलों की तुड़ाई हमेशा सूर्योदय से पूर्व या शाम के समय करना चाहिए। तुड़ाई के बाद फलों को कभी भी सीधे धूप में न रखें।

तुड़वाई करते समय फलों को ज़मीन पर गिरने से बचाना चाहिए। कुशल तुड़वाई और फलों के संग्रह के लिए ब्लेड और नायलॉन नेट के साथ विशेष आम हार्वेस्टर का उपयोग करें।

तुड़ाई के समय ध्यान देना चाहिए कि फल से निकल रहे स्राव फल के ऊपर न पड़े। फलों की कटाई के तुरंत बाद, उन्हें पहले छायादार स्थान पर इकट्ठा किया जाना चाहिए ताकि बाग की गर्मी को दूर किया जा सके और उसके बाद भंडारण से पहले धोया और सुखाया जाना चाहिए।


आम तुड़वाई से पहले किसी भी प्रकार का कोई भी उर्वरक का प्रयोग भी करना चाहिए इससे कोई फायदा नहीं है। जब फल पूर्ण आकार प्राप्त कर लेते हैं, तो आम के बाग को पानी देना बंद कर देना चाहिए, इससे आम के पकने की प्रक्रिया में तेज़ी आती है।

फलों की तुड़ाई से तीन सप्ताह पूर्व थायोफेनेट मिथाइल 70 डब्ल्यू0 पी0 1 ग्राम प्रति लीटर पानी में घोलकर छिड़काव करने से फल की तुड़ाई के बाद होने वाले नुकसान से बचा जा सकता है। अगर संभव हो तो तुड़ाई सिकेटियर की सहायता से करें।

फलों की तुड़ाई के बाद उसमें से रस का श्राव होता है। श्राव से फल खराब हो सकते है, इसलिए फलों को उल्टा रख कर स्राव से फलों को बचाना चाहिए।

तुड़ाई के बाद आम का उपचार कैसे करें?

फलों से भरे क्रेट को गर्म पानी में पूरी तरह से डुबोने के लिए टैंक को पर्याप्त साफ पानी से भरें। पानी को 48°C तक गर्म करें। उपचारित किए जाने वाले आम को प्लास्टिक के क्रेट में डाले। टोकरा फलों को गर्मी से होने वाले नुकसान से बचाता है क्योंकि यह टैंक के गर्म किनारों और तल के संपर्क को रोकता है। आम पानी में तैरते हैं, इसलिए टोकरे के ऊपर एक आवरण, जैसे जाल रखें। टोकरे को 20 मिनट के लिए गर्म पानी में डुबोएं, अगर पानी को प्रसारित करने के लिए कोई पंप नहीं है, तो टैंक में एक समान तापमान सुनिश्चित करने के लिए पानी को बीच बीच में हिलाते रहे।


तापमान को कभी भी 50 डिग्री सेल्सियस से ऊपर न बढ़ने दें अन्यथा फल जल जाएगा या घायल हो जाएगा। अगर फलों को दूर के बाज़ार में ले जाना है, तो उपचारित आम को ठंडे पानी, जिसमे 1 प्रतिशत सोडियम बायकार्बोनेट 10 ग्राम दवा प्रति लीटर पानी की दर से एवं इसी घोल में थायोफैनेट मिथाइल 70 प्रतिशत डब्ल्यू/डब्ल्यू कवकनाशी 1 ग्राम प्रति 2 लीटर पानी में डुबोकर 10 मिनट तक ठंडा करें। पैकिंग से पहले फलों को ठंडा होने दें और सूखने दें। ब्लोअर या पंखा के सामने टोकरियाँ रखकर तेज़ी से सुखाया जा सकता है। अगर फल ठीक से नहीं सूखे होंगे तो सड़ सकते हैं।

आम को पकाने की वैज्ञानिक विधि

उपरोक्त तरीके से आम के फल को उपचारित करने के बाद, प्रभावी ढंग से और सुरक्षित तरीके से पकाने के लिए कई वैज्ञानिक तरीके अपनाए जा सकते हैं, साथ ही उनकी गुणवत्ता भी बरकरार रखी जा सकती है।

