फलों की नई बाग लगाना चाहते हैं? जून के आखिरी हफ्ते से लेकर सिंतबर तक लगा दें पौधे

अगर आप भी बाग लगाना चाहते हैं तो सही जगह, जलवायु, मिट्टी की गुणवत्ता, पानी की उपलब्धता जैसी कुछ जरूरी बातों का ध्यान रखना चाहिए।

Dr SK SinghDr SK Singh   8 Jun 2024 10:18 AM GMT

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • koo
फलों की नई बाग लगाना चाहते हैं? जून के आखिरी हफ्ते से लेकर सिंतबर तक लगा दें पौधे

बारिश होने के साथ ही नई बाग लगाने का काम शुरु हो जाता है, लेकिन कई बार किसानों को नहीं पता होता कि कौन सी किस्म लगाएँ या फिर नई पौध लगाने का सही तरीका क्या होता है? ऐसे में उन्हें नुकसान भी उठाना पड़ता है। चलिए जानते हैं क्या है बागवानी का सही तरीका।

अपने जलवायु के हिसाब से करें रोपाई

सुनिश्चित करें कि जलवायु आम और लीची के पेड़ों के लिए उपयुक्त हो। आम उष्णकटिबंधीय और उपोष्णकटिबंधीय जलवायु में पनपते हैं, जबकि लीची उपोष्णकटिबंधीय जलवायु को पसंद करती है।

मिट्टी की गुणवत्ता का रखें ध्यान

उर्वरता, पीएच (आम के लिए इष्टतम सीमा: 5.5-7.5; लीची: 5.0-7.0), जल निकासी और बनावट के लिए मिट्टी का परीक्षण करें। दोनों पेड़ अच्छी जल निकासी वाली, रेतीली दोमट मिट्टी पसंद करते हैं।

कर लें सिंचाई की व्यवस्था

एक विश्वसनीय जल स्रोत सुनिश्चित करें, क्योंकि आम और लीची दोनों के पेड़ों को नियमित रूप से पानी की ज़रूरत होती है, खासकर शुष्क मौसम और शुरुआती स्थापना अवधि के दौरान। समान जल वितरण और संरक्षण सुनिश्चित करने के लिए ड्रिप सिंचाई जैसी कुशल सिंचाई प्रणाली लागू करें।

सूर्य का प्रकाश

दोनों पेड़ों को सही विकास और फल उत्पादन के लिए पूर्ण सूर्य के प्रकाश की ज़रूरत होती है।

एक पेड़ से दूसरे पेड़ की सही दूरी

पेड़ों के बीच उचित दूरी (आम: 10-12 मीटर की दूरी पर; लीची: 8-10 मीटर की दूरी पर) अच्छी वायु परिसंचरण, सूर्य के प्रकाश की पैठ और रखरखाव में आसानी सुनिश्चित करती है।

हवा से सुरक्षा

पेड़ों को तेज़ हवाओं से बचाने के लिए हवारोधी बाड़ लगाने की योजना बनाएँ, जो पेड़ों और फलों को नुकसान पहुँचा सकती हैं।

सही किस्म का करें चुनाव

उच्च उपज, रोग प्रतिरोधी और बाज़ार में पसंद की जाने वाली किस्में चुनें। स्थानीय प्राथमिकताओं और विशिष्ट किस्मों की उपयुक्तता पर शोध करें। विशेष जानकारी के लिए नजदीकी कृषि विज्ञान केंद्र के वैज्ञानिकों या सरकार द्वारा नियुक्त प्रसार कार्यकर्ता से संपर्क करें।


परागण: यदि कई किस्में लगाई जा रही हैं तो लीची के लिए क्रॉस-परागण संगतता सुनिश्चित करें। आम आम तौर पर स्व-परागण करते हैं, लेकिन कुछ किस्मों को क्रॉस-परागण से लाभ होता है।

रोपाई का सही समय

इष्टतम स्थापना के लिए बरसात के मौसम की शुरुआत में पेड़ लगाएँ। बिहार की कृषि जलवायु में बाग लगाने का सर्वोत्तम समय जून के अंतिम सप्ताह (पहली अच्छी वर्षा के बाद) से लेकर 15 सितंबर तक लगा सकते हैं।

खेत की तैयारी: भूमि को साफ करें, खरपतवार निकालें और उचित आयामों (आम: 1x1x1 मीटर; लीची: 0.75x0.75x0.75 मीटर) के साथ रोपण गड्ढे तैयार करें।

मिट्टी में सुधार: मिट्टी की उर्वरता बढ़ाने के लिए रोपण गड्ढों में कार्बनिक पदार्थ और उर्वरक डालें।

पेड़ों की देखभाल: स्वस्थ विकास और उच्च पैदावार के लिए नियमित छंटाई, कीट और रोग प्रबंधन, और पोषण संबंधी सहायता जरूरी है।

मल्चिंग: नमी बनाए रखने, खरपतवारों को नियंत्रित करने और मिट्टी के स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए पेड़ों के आधार के चारों ओर मल्च लगाएँ।

भंडारण और प्रसंस्करण सुविधाएँ: भंडारण, ग्रेडिंग, तथा पैकेजिंग इकाइयों जैसी कटाई के बाद की सुविधाओं की योजना बनाएँ।

पहुँच और परिवहन: इनपुट और उपज के परिवहन के लिए अच्छी पहुँच सड़कें सुनिश्चित करें।

एकीकृत कीट प्रबंधन (आईपीएम)

रासायनिक उपयोग को कम करने और लाभकारी जीवों की रक्षा करने के लिए आईपीएम को लागू करें।

फलों से बना सकते हैं कई तरह के उत्पाद

सूखे आम के स्लाइस या लीची के रस जैसे मूल्य-वर्धित उत्पादों के लिए अवसरों का पता लगाएँ। इन कारकों पर विचार करके, आप एक उत्पादक और टिकाऊ आम और लीची का बाग स्थापित कर सकते हैं।

#mango 

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.