1. नियंत्रित वातावरण भंडारण

नियंत्रित वातावरण भंडारण में फलों के आस-पास ऑक्सीजन, कार्बन डाइऑक्साइड और एथिलीन के स्तर को नियंत्रित करना शामिल है, ताकि पकने को नियंत्रित किया जा सके। इन कारकों को समायोजित करके, आम को धीरे-धीरे और समान रूप से पकाया जा सकता है।

2. एथिलीन उपचार

आम को एथिलीन गैस के संपर्क में लाना पकने में तेजी लाने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली एक आम विधि है।

एथिलीन फलों के पकने में शामिल जीन की अभिव्यक्ति को ट्रिगर करता है, जिससे रंग, बनावट और स्वाद में बदलाव होता है। पके फलों या एथिलीन-रिलीजिंग यौगिकों जैसे इथेफॉन को आम के पास रखकर एथिलीन उपचार प्राप्त किया जा सकता है। अधिक पकने या खराब स्वाद से बचने के लिए एथिलीन के संपर्क की सांद्रता और अवधि को नियंत्रित करने के लिए सावधानी बरतनी चाहिए।

एक सरल और हानि रहित तकनीक में, 10 मिलीलीटर ईथरल और 2 ग्राम सोडियम हाइड्रॉक्साइड को एक चौड़े मुंह वाले बर्तन में पाँच लीटर पानी में मिलाया जाता है। इस बर्तन को फलों और कमरे के पास पकने वाले कक्ष (वायु रोधी) के अंदर रखा जाता है। कमरे का लगभग एक तिहाई हिस्सा हवा के संचालन के लिए शेष क्षेत्र को छोड़कर फलों से भरा होता है।


फलों को 12 से 24 घंटों के लिए इस कक्ष में रखा जाता है। रसायन की लागत को कम करने के लिए, इथाइलीन उत्सर्जन करने वाले फल जैसे पपीता और केला भी उसी कमरे में रखने से फल जल्दी पक जाते हैं।

एक अन्य तरीका यह है कि फलों को एयर टाइट कक्ष के अंदर पकने के लिए रखा जाए और कक्ष में धुआं किया जाये। धुआं एसिटिलीन गैस का उत्सर्जन करता है। कई फल व्यापारी इस तकनीक का उपयोग करते हैं, खासतौर पर पपीता, केला और आम जैसे खाद्य फलों को पकाने के लिए। लेकिन इस पद्धति का मुख्य दोष यह है कि फल एक समान रंग और स्वाद प्राप्त नहीं करते हैं। इसके अलावा, उत्पाद पर धुएं की गंध फल की गुणवत्ता को बाधित करती है।

भण्डारण से पहले फलों को धो लेना चाहिए। धोने के बाद फलों को एक समान पकाने के लिए ज़रूरी है कि इसे इथरेल नामक दवा 1.5 मिली दवा प्रति लीटर पानी में घोलकर 5-7 मिनट डुबोकर भण्डारण करना चाहिए। इसी घोल में थायोफेनेट मिथाइल नामक फफूंद नाशक 1 ग्राम प्रति 2 लीटर पानी की दर से मिला देने से इसे अधिक समय पर भंडारित किया जा सकता है। वैसे यह विधि पूरी तरह से वैज्ञानिक नहीं है, सलाह दिया जाता है की फलों को सीधे इथरेल के संपर्क में नही आने देना चाहिए।

3. तापमान और आर्द्रता नियंत्रण

आम के पकने को नियंत्रित करने के लिए इष्टतम तापमान और आर्द्रता की स्थिति आवश्यक है। नमी के नुकसान को रोकने के लिए आर्द्रता के स्तर को नियंत्रित करते हुए तापमान को आदर्श सीमा के भीतर बनाए रखने के लिए तापमान-नियंत्रित रखने वाले कमरे या कक्षों का उपयोग किया जा सकता है। पकने की पूरी प्रक्रिया के दौरान निगरानी और समायोजन करने से लगातार गुणवत्ता और एक समान पकने की प्रक्रिया सुनिश्चित होती है।

आम को कभी भी कार्बाइड से नहीं पकाना चाहिए क्योंकि यह सेहत के लिए ये खतरनाक है।

Mango Farming Kisaan Connection 

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